आईसीसी ने टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाजों की तैयारी के लिये 12 हफ्ते का समय तय किया

दुबई : कोरोना वायरस महामारी के असर के कम होने के बाद टेस्ट क्रिकेट बहाल होने के लिये गेंदबाजों का इंतजार अन्य खिलाड़ियों की तुलना में लंबा होगा क्योंकि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने उनके लिये तैयारी का समय दो से तीन महीने तय किया है ताकि वे चोटों से बच सकें। सदस्य देशों ने कोविड-19 महामारी रोकने के लिये लगी पाबंदियों में ढील दी है और आईसीसी ने शुक्रवार को खेल बहाल करने के लिये दिशानिर्देश जारी किये। खेल की विश्व संचालन संस्था ने इन दिशानिर्देशों में लिखा, ‘‘टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाजों की तैयारी के लिये कम से कम आठ से 12 हफ्ते का समय चाहिए होगा। ’’ इसके अनुसार, ‘‘खिलाड़ियों विशेषकर गेंदबाजों की सुरक्षित और प्रभावित वापसी जरूरी होगी। अगर उनकी (गेंदबाजों की) तैयारी का समय सीमित होगा तो इससे ज्यादा चोटें लगेंगी। ’’ पाकिस्तान को अगस्त में इंग्लैंड का दौरा करना है जिसमें उसे तीन टेस्ट और इतने ही टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने हैं, इन मैचों का आयोजन बंद स्टेडियम में किया जायेगा। इंग्लैंड के 18 गेंदबाजों ने आगामी सत्र की तैयारियों के लिये गुरूवार से सात कांउटी मैदानों में व्यक्तिगत ट्रेनिंग सत्र शुरू कर दिये। आईसीसी ने कहा कि टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में गेंदबाजों को वापसी की तैयारी के लिये कम से कम पांच से छह हफ्ते का समय जरूरी होगा। वहीं वनडे के लिये तैयारी का न्यूनतम समय छह हफ्ते तय किया गया है। आईसीसी ने टीमों को ज्यादा खिलाड़ियों के इस्तेमाल की सलाह दी और गेंदबाजों पर पड़ने वाल भार के प्रति सतर्कता बरतने की सलाह भी दी। साथ ही उसने कहा कि टेस्ट क्रिकेट की तैयारी के लिये कम से कम आठ से 12 हफ्तों का समय जरूरी होगी। महामारी के चलते अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट निलंबित है जिससे दुनिया भर में तीन लाख से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना का कहर, आए सबसे ज्यादा मामले व हुई सबसे ज्यादा मौतें

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण के 1088 नये मामले सामने आये है। इस दौरान 27 लोगों आगे पढ़ें »

प्रवासी मजदूरों के बीच मुफ्त अनाजों का वितरण अपेक्षा से काफी कम हुआ : पासवान

नयी दिल्ली : खाद्य आपूति एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान ने गुरुवार को स्वीकार किया कि प्रवासी मजदूरों के बीज मुफ्त अनाजों आगे पढ़ें »

ऊपर