आईपीएल टाइटल प्रायोजक के लिये बोली लगायेगी ‘अनअकैडमी’

नयी दिल्ली : शिक्षा प्रोद्यौगिकी कंपनी ‘अनअकैडमी’ इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के प्रायोजकों में से एक है और अब उसकी निगाहें लीग के टाइटल प्रायोजन अधिकार हासिल करने पर लगी हैं और वह इस साल चीनी मोबाइल फोन कंपनी वीवो की जगह लेने के लिये अपनी बोली सौंपने को तैयार है। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के एक अधिकारी ने पुष्टि की कि ‘अनअकैडमी’ ने बोली लगाने के लिये फार्म लिया है लेकिन इसके आगे कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। सीनियर अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा, ‘‘मैं यह पुष्टि कर सकता हूं कि ‘अनअकैडमी’ ने दिलचस्पी दिखायी है और बोली लगाने के लिये पेपर लिये हैं। मैंने सुना है कि वे बोली सौंपेंगे और इस बारे में गंभीर हैं। इसलिये पंतजलि अगर बोली लगाता है तो उसे प्रतिस्पर्धा मिलेगी। ’’ बीसीसीआई अब चार महीने 13 दिन के लिये इससे कम कीमत – 300 से 350 करोड़ के बीच- के करार के लिये कंपनी ढूंढ रहा है। अधिकारी ने कहा कि ‘अनअकैडमी’ आईपीएल के केंद्रीय प्रायोजन पूल का हिस्सा है जिसमें अन्य कंपनी जैसे ड्रीम11 और पेटीएम शामिल हैं। बीसीसीआई अधिकारी ने कहा, ‘‘हां, ‘अनअकैडमी’ 2020 से 2023 तक आईपीएल के केंद्रीय प्रायोजन पूल में शामिल है। ’’ यह पूछने पर कि केंद्रीय प्रायोजन और टाइटल प्रायोजन में क्या अंतर है तो अधिकारी ने कहा, ‘‘केंद्रीय प्रायोजन में जर्सी अधिकार शामिल नहीं होते। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘आईपीएल में, जर्सी ‘लोगो’ सिर्फ टाइटल प्रायोजक का ही हो सकता है, भले ही टीम के विभिन्न प्रायोजक हों। अगर वे टाइटल प्रायोजक बन गये तो इससे उन्हें विभिन्न ब्रांडिंग चीजों पर अधिकार मिल जायेंगे। ’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

दिल्‍ली में 1 नवंबर से नहीं खुलेंगे स्‍कूल, अगले आदेश तक बंद : मनीष सिसोदिया

नई दिल्‍ली : देश की राजधानी दिल्ली में 1 नवंबर से 12वीं तक के स्कूल नहीं खुलेंगे। कोरोना वायरस संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों के आगे पढ़ें »

तेजस्वी ने मुंगेर की घटना में पुलिस की भूमिका की तुलना जनरल डायर के कृत्य से की

पटना : मुंगेर में मूर्ति विसर्जन के दौरान हुई गोलीबारी और पुलिस लाठीचार्ज की घटना की जांच उच्च न्यायालय की निगरानी में कराये जाने की आगे पढ़ें »

ऊपर