खाली स्टेडियम में हो सकते हैं आईपीएल मैच, सरकार ने भीड़ नहीं जुटाने का निर्देश दिया

नयी दिल्ली/धर्मशाला : बीसीसीआई ने चुप्पी साध रखी है लेकिन खेल मंत्रालय ने गुरुवार को संकेत दिया कि कोविड-19 महामारी के कारण इंडियन प्रीमियर लीग का आयोजन खाली स्टेडियम में हो सकता है। सरकार की वीजा पाबंदियों के कारण विदेशी खिलाड़ी हालांकि 15 अप्रैल तक इस लुभावनी लीग से बाहर हो गए हैं।
आईपीएल संचालन परिषद की बैठक शनिवार को
आईपीएल की संचालन परिषद की शनिवार को होने वाली बैठक में इस लीग को खाली स्टेडियम में कराने पर चर्चा हो सकती है और बीसीसीआई ने तब तक इंतजार करने की नीति अपनाने का फैसला किया है। इस टी20 टूर्नामेंट की शुरुआत 29 मार्च को मुंबई में होनी है। खेल मंत्रालय ने हालांकि कोरोना वायरस महामारी के संक्रमण के खतरे को देखते हुए बीसीसीआई सहित सभी राष्ट्रीय खेल महासंघों (एनएसएफ) को स्वास्थ्य मंत्रालय का परामर्श मानने और खेल प्रतियोगिताओं के दौरान बड़ी संख्या में लोगों को जुटाने से बचने को कहा है।
खेल व स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों को एक साथ जुटने से मना किया
खेल मंत्रालय से जारी आदेश के अनुसार, ‘‘सुनिश्चित कीजिए कि किसी भी खेल प्रतियोगिता के दौरान लोग नहीं जुटें। अगर खेल प्रतियोगिता के आयोजन को टाला नहीं जा सकता तो दर्शकों सहित लोगों को एकत्रित किए बिना ऐसा किया जा सकता है।’’ खेल सचिव राधे श्याम जुलानिया ने भी मंत्रालय के रुख को दोहराया। जुलानिया ने कहा, ‘‘हमने बीसीसीआई सहित सभी एनएसएफ से कहा है कि वे स्वास्थ्य मंत्रालय के नवीनतम परामर्श का पालन करें, जिसमें कहा गया है कि खेल गतिविधियों सहित सभी कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में लोगों के एकत्रित होने से बचा जाए।’’
सभी मौजूदा विदेशी वीजा निलंबित किये गये
देश में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने की कवायद के तहत सरकार ने बुधवार को सभी मौजूदा विदेशी वीजा निलंबित कर दिए। राजनयिक और कामकाजी वीजा जैसी कुछ श्रेणियों में हालांकि छूट दी गई है। भारत में अब तक कोरोना वायरस के 73 मामले सामने आ चुके हैं। इस विषाणु के कारण दुनिया भर में 4000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बुधवार को इसे महामारी घोषित किया। इन पाबंदियों के कारण आईपीएल में कोई विदेशी खिलाड़ी उपलब्ध नहीं होगा।
15 अप्रैल तक विदेशी खिलाड़ियों की वीजा पर रोक
आईपीएल को खाली स्टेडियम में कराए जाने की संभावना बढ़ रही है लेकिन इस लीग को स्थगित किए जाने की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता क्योंकि 29 मार्च से मुंबई में शुरू हो रही इस प्रतियोगिता के शुरुआती चरण में लगभग 60 विदेशी खिलाड़ी उपलब्ध नहीं होंगे। बीसीसीआई सूत्र ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया, ‘‘आईपीएल में खेलने वाले विदेशी खिलाड़ी बिजेनस वीजा की श्रेणी में आते हैं। सरकार के निर्देशों के अनुसार वे 15 अप्रैल तक नहीं आ सकते।’’
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस संक्रमण को महामारी घोषित किया
महाराष्ट्र और कर्नाटक सरकार पहले ही मुंबई इंडियन्स और रायल चैलेंजर्स बेंगलोर के घरेलू मैचों के आयोजन को लेकर चिंता जता चुकी हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बुधवार को इस संक्रमण को महामारी घोषित किया। इससे पहले निशानेबाजी विश्व कप और इंडिया ओपन गोल्फ जैसी खेल प्रतियोगिताएं भी स्थगित कर दी गईं जबकि इस महीने होने वाले इंडिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट का आयोजन भी दर्शकों की गैरमौजूदगी में किया जाएगा।
विदेश मंत्रालय ने आईपीएल का आयोजन से मना किया पर अंतिम फैसला आयोजक पर छोड़ा
विदेश मंत्रालय ने कोरोना वायरस के खौफ के कारण गुरुवार को इस साल इंडियन प्रीमयर लीग का आयोजन नहीं करने की सलाह दी लेकिन इस संबंध में अंतिम फैसला आयोजकों पर छोड़ दिया। यह बात विदेश मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव दम्मू रवि ने कही जिन्हें कोरोना वायरस प्रकोप से निबटने के प्रयासों में समन्यवय के लिये नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। आईपीएल और अन्य खेल प्रतियोगिताओं से जुड़े सवाल के बारे में रवि ने कहा कि सरकार की सलाह यही है कि, ‘इस बार इनका आयोजन नहीं हो लेकिन अगर आयोजक चाहते हैं कि प्रतियोगिताएं हों तो यह उनका फैसला है। ’’
रवि ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम भारत में होने वाली इस तरह की खेल प्रतियोगिताओं और पूर्व में तय किये गये बड़े आयोजनों के संबंध में विभिन्न आग्रहों का आकलन कर रहे हैं। यह फैसला आयोजकों को करना है कि वे इनका आयोजन करना चाहते हैं या नहीं। ’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

शेयर मार्केट को लॉकडाउन अपडेट्स का इंतजार, निफ्टी- सेंसेक्स में 0.5% की गिरावट

नई दिल्ली : बुधवार के कारोबार के दौरान निफ्टी और सेंसेक्स में उतार-चढ़ाव देखा गया और 0.5% की गिरावट के साथ बंद हुआ।  एंजिल ब्रोकिंग आगे पढ़ें »

income tax office

आयकर 5 लाख रुपये तक के सभी लंबित आयकर रिफंड तत्काल जारी करेगा, 14 लाख करदाताओं को होगा फायदा

नई दिल्ली : कोरोना आपदा के मद्देनजर केंद्र सरकार ने आज कुछ बड़े राहत पैकेजो का ऐलान किया है। वित्त मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति आगे पढ़ें »

ऊपर