‘क्रिकेट की बहाली के लिये आईसीसी के कुछ दिशा निर्देश अव्यवहारिक, समीक्षा की जरूरत’

हर बार गेंद को छूने के बाद हाथ सेनिटाइज करना संभव ही नहीं
नयी दिल्ली : पूर्व क्रिकेटरों आकाश चोपड़ा, इरफान पठान और मोंटी पनेसर का मानना है कि क्रिकेट की बहाली को लेकर आईसीसी के कुछ दिशा निर्देश अव्यवहारिक हैं और इनकी समीक्षा की जरूरत है। पिछले सप्ताह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने क्रिकेट की बहाली के संदर्भ में कई दिशा निर्देशों के सुझाव रखे थे जिनमें मैच से पहले 14 दिन के पृथक – वास अभ्यास शिविरों का प्रावधान है। इनमें गेंद को छूने पर लगातार हाथों की सफाई, अभ्यास के दौरान बाथरूम जाने का कोई ब्रेक नहीं, चेजिंग रूम में कम से कम समय बिताना, गेंद पर लार के इस्तेमाल पर रोक और साथी खिलाड़ियों या अंपायरों से अपना सामान जैसे कैप, सनग्लास या तौलिया साझा नहीं करना शामिल है। भारत के पूर्व तेज गेंदबाज पठान ने कहा,‘‘ व्यक्तिगत खेल में सामाजिक दूरी बनाये रखी जा सकती है लेकिन टीम खेल में काफी कठिन है। मैच में स्लिप की जरूरत है तो क्या नहीं लगायेंगे।’’ उन्होंने कहा,‘‘ सुरक्षा सर्वोपरि है लेकिन खेल को पेचीदा बनाकर नहीं। गेंदबाज या फील्डर हर बार गेंद को छूने पर हाथ सेनिटाइज करेगा तो काफी कठिन हो जायेगा। ’’ पूर्व सलामी बल्लेबाज चोपड़ा ने कहा ,‘‘हर बार गेंद को छूने के बाद हाथ सेनिटाइज करना संभव ही नहीं है। वहीं स्वास्थ्य की दृष्टि से सुरक्षित माहौल में और सभी की जांच के बाद खेल होने पर अतिरिक्त उपायों की क्या जरूरत है।’’ उन्होंने कहा,‘‘ अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा। इंग्लैंड के पूर्व स्पिनर पनेसर ने कहा कि इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच श्रृंखला से तस्वीर साफ होगी। उन्होंने कहा,‘‘ 14 दिन का पृथक – वास जरूरी है। उसके बाद व्यवहारिक सुझाव मिल सकेंगे।’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

एससी का बड़ा फैसला : अब व्हाट्सएप-ईमेल से भेज सकते हैं समन

नयी दिल्ली : कोरोना वायरस की वजह से लागू हुए लॉकडाउन के कारण अब अधिकतर काम डिजिटल हो चला है । सुप्रीम कोर्ट ने भी आगे पढ़ें »

स्मार्ट सिटी परियोजना को स्थानीय स्थापत्य शैली से जोड़ें: वेंकैया

नयी दिल्ली : उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वकांक्षी स्मार्ट सिटी अभियान को स्थानीय स्थापत्य शैली से आगे पढ़ें »

ऊपर