क्रिकेटर रविंद्र जडेजा की पत्नी ने थामा भाजपा का दामन

बड़े नेताओं की मौजूदगी में ली पार्टी की सदस्यता
राजनीति में आने से जडेजा का कोई लेना-देना नहींः रिवाबा
अहमदाबादः भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार आलराउंडर ने रविंद्र जडेजा की पत्नी रिवाबा जडेजा ने आगामी लोकसभा चुनावों से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का दामन थाम लिया है। करणी सेना की महिला विभाग की अध्यक्ष रिवाबा ने जामनगर में बीजेपी की सदस्यता ली।
रिवाबा ने बीजेपी के साथ जड़ने के सवाल पर कहा ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मेरे प्रेरणास्रोत हैं और उनकी वजह से ही मैंने भाजपा से जुड़ने का फैसला किया है। मुझे भरोसा है कि बीजेपी से जुड़कर मैं अपने समुदाय के साथ ही साथ देश के लिए भी बेहतर कर सकूंगी।’ गुजरात सरकार में मंत्री आरसी फाल्दू, सांसद पूनम महाजन और अन्य नेताओं की मौजूदगी में रिवाबा बीजेपी में शामिल हुईं।
रिवाबा ने सिलेब्रिटी का दर्जा पा चुके अपने पति जडेजा के बारे में सवाल पर कहा ‘जडेजा पर केवल राजपूत बिरादरी को ही नहीं, बल्कि देश के युवाओं को भी गर्व है। वह यूथ आइकन हैं और इससे पार्टी को फायदा होगा। लेकिन राजनीति से और मेरे बीजेपी जॉइन करने का उनसे कुछ लेना-देना नहीं है। बीजेपी से जुड़ने पर मैं खुद अपनी पहचान बना सकूंगी। इससे देश की महिलाओं को भी सशक्त करने में सहायता मिलेगी।’
देश की सेवा करना है लक्ष्य
उन्होंने कहा ‘हां यह सच है कि मैंने लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी जॉइन किया है। लेकिन इसको किसी तरह के चुनावी फायदे की मानसिकता के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए। मेरा इरादा पार्टी, समुदाय और देश की सेवा करना है।’ रिवाबा अभी करणी सेना से जुड़ी हुई हैं, जो राजपूत समुदाय का एक संगठन है। हाल ही में इस संगठन ने पद्मावत फिल्म का विरोध किया था।
जामनगर के बीजेपी जिला अध्यक्ष चंद्रेश पटेल ने कहा ‘रिवाबा के बीजेपी जॉइन करने से निश्चित तौर पर पार्टी को फायदा होगा। उनके साथ रविंद्र जडेजा भी हैं, जिससे युवाओं और महिलाओं को आकर्षित करने में मदद मिलती है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

अर्दली बाजार इलाके में अभियान चलाकर पुलिस ने बरामद किये हथियार

बैरकपुर : बैरकपुर थाने की पुलिस ने सोमवार की रात को मिली गुप्त सूचना के आधार पर मंगलवार की सुबह बैरकपुर सदर के अर्दली बाजार आगे पढ़ें »

संविधान का दुरुपयोग कर रही है केंद्र सरकार : काकुली

कोलकाता : विधानसभा चुनाव का समय जैसे-जैसे करीब आ रहा है राज्य में राजनीतिक सरगर्मियां उतनी ही तेजी से बढ़ रही हैं। तृणमूल केंद्र की आगे पढ़ें »

ऊपर