चीन बॉयकाट : आईपीएल से आउट हुआ वीवो

नयी दिल्ली : भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और चीनी मोबाइल कंपनी वीवो ने भारत और चीन के बीच सीमा पर उपजे तनाव के चलते 2020 में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें संस्करण के लिए अपना करार निलंबित करने का फैसला किया है। बीसीसीआई ने गुरूवार को मात्र एक लाइन का बयान जारी कर यह जानकारी दी।
19 सितम्बर से 10 नवम्बर तक होगा आयोजन
आईपीएल के 13वें संस्करण का आयोजन 19 सितम्बर से 10 नवम्बर तक संयुक्त अरब अमीरात में होना है। हालांकि बीसीसीआई को इसके लिए अभी भारत सरकार की मंजूरी का इन्तजार है। बीसीसीआई ने एक लाइन का बयान जारी कर कहा कि भारतीय बोर्ड और वीवो मोबाइल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने फैसला किया है कि 2020 में आईपीएल के लिए उनकी साझेदारी को निलंबित कर दिया जाए। भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव के चलते बीसीसीआई को यह कदम उठाने के लिए मजबूर होना पड़ा है। 48 घंटे पहले ही यह खबर आ गयी थी कि आईपीएल की टाइटल प्रायोजक चीन की मोबाइल कंपनी वीवो भारत में उठे कड़े विरोध स्वर के बाद आईपीएल के 2020 सत्र में टाइटल प्रायोजन से हट गयी है। हालांकि तब बीसीसीआई और वीवो ने आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं की थी लेकिन आज यह करार 2020 के लिए निलंबित होने की आधिकारिक पुष्टि हो गयी है।
एक साल तक के लिए करार निलंबित
बीसीसीआई ने आईपीएल के 13वें संस्करण को 19 सितम्बर से 10 नवम्बर तक संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में कराने की गत रविवार को घोषणा की थी। आईपीएल की संचालन परिषद तब यह घोषणा करने के साथ बताया था कि वीवो सहित उसके सभी प्रायोजकों को बरकरार रखा गया है लेकिन इसके बाद देश में विरोध के स्वर उठे कि कैसे बीसीसीआई एक चीनी कंपनी को आईपीएल का टाइटल प्रायोजक बनाये रख सकती है जबकि सीमा पर चीन के साथ तनाव में भारतीय सैनिकों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। इसके बाद देश में चीनी सामानों और कंपनियों के बहिष्कार की मांग उठ गयी थी। बीसीसीआई ने फिलहाल एक साल तक के लिए करार निलंबित करने की घोषणा की है लेकिन उसने यह नहीं बताया है कि वीवो आईपीएल के टाइटल प्रायोजक के रूप में अगले सत्रों में लौट सकती है या नहीं। वीवो ने 2017 में पांच साल (2018-2022) के लिए आईपीएल टाइटल प्रायोजन का करार 2199 करोड़ रुपये में जीता था। बीसीसीआई को एक सत्र में वीवो से 440 करोड़ रुपये मिलते हैं।
बीसीसीआई को करना पड़ा था कड़े विरोध का सामना
जून में भारत और चीन के बीच राजनीतिक तनाव के बाद बीसीसीआई ने कहा था कि आईपीएल से सम्बंधित प्रायोजन करार की समीक्षा करेगा लेकिन भारतीय बोर्ड ने किसी ब्रांड का नाम नहीं लिया था। रविवार को आईपीएल की संचालन परिषद की बैठक के बाद बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बयान जारी कर कहा था कि आईपीएल 19 सितम्बर से 10 नवम्बर तक यूएई में खेला जाएगा और वीवो इसका टाइटल प्रायोजक होगा। लेकिन इस घोषणा के बाद बीसीसीआई को राजनेताओं, संगठनों, ट्रेड यूनियनों और सोशल मीडिया पर कड़े विरोध का सामना करना पड़ा था।
कुछ कंपनियों से चल रही है बात
भारत सरकार ने 59 चीनी मोबाइल एप्लीकेशंस को पहले ही प्रतिबंधित कर दिया था। बीसीसीआई की रविवार की घोषणा के नीचे सचिव जय शाह का नाम था लेकिन आज की विज्ञप्ति में किसी भी अधिकारी का नाम नहीं है और एक लाइन के बयान के नीचे आईपीएल लिखा हुआ है। वीवो ने 2015 में दो वर्ष के लिए आईपीएल का टाइटल प्रायोजन हासिल किया था और फिर उसे 2017 में पांच साल के लिए बरकरार रखा था जो अब 2020 के लिए निलंबित हो गया है। बीसीसीआई की कुछ कंपनियों से बात चल रही है जो एक साल के करार के लिए इच्छुक हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पायल से जुड़ा मीटू केस : अनुराग के समर्थन में आयीं उनकी पूर्व पत्नी और कई अन्य कलाकार

मुंबई : फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप पर अभिनेत्री पायल घोष के यौन उत्पीड़न के आरोप के बाद उनकी पूर्व पत्नी और फिल्म एडिटर आरती बजाज, आगे पढ़ें »

आमूलचूल परिवर्तन लायेंगे संसद में पारित कृषि क्षेत्र से संबंधित विधेयक : मोदी

नयी दिल्ली : विपक्ष तथा किसानों के जबरदस्त विरोध के बीच संसद में आज पारित कृषि क्षेत्र से संबंधित विधेयकों पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आगे पढ़ें »

ऊपर