ये है यूरिक एसिड को कंट्रोल करने का सबसे तेज तरीका, खत्म होगा जोड़ों का दर्द

शेयर करे

कोलकाता : ‘यूरिक एसिड’ बीते कुछ सालों में आपने ये शब्द खूब सुना होगा। आज के समय में अनहेल्दी खानपान और खराब लाइफस्टाइल के चलते लोग ना चाहते हुए भी कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। इन्हीं में एक है हाई यूरिक एसिड की समस्या। इससे पीड़ित लोगों को जोड़ों में तेज दर्द का सामना करना पड़ता है। यूरिक एसिड बढ़ने से हमारी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और इसका बुरा असर हमारी किडनी पर भी पड़ता है। इसी कड़ी में इस परेशानी से निजात पाने के लिए लोग दवाओं के साथ-साथ तमाम तरह के नुस्खे भी अपनाते हैं। हालांकि, इस लेख में हम आपको इस गंभीर परेशानी से निजात पाने के सबसे तेज तरीके के बारे में बता रहे हैं।
इससे पहले जान लेते हैं कि आखिर यूरिक एसिड है क्या
यूरिक एसिड हमारे खून में पाया जाने वाला एक अपशिष्ट उत्पाद है जो प्यूरीन नामक रसायन के टूटने पर बनता है। आमतौर पर किडनी इसे फिल्टर कर यूरिन के जरिए शरीर से बाहर निकल देती है। हालांकि, कई बार खराब लाइफस्टाइल और अनहेल्दी खानपान के चलते ये अधिक मात्रा में बनने लगता है, ऐसे में किडनी इसे फिल्टर नहीं कर पाती है और ये हड्डियों में क्रिस्टल के रूप में जमा होने लगता है। इसके चलते हड्डियों के बीच में गैप हो जाता है, हड्डियां बेहद कमजोर हो जाती हैं और व्यक्ति को चलने फिरने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं, यूरिक एसिड बढ़ने पर गठिया और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी गंभीर समस्या का खतरा भी बढ़ जाता है। ऐसे में इसे कंट्रोल करना बेहद जरूरी हो जाता है।
कैसे करें कंट्रोल?
हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर आप हाई यूरिक एसिड के चलते जोड़ों में असहनीय दर्द, अकड़न, सूजन का सामना कर रहे हैं और तेजी से इस परेशानी से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो इसके लिए अपनी डाइट में फाइबर रिच फूड को शामिल करना शुरू कर दें। फाइबर से भरपूर चीजें बिना दवाओं के नेचुरल तरीके से इस समस्या से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद कर सकती हैं।जैसा की ऊपर जिक्र किया गया है, हाई यूरिक एसिड के लिए प्यूरीन जिम्मेदार होता है। वहीं, फाइबर प्यूरिन के कणों के साथ चिपककर इसे बाहर की ओर खींचता है और मल-मूत्र के साथ शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है। इससे शरीर में प्यूरिन की मात्रा कम होती है और इस तरह ये बेहद तेजी से यूरिक एसिड की समस्या से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद कर सकता है। साथ ही फाइबर गाउट और किडनी स्टोन की परेशानी में भी असरदार है।
यहां देखें फाइबर रिच फूड की लिस्ट
ओट्स
ओट्स में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है, जो कि शरीर से प्यूरिन को सोखने का काम करता है। दरअसल, जब शरीर प्रोटीन के वेस्ट के रूप में प्यूरिन को निकालता है, तब ओट्स का फाइबर इसे अपने साथ बांध लेता और पानी को सोखते हुए शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है।
एवोकाडो
एवोकाडो भी हेल्दी फाइबर से भरपूर होता है और ये भी यूरिक एसिड से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद कर सकता है। इस फल में मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी गुण भी यूरिक एसिड और गाउट में होने वाले दर्द से बचाते हैं।
साबुत अनाज और फलियां
फाइबर रिच साबुत अनाज और फलियों का सेवन भी काफी फायदेमंद हो सकता है। इन्हें खाने से भी प्यूरिन तेजी से बॉडी से फ्लशआउट हो जाता है।
इन सब के अलावा आप अपनी डाइट में सेब, चेरी, ज्वार की रोटी, मूंग दाल आदि फाइबर से भरी चीजों को भी शामिल कर सकते हैं।

Visited 167 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : देवों के देव शिव शंभू, शिव शंकर साल का सबसे प्रिय माह श्रावण मास माना जाता है। इस
तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा सितंबर और चौथे सेमेस्टर की परीक्षा मार्च में कोलकाता : 12 साल बाद उच्च माध्यमिक के
हावड़ा : तीन युवकों पर शनिवार को 12 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म कर उसे दफनाने का आरोप लगा
कल मुहर्रम पर महानगर में सुरक्षा चाक-चौबंद, ट्रैफिक होगी प्रभावित करीब 4 हजार पुलिस कर्मी रहेंगे तैनात कल शहर में
कोलकाता : 6 दोस्त मंदारमणि की यात्रा पर गए थे। सभी लोग समुद्र में स्नान करने गये। तभी 2 लोगों
रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया हुई शुरू कोलकाता : माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कक्षा 9 की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है। इसे
एक नजर प्याज : 50 रु. प्रति किलो टमाटर : 100 रु. प्रति किलो कोलकाता : पश्चिम बंगाल टास्क फोर्स
संजय मुखर्जी को बनाया गया डीजी दमकल कोलकाता : लोकसभा चुनाव और विधानसभा के उपचुनाव खत्म होते ही एक बार
कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश के बाद ईबी व टास्क फोर्स द्वारा मिलकर महानगर के विभिन्न बाजारों में
कोलकाता : कोलकाता में सोमवार को भगवान जगन्नाथ के 53वां उल्टा रथयात्रा का आयोजन किया गया। इस्कॉन कोलकाता के सौजन्य
कोलकाता : महानगर व आसपास क्षेत्रों के 19 अहम ब्रिज और फ्लाईओवर की मरम्मत की जायेगी। केएमडीए ने इसकी तालिका
कोलकाता : राज्य के मोटर ट्रेनिंग स्कूलों पर परिवहन विभाग द्वारा नकेल कसी जाने के लिये कई अहम कदम उठाये
ऊपर