गोला फेंक एथलीट तूर और धावक जॉन्सन एथलेटिक्स चैम्पियनशिप से बाहर

दोहा : भारत के गोला फेंक एथलीट तेजिंदर पाल सिंह तूर और 1500 मीटर धावक जिनसन जॉन्सन विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में अपनी स्पर्धाओं के फाइनल्स में क्वालीफाई करने में असफल रहे और बाहर हो गये। दोनों एशियाई खेलों के स्वर्ण पदकधारी हैं। 24 साल के तूर ने सत्र के सर्वश्रेष्ठ प्रयास 20.43 मीटर से ग्रुप बी क्वालीफिकेशन दौर में आठवां स्थान हासिल किया और 34 प्रतिस्पर्धियों में 18वें स्थान पर रहे। जिनसन गुरूवार को पहले दौर की हीट में तीन मिनट 39.86 सेकेंड के समय से 10वें स्थान पर रहे। 43 धावकों में वह 34वां स्थान ही हासिल कर पाये। तूर ग्रुप बी में सबसे पहले आये लेकिन ग्रुप ए से पहले ही आठ गोला फेंक एथलीट फाइनल दौर के क्वालीफाइंग मार्क 20.90 मीटर को पार कर चुके थे। पंजाब के इस एथलीट का व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 20.75 मीटर का है जो राष्ट्रीय रिकार्ड भी है। तूर ने 20.43 मीटर से शुरूआत की लेकिन अगले प्रयास में फाउल कर बैठे। उनके ग्रुप के तीन प्रतिस्पर्धी पहले ही प्रयास में स्वत: क्वालीफाइंग मार्क को पार कर चुके थे जिससे उन पर दबाव बढ़ रहा था। तीसरे और अंतिम प्रयास में वह 19.55 मीटर की दूरी ही तय कर पाये और चैम्पियनशिप से बाहर हो गये। मौजूदा विश्व चैम्पियन और 2016 रियो ओलंपिक के कांस्य पदकधारी थामस वाल्श 21.92 मीटर के थ्रो से क्वालीफाइंग दौर में शीर्ष पर रहे। तूर ने जकार्ता 2018 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने अप्रैल में 20.22 मीटर के थ्रो से एशियई चैम्पियनशिप में भी पहला स्थान प्राप्त किया था। भारत के 28 वर्षीय जिनसन ने पिछले महीने तीन मिनट 35.24 सेकेंड के समय से अपने राष्ट्रीय रिकार्ड को तोड़ा था। लेकिन वह विश्व चैम्पियनशिप में उसी ऊर्जावान प्रदर्शन को दोहराने में असफल रहे। वह एक के बाद एक प्रतिस्पर्धियों से पिछड़ते रहे और अंत में अपने सर्वश्रेष्ठ समय से चार सेकेंड ज्यादा का समय निकाल सके।

शेयर करें

मुख्य समाचार

देशभर में बिजली की भारी किल्लत, इन राज्यों में बिजली उत्पादन 25 फीसद तक हुई कम

नई दिल्ली : कर्ज और बिजली चोरी की समस्या से जूझ रहे बिजली सेक्टर की समस्याएं बढती जा रही है, जिसके कारण देश की बिजली आगे पढ़ें »

भारतीय हैं सबसे ज्यादा आलसी : रिपोर्ट 

नई दिल्ली : भारतीय इतने आलसी हैं कि वे अपने सेहत का ख्याल भी नहीं रख पाते, यह बात एक नए रिसर्च  में सामने आई आगे पढ़ें »

ऊपर