जसप्रीत बुमराह का सामना करने के लिए ब्रायन लारा ने अपने खिलाड़ियों को दी सलाह

नई दिल्लीः जसप्रीत बुमराह का सामना करने के लिए वेस्ट इंडीज के रिटायर्ड व महान बल्लेबाज ब्रायन लारा ने अपने खिलाड़ियों को सलाह दी है। उन्होंने खुलासा किया है कि अगर वे आज वनडे क्रिकेट खेलते और दुनिया के मौजूदा नंबर वन गेंदबाज जसप्रीत बुमराह का सामना करते तो क्या करते? ब्रायन लारा ने जसप्रीत बुमराह को कैसे परेशान किया जाता इसका भी जिक्र किया है। ब्रायन लारा ने कहा है वे बुमराह पर अटैक नहीं करते बल्कि स्ट्राइक रोटेट कर उन्हें परेशान करते।
टेस्ट क्रिकेट में 400 रन की पारी खेलने वाले दुनिया के पहले और अभी तक आखिरी खिलाड़ी ब्रायन लारा ने कहा कि वह जसप्रीत बुमराह के खिलाफ वनडे क्रिकेट में अटैक करने की नहीं सोचते बल्कि एक-एक रन लेकर बुमराह को परेशान करते। लारा ने कहा कि वह भारतीय गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को अपने खिलाफ जमने का मौका नहीं देते। बता दें कि जसप्रीत बुमराह डेथ ओवर्स स्पेशलिस्ट तो हैं ही साथ ही साथ विकेट चटकाने में माहिर हैं।
ब्रायन लारा ने कहा, “पहली बात, अगर मैं उन्हें खेल रहा होता। मैं स्ट्राइकर बदलना चाहता (हंसते हुए)। वह बेहतरीन गेंदबाज हैं और ऐसे हैं जिनका एक्शन थोड़ा अजीब सा है। बल्लेबाजों को उन पर निगाहें रखनी होती हैं और मैं होता तो मैं स्ट्राइक रोटट कर उन पर दबाव बनाता। वनडे में आपके पास सिंगल लेने के बहुत मौके होते हैं।”
कैरेबियाई दिग्गज ने कहा, “अतीत में आपने देखा होगा कि बल्लेबाज मुथैया मुरलीधरन और सुनील नरेन जैसे खिलाड़ियों पर रनों के लिए जाते थे। यह काफी मुश्किल होता है और बुमराह के खिलाफ करना मुश्किल है। मैं बल्लेबाजों से कहता कि उनके ओवर में छह सिंगल लो। वह भारत के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में से एक हैं और शायद इसके बाद आप कुछ और एरिया में उनके खिलाफ रन बनाने के बारे में सोच सकते हो।”
काउंटर अटैक में विश्वास नहीं करता
ब्रायन लारा ने आगे कहा, “मैं काउंटर अटैक में विश्वास नहीं करता, इस तरह के गेंदबाज के खिलाफ यह अच्छा विचार नहीं होता। उनका एक दिन बुरा हो सकता है और बल्लेबाज इसका फायदा उठा सकते हैं।” इसके अलावा ब्रायन लारा ने विराट कोहली को लेकर कहा कि वे इंसान नहीं हैं, मशीन हैं। लारा ये भी मानते हैं कि टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने गेम को बदला है। बाएं हाथ के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज ब्रायन लारा ने कहा, “वह मशीन हैं। हम 80-90 में जिन बल्लेबाजों को देखा करते थे कोहली ने उन सभी को एक साथ टेबल पर ला दिया है। फिटनेस हमेशा से अहम रही है लेकिन इतनी नहीं जितनी अब है। जितनी क्रिकेट खेली जा रही है उसके हिसाब से फिट होना बेहद जरूरी है। वह जिम में समय बिताना पसंद करते हैं। वह रन मशीन हैं।”

शेयर करें

मुख्य समाचार

टाला ब्रिज पर डायवर्सन के कारण 100 मिनी बसें चलाएगा परिवहन विभाग

वाहनों के डायवर्सन से यात्रियों को नहीं होगी समस्याः शुभेन्दु अधिकारी कोलकाताः टाला ब्रिज पर बस व भारी वाहनों की पाबंदी के बाद बड़े पैमाने पर आगे पढ़ें »

बीजीबी की कार्रवाई बेवजह, हमने नहीं चलाई एक भी गोलीः बीएसएफ

मुर्शिदाबादः बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के जवानों ने बीएसएफ के जवान को लक्ष्य कर जानबूझकर चलायी थी गोली। यह मानना है सीमा पर तैनात बीएसएफ आगे पढ़ें »

ऊपर