अंशु ने पूरा किया पिता का अधूरा सपना

जींदः भारतीय महिला पहलवान अंशु मलिक (57 किग्रा) ने कुश्ती शुरु करने के महज सात साल के अंदर ओलंपिक कोटा हासिल कर अपने पिता धर्मवीर के उस सपने को पूरा किया है जिस करने में वह खुद नाकाम रहे थे। अंशु सात बरस पहले जब 12 साल की थी तक उसने अपनी दादी को कहा था कि वह पहलवान बनना चाहती है और छोटे भाई शुभम की तरह वह भी यहां के निदानी खेल स्कूल में इसका प्रशिक्षण लेना चाहती है।

धर्मवीर को इसके बाद छह महीने में पता चल गया कि उनकी छोरी (बेटी) किसी भी छोरे (लड़के) से कम नहीं है। वह उनसे बेहतर है। धर्मवीर पहले अपने बेटे को पहलवान बनाना चाहते थे जो अंशु से चार साल छोटा है लेकिन उन्हें जल्दी ही पता चल गया अंशु की काबिलियत किसी से कम नहीं है।
धर्मवीर ने कहा, ‘‘ महज छह महीने के प्रशिक्षण के बाद, उसने उन लड़कियों को हराना शुरू कर दिया, जो वहां तीन-चार साल से अभ्यास कर रही थीं। फिर मैंने अपना ध्यान अपने बेटे से ज्यादा अपनी बेटी पर लगाया। उसमें अच्छे करने की ललक थी।’’

खून में है कुश्ती, पिता का करियर चोट ने बिगाड़ा था

निदानी गांव में खाट पर बैठी अंशु अपने पिता से तारीफ सुन कर मुस्कुराते हुए कहा कि उसे आज भी वह दिन याद है। इस 19 साल की पहलवान ने कहा, ‘‘हां मैं उन्हें पटखनी दे देती थी। अखाड़ों (दंगल) ने मुझे हमेशा प्रेरित किया है क्योंकि मेरे पिता, चाचा, दादा, भाई सभी कुश्ती से जुड़े रहे है।’’ उनके पिता ने एक अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लिया था लेकिन चोट के कारण उनका करियर परवान नहीं चढ़ा। उनके चाचा पवन कुमार ‘हरियाणा केसरी’ थे।

जो पापा बोले, वो सही है जी

अंशु से जब उनकी शुरूआती दिनों में निदानी खेल स्कूल के प्रशिक्षण के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘ जो पापा ने बताया है वही सही है जी।’’
प्रशिक्षण शुरू करने के चार साल के अंदर अंशु राज्य और राष्ट्रीय खिताब जीतने में सफल रही। उन्होंने 2016 में एशियाई कैडेट चैंपियनशिप में रजत और फिर विश्व कैडेट चैंपियनशिप में कांस्य जीता। अंतरराष्ट्रीय स्तर की जूनियर प्रतियोगिताओं में ज्यादा अनुभव न होने के बाद भी उसने सीनियर सर्किट में अपनी पहचान बनानी शुरू कर दी है। उसने अब तक केवल छह सीनियर टूर्नामेंटों में भाग लिया है और पांच में पदक जीते हैं। इस दौरान वह 57 किग्रा में एशियाई चैंपियन भी बन गई।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बड़ी खबर : बंगाल में एक दिन में कोविड से 58 की मौत, 3 हजार से नीचे आए नए मामले

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस का ग्राफ और नीचे आया है। अब एक दिन में कोरोना वायरस के संक्रमण से 2788 नए मामले सामने आगे पढ़ें »

लोकप्रियता के टॉप पर मोदी : दुनिया के 13 देशों के नेताओं में टॉपर

वॉशिंगटन : कोरोना महामारी की दूसरी लहर और भारत में उसके बुरे प्रभाव के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता कायम है। अमेरिकी डेटा आगे पढ़ें »

ऊपर