कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए सचिन ने दिये 50 लाख रूपये

नयी दिल्ली : मास्टर बलास्टर सचिन तेंदुलकर ने कोरोना वायरस संक्रमण महामारी से निपटने के लिये 50 लाख रूपये दान दिये हैं। भारत के प्रमुख खिलाड़ियों में से यह अब तक की सबसे बड़ी दान राशि है। कइयों ने अपनी तनख्वाह देने का ऐलान किया है जबकि कइयों ने चिकित्सा उपकरण दिये हैं। बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने 50 लाख रूपये के चावल गरीबों में बांटने का ऐलान किया था। एक सूत्र ने बताया,‘ सचिन तेंदुलकर ने 25 लाख प्रधानमंत्री राहत कोष और 25 लाख रूपये मुख्यमंत्री राहत कोष में देने का फैसला किया है। वह दोनों में अपना योगदान देना चाहते थे।’ युसूफ और इरफान पठान ने बड़ौदा पुलिस और स्वास्थ्य विभाग को 4000 फेस मास्क दिये हैं जबकि महेंद्र सिंह धोनी ने पुणे में एक चैरिटी के जरिये एक लाख रूपये दिये हैं। पहलवान बजरंग पूनिया और फर्राटा धाविका हिमा दास ने अपना वेतन देने का ऐलान किया है।
देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 724 हुए, 17 लोगों की मौत
देश में कोरोना वायरस के कारण मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर शुक्रवार को 17 हो गई और संक्रमित मामले 724 पर पहुंच गए। स्वास्थ्य मंत्रालय ने सुबह नौ बजकर 15 मिनट पर अपने ताजा आंकड़ों में बताया कि महाराष्ट्र में चार लोगों की मौत हो गई जबकि गुजरात में तीन लोगों की मौत हुई है। कर्नाटक में अभी तक दो लोग जान गंवा चुके हैं जबकि मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, बिहार, पंजाब, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में एक-एक शख्स की मौत हुई। आंकड़ों के अनुसार, देश में कोविड-19 के ऐसे मामलों की संख्या 640 है जिनमें रोगियों का उपचार चल रहा है जबकि 66 लोग या तो स्वस्थ हो गए या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई तथा एक व्यक्ति कहीं चला गया। मंत्रालय ने बताया कि संक्रमित लोगों के कुल 724 मामलों में 47 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर