डिप्रेशन रोगी को बिना खोपड़ी का…

शेयर करे

कोलकाता: डिप्रेशन का रोगी कोई क्यों बन जाता है, इसके कई कारण बतलाये जाते हैं। डिप्रेशन के लक्षण क्या क्या होते हैं, इसकी कोई निश्चित सूची नहीं है। यह मानसिक विकार जनित रोग है जो मनुष्य की भावनाओं से जुड़ा है।

डिप्रेशन में आदमी हतोत्साहित रहता है। उसमें ऊर्जा शक्ति क्षीण रहती है जिसके कारण उसमें शौर्य, साहस, संघर्ष करने की शक्ति, आगे बढऩे का हौसला क्षीण होता जाता है। जिसके फलस्वरूप डिप्रेशन के रोगी अपने को दीन हीन और असहाय समझते हैं। उसका महत्त्व उसकी अपनी नजर में गिर जाता है।

आदमी में सकारात्मक सोच और रचनात्मक प्रकृति या तो मर जाती है या निष्प्रभावी बन जाती है। जब आदमी यह सोचने लगे कि हमसे यह काम नहीं होगा, कोई काम करने में भयभीत हो जाये, असाध्य होने का डर बना रहे तो ऐसी हालत में वह आदमी किसी काम का नहीं होता। तब वह सकारात्मक सोच से नकारात्मक सोच की ओर तथा रचनात्मक प्रकृति, से विध्वंसात्मक प्रकृति की ओर भागने लगता है। वह किसी काम का कोई उत्तदायित्व नहीं लेना चाहता। उसमे आगे बढक़र कोई काम करने की हिम्मत नहीं होती।

डिप्रेशन में विचारों का ऐसा असंतुलन हो जाता है कि सामान्य से हटकर बिलकुल असामान्य रूप से बोलने और व्यवहार करने लगता है। वह ऐसा विवादग्रस्त होता है कि अवसाद में डूबा रहता है और हरदम उदास रहता है। नकारात्मक सोच के कारण आदमी को हर काम कठिन और असंभव लगता है। अगर, कोई व्यक्ति कोई काम करता है तो उसमें दोष तथा त्रुटि देखने का वह आदि हो जाता है। वह पराक्रमी तथा पुरूषार्थ व्यक्ति की छाया से भी डरता हे। वह आदमी में तो क्या, वह भगवान में भी दोष देखने लगता है। असल में जब वह कुछ करने की स्थिति में नहीं होता तो अपनी हैसियत या हस्ती दूसरों को नीचा दिखाने में करता है।

दूसरों का मजाक उड़ाना, दूसरों की खुशी में भाग लेने से भागना, दूसरे की उपलब्धियों की उपेक्षा करना या नगण्य समझना उसकी नियति हो जाती है। डिप्रेशन आदमी में इतना अवसाद पूर्ण हो जाता है कि वह अपनी ऊंची डिग्रियां, योग्यता और सामर्थ्य को भी भुला देता है।

ऐसा व्यक्ति अपने मित्रों से कतराता है, अपने परिवारों से दूर रहता है और जो उसके नजदीक रहने वाले होते हैं उनसे वे झगड़ा करने पर उतारू हो जाता है। झगड़ा करने तथा गाली गलौज करता है। वह समस्त मानवीय मर्यादाओं तथा नाते रिश्ते की गरिमा भुला देता है। वह अकेला रहना पसंद करता है। अपने काम के प्रति उदासीन तो हो ही जाता है, इस तरह उसका अपना चित्र, चरित्र भी धूमिल हो जाता है। उनका व्यवसाय या उद्योग धंधे भी खराब हो जाते हैं।

ऐसे लोगों को कोई नहीं समझा सकता है और न ही उन्हें चिकित्सा के लिए डाक्टर के पास भेजा जा सकता है। डिप्रेशन में ऐसा लगता है जैसे रोगी का सिर नीचे तथा पैर ऊपर हो। वह बिलकुल उल्टी खोपड़ी का आदमी बन जाता है।जो आदमी उल्टी खोपड़ी का होता है, वह हर बात उल्टी ही बोलेगा, हर काम उल्टा ही करेगा। ऐसी स्थिति में उसका बड़ा घातक परिणाम सामने आता है। इसलिए यदि मानसिक विकारों से ग्रसित व्यक्ति को डिप्रेशन की श्रेणी में रखा जाता है और यदि समय पर इसका इलाज नहीं हुआ तो ‘पागल’ की श्रेणी में चला जाता है। ऐसे केस में रोगी की चिकित्सा भी की जाती है तथा उसके साथ कॉउसलिंग भी की जाती है, जहां उसके साथ बातचीत के द्वारा उसके दिमाग को जागृत किया जाता है ताकि वह असामान्य अवस्था से उबर कर सामान्य जीवन के मार्ग पर आ सके।

Visited 45 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : देवों के देव शिव शंभू, शिव शंकर साल का सबसे प्रिय माह श्रावण मास माना जाता है। इस
तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा सितंबर और चौथे सेमेस्टर की परीक्षा मार्च में कोलकाता : 12 साल बाद उच्च माध्यमिक के
हावड़ा : तीन युवकों पर शनिवार को 12 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म कर उसे दफनाने का आरोप लगा
कल मुहर्रम पर महानगर में सुरक्षा चाक-चौबंद, ट्रैफिक होगी प्रभावित करीब 4 हजार पुलिस कर्मी रहेंगे तैनात कल शहर में
कोलकाता : 6 दोस्त मंदारमणि की यात्रा पर गए थे। सभी लोग समुद्र में स्नान करने गये। तभी 2 लोगों
रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया हुई शुरू कोलकाता : माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कक्षा 9 की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है। इसे
एक नजर प्याज : 50 रु. प्रति किलो टमाटर : 100 रु. प्रति किलो कोलकाता : पश्चिम बंगाल टास्क फोर्स
संजय मुखर्जी को बनाया गया डीजी दमकल कोलकाता : लोकसभा चुनाव और विधानसभा के उपचुनाव खत्म होते ही एक बार
कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश के बाद ईबी व टास्क फोर्स द्वारा मिलकर महानगर के विभिन्न बाजारों में
कोलकाता : कोलकाता में सोमवार को भगवान जगन्नाथ के 53वां उल्टा रथयात्रा का आयोजन किया गया। इस्कॉन कोलकाता के सौजन्य
कोलकाता : महानगर व आसपास क्षेत्रों के 19 अहम ब्रिज और फ्लाईओवर की मरम्मत की जायेगी। केएमडीए ने इसकी तालिका
कोलकाता : राज्य के मोटर ट्रेनिंग स्कूलों पर परिवहन विभाग द्वारा नकेल कसी जाने के लिये कई अहम कदम उठाये
ऊपर