घरेलू क्रिकेट ने एक दिग्गज खो दिया: गांगुली

नयी दिल्ली : पूर्व लेफ्ट आर्म स्पिनर राजिंदर गोयल के निधन पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने गहरा शोक प्रकट करते हुए कहा है कि भारत ने घरेलू क्रिकेट का एक दिग्गज खो दिया है। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 750 विकेट लेने वाले पूर्व लेफ्ट आर्म स्पिनर राजिंदर गोयल का उम, संबंधी बीमारियों के कारण रविवार को रोहतक में अपने निवास पर निधन हो गया था। वह 77 वर्ष के थे।

निरंतर शानदार प्रदर्शन करते रहे

गांगुली ने सोमवार को शोक प्रकट करते हुए कहा, ‘भारत ने घरेलू क्रिकेट का एक दिग्गज खो दिया। राजिंदर गोयल के असाधारण रिकॉर्ड उनकी कला और उस पर उनके नियंत्रण को दर्शाते हैं। वह अपने करियर में 25 वर्षों से अधिक खेले और निरंतर शानदार प्रदर्शन करते रहे।’ उन्होंने कहा, ‘750 विकेट लेने के लिए वर्षों कड़ी मेहनत करनी पड़ती है और उनके इस शानदार प्रयास के लिए मैं उन्हें सलाम करता हूं। मैं उनके परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना प्रकट करता हूं।’

उनके परिवार के प्रति संवेदना

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने कहा, ‘राजिंदर गोयल भारतीय क्रिकेट के सच्चे सेवक थे। वह देश के वर्तमान और कई आने वाले स्पिनरों के आदर्श थे। उनका लम्बे समय तक खेलना और अपने प्रदर्शन के उच्च स्तर को बनाये रखना आने वाले क्रिकेटरों को मैदान में अच्छा करने और हर बार बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रेरित करेगा। बीसीसीआई ने उन्हें वर्ष 2017 में कर्नल सीके नायडू लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया। इस दुख की घड़ी में मैं उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं।’ कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने कहा, ‘राजिंदर गोयल जी एक दिग्गज थे। वह अपने संन्यास के बाद भी खेल से जुड़े रहे और अक्सर छोटे बच्चों को खेलते देख हमेशा उनका मार्गदर्शन किया। वह रणजी ट्रॉफी के इतिहास में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। उनके परिवार और प्रियजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदना।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर