आईपीएल के दौरान 30 से 50 प्रतिशत स्टेडियम भरना चाहता हैं एमिरेट्स क्रिकेट बोर्ड

नयी दिल्ली : एमिरेट्स क्रिकेट बोर्ड के सचिव मुबाशशिर उस्मानी ने शुक्रवार को कहा कि अगर सरकार मंजूरी देती है तो वे संयुक्त अरब अमीरात में होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग में स्टेडियमों को 30 से 50 प्रतिशत तक दर्शकों से भरना चाहेंगे। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की तारीखों की घोषणा करते हुए इसके अध्यक्ष ब्रजेश पटेल ने कहा था कि 19 सितंबर से आठ नवंबर तक होने वाले टी20 टूर्नामेंट के दौरान दर्शकों को मैदान में जाने की अनुमति देने का फैसला संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) सरकार द्वारा लिया जायेगा। तारीखों की घोषणा करने के बावजूद भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) भी यूएई में आईपीएल कराने को लेकर भारत सरकार की मंजूरी का इंतजार कर रहा है। उम्मानी ने फोन पर कहा, ‘‘एक बार हमें बीसीसीआई से (भारत सरकार की मंजूरी के बारे में) पुष्टि हो जाये तो हम अपनी सरकार के पास पूर्ण प्रस्ताव और मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) के साथ जायेंगे जो हमारे और बीसीसीआई द्वारा तैयार किया गया होगा। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम निश्चित रूप से हमारे लोगों को इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट का अनुभव कराना चाहेंगे लेकिन यह पूरी तरह से सरकार का फैसला होगा। उस्मानी ने कहा, ‘‘हमें इस पर अपनी सरकार की मंजूरी की उम्मीद है। ’’ यूएई में कोविड-19 के 6000 से ज्यादा सक्रिय मामले हैं और वहां महामारी पर स्थिति लगभग नियंत्रित ही है। हालांकि नवंबर में होने वाले 2020 दुबई रग्बी सेवंस टूर्नामेंट को कोरोना वायरस के खतरे के कारण 1970 के बाद पहली बार रद्द कर दिया गया है। उन्होंने आईपीएल की सुरक्षा को लेकर हो रही चिंताओं के बारे में कहा, ‘‘यूएई सरकार संक्रमितों की संख्या को कम करने में काफी कारगर रही है। हम कुछ नियम और प्रोटोकॉल का पालन करके सामान्य जीवन जी रहे हैं। ’’ उस्मानी ने कहा, ‘‘और आईपीएल में तो अभी थोड़ा समय है, हम निश्चित रूप से इससे बेहतर स्थिति में होंगे। ’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

पश्चिम बंगाल की लॉजिस्टिक्स नीति तैयार : अमित मित्रा

कोलकाता : राज्य के वित्त मंत्री अमित मित्रा ने शनिवार को कहा कि राज्य की लॉजिस्टिक्स नीति तैयार है और इस पर जल्द उद्योग जगत आगे पढ़ें »

मोदी के रामबाण ने चीन को वेधा

राजनीतिक गपशप शायद बहुत कम लोगों ने ध्यान दिया कि अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि के शिलान्यास के दौरान मोदी जी ने चीन पर टिप्पणियों के तीखे आगे पढ़ें »

ऊपर