खिलाड़ियों के वेतन में कटौती नहीं करेगा चेल्सी फुटबॉल क्लब, स्टाफ की छंटनी से इनकार

लंदन : दुनिया के मशहूर फुटबॉल क्लबों में से एक चेल्सी ने साफ कर दिया है कि वो खिलाड़ियों की वेतन कम नहीं करेगा। क्लब की तरफ से यह भी साफ कर दिया गया है कि फुल टाइम स्टाफ को भी अस्थायी तौर पर छुट्टी देने की कोई योजना नहीं है। कुछ मीडिया खबरों में लगाए जा रहे कयासों के बाद यह बात सामने आई है। इन खबरों में कहा गया था कि चेल्सी प्लेयर्स की सैलरी कम करने पर विचार कर रहा है। शनिवार देर रात जारी एक बयान में क्लब ने कहा, “हम ये साफ कर देना चाहते हैं कि क्लब अपने फुल टाइम स्टाफ की सैलरी में कोई कटौती नहीं कर रहा है। उनको वही पैकेज मिलता रहेगा जो अब तक मिलता रहा है।” हालांकि, क्लब ने खिलाड़ियों से महामारी के दौर में सामाजिक योगदान देने की अपील जरूर दोहराई है। एक अलग बयान में चेल्सी मैनेजमेंट ने अपनी मुख्य टीम से चैरिटी में योगदान की अपील दोहराई। उन्‍होंने कहा, “फिलहाल, मुख्य टीम के खिलाड़ी ने आर्थिक तौर पर ज्यादा मदद नहीं की है। अब बोर्ड ने खिलाड़ियों से कहा है कि वो सामाजिक और आर्थिक योगदान जरूर दें। संकट गहराता जा रहा है। हम चाहते हैं कि हमारे सभी खिलाड़ी क्लब के चैरिटी प्रोग्राम्स में हिस्सा लें।” चेल्सी की महिला फुटबॉल टीम को भी पहले की तरह सैलरी और एरियर्स मिलते रहेंगे। इस बीच, टीम मैनेजमेंट ने ये भी साफ कर दिया है कि वो ब्रिटिश सरकार द्वारा चलाई जा रही रोजगार योजनाओं का लाभ नहीं लेगा। क्लब के अस्थायी कर्मचारियों को भी 30 जून तक का पूरा वेतन और भत्ते दिए जाएंगे। न्यूकैसल और नॉर्विक जैसे प्रीमियर क्लबों ने अपने नॉन प्लेइंग स्टाफ को अस्थायी छुट्टी देने का फैसला किया है। टॉटेनहैम और लिवरपूल की इसी मसले पर काफी आलोचना हुई। अब वो फैसले पर फिर विचार कर रहे हैं। कोरोनावायरस के चलते दुनिया की ज्यादातर फुटबॉल लीग या तो टाल दी गई है या उन्हें रद्द कर दिया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

चीन के बाद अब भारत भी 1.5 किमी पीछे हटा : अधिकारी

नयी दिल्ली : भारत-चीन के बढ़ते तनाव के बीच भारत और चीन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच हुई बातचीत के बाद गलवान घाटी में आगे पढ़ें »

adhir

यथास्थिति बहाल होने तक भारत को सीमा पर एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : अधीर

कोलकाता : लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने मंगलवार को कहा कि लद्दाख में चीनी सेना ने उन तर्कों को साबित कर आगे पढ़ें »

ऊपर