ऐतिहासिक फैसला : राष्ट्रमंडल खेलों में 24 साल बाद होगी क्रिकेट की वापसी

मेलबर्न : 2022 में बर्मिघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों में 1998 के बाद पहली बार क्रिकेट की वापसी होगी तथा राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) और आईसीसी के अनुसार महिला टी20 क्रिकेट को इन खेलों में शामिल किया जायेगा। इससे पहले क्रिकेट केवल एक बार 1998 में कुआलालम्पुर राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा बना था। वहां पुरूष टीमों ने एकदिवसीय मैचों में भाग लिया था और दक्षिण अफ्रीका ने स्वर्ण पदक जीता था।
आठ टीमें लेगी भाग
सीजीएफ अध्यक्ष डेम लुईस मार्टिन ने मंगलवार को कहा, ‘‘आज ऐतिहासिक दिन है और हम क्रिकेट खेल की राष्ट्रमंडल खेलों में वापसी का स्वागत करते हैं।’’ 2022 में 27 जुलाई से सात अगस्त के बीच बर्मिंघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों में 8 टीमें भारत, पाकिस्तान, इंग्लैंड, द. अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, वेस्टइंडीज, श्रीलंका हिस्सा लेंगी। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के मुख्य कार्यकारी मनु साहनी ने बयान में कहा, ‘‘यह महिला क्रिकेट और वैश्विक क्रिकेट समुदाय के लिये वास्तव में ऐतिहासिक क्षण है जिन्होंने इसके समर्थन के लिये एकजुटता दिखायी।’’ टूर्नामेंट के आठों मैच एजबेस्टन क्रिकेट मैदान पर खेले जाएंगे। इस मैदान पर हाल में समाप्त हुए विश्व कप के कुछ यादगार मैच खेले गये है।
ईसीबी ने पक्ष में किया मतदान
इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने कहा कि राष्ट्रमंडल खेल संघ ने बर्मिंघम खेलों में महिला क्रिकेट को शामिल करने के पक्ष में मतदान किया जिससे वह प्रसन्न और सम्मानित महसूस कर रहे हैं। ईसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टॉम हैरिसन ने कहा, ‘‘हमें बहुत खुशी है कि महिला टी20 क्रिकेट बर्मिंघम 2022 का हिस्सा होगा। आज का ऐतिहासिक फैसला संकेत है कि महिला क्रिकेट का भविष्य उज्ज्वल है। ’’ आईसीसी और ईसीबी ने राष्ट्रमंडल खेलों में महिला क्रिकेट को शामिल करने के लिये नवंबर में बर्मिंघम में सीजीएफ के कार्यकारी बोर्ड की बैठक में दावा पेश किया था। प्रतियोगिता के सही तरह से आयोजन के लिये आईसीसी जिम्मेदार होगी। वह मैच अधिकारी उपलब्ध कराएगी और यह सुनिश्चित करेगी कि मैच क्रिकेट के नियमों के तहत खेले जाएं। लुईस मार्टिन ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि राष्ट्रमंडल खेल महिला क्रिकेट जैसे आकर्षक खेल को दुनिया तक पहुंचाने के लिये शानदार मंच होगा और इससे खेल को वैश्विक स्तर पर आगे बढ़ने में मदद मिलेगी।’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर