एशिया कप में खेलना सपने सच होने जैसा : कप्तान आशा लता

नयी दिल्ली : भारतीय महिला फुटबॉल टीम के सदस्य घरेलू दर्शकों के सामने एएफसी महिला एशिया कप 2022 फाइनल्स की संभावनाओं से खुश हैं और उन्हें लगता है कि यह टूर्नामेंट इस देश में खेल के विकास के लिये शानदार हो सकता है। भारत 1979 के बाद पहली बार भारत एएफसी महिला एशियाई कप 2022 फाइनल की मेजबानी करेगा। मुख्य कोच मेमोल रॉकी ने अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) की वेबसाइट पर कहा, ‘‘मैं बहुत उत्साहित हूं कि ऐसा बड़ा टूर्नामेंट भारत में आयोजित होगा और मैं एआईएफएफ को एशिया कप हमारे देश में लाने के लिए धन्यवाद देता हूं। हमारे पास इसकी तैयारी के लिए डेढ़ साल का समय है और मुझे यकीन है कि हम अच्छा प्रदर्शन करेंगे। ’’ कोच ने कहा, ‘‘लोग भारत में महिला फुटबॉल में हो रही प्रगति के बारे में ज्यादा से ज्यादा जागरूक हो रहे हैं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘लड़कियों को एशिया में शीर्ष देशों के खिलाफ खेलने का मौका मिलेगा और प्रशंसकों को भी जापान, आस्ट्रेलिया, कोरिया और चीन जैसी टीमों को स्टेडियम में लाइव देखने का मौका मिलेगा जिससे युवा लड़कियों और उनके माता पिता के बीच काफी दिलचस्पी पैदा होगी। ’’ कप्तान आशा लता देवी ने कहा कि एशिया कप में खेलने का मौका मिलना सपने के सच होने वाला क्षण है। उन्होंने कहा, ‘‘जब से मैं फुटबॉल खेल रही हूं, मैंने कभी भी अपनी मां को अपने मैच नहीं दिखाये हैं। मैं सही क्षण का इंतजार कर रही थी और अब यह 2022 में होगा। मैं अपनी मां को एशिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों के खिलाफ मुझे खेलते हुए दिखाना चाहती हूं। ’’ गोलकीपर अदिति चौहान को लगता है कि टूर्नामेंट में प्रशंसकों की उम्मीदों पर खरा उतरना बड़ी जिम्मेदारी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर