कांग्रेस के आत्मघाती चेहरे

लेखक- विष्णुगुप्त

कांग्रेस में इन दिनों एक के बाद एक कई आत्मघाती चेहरे सामने आ रहे हैं, जो समय-समय पर कांग्रेस की साख, विश्वसनीयता और उसके अस्तित्व को ग्रहण लगा रहे हैं। उसे दीमक की तरह चाट रहे हैं। ये चेहरे बयानबाज हैं और अपने बयानबाजी से न केवल अति विवाद खड़ा करते हैं बल्कि खुद की और कांग्रेस की जगहंसाई कराते हैं। कभी-कभी तो ये सभी नैतिक सीमाओं को पार कर गाली-गलौज की भाषा तक उतर जाते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि दुश्मन देश पाकिस्तान में बैठकर अपने देश की सरकार और उसके प्रमुख पर अश्लील और नुकसानदेह बयानबाजी करते हैं, लेकिन ऐसे आत्मघाती बयानों से कांग्रेस अपना पीछा नहीं छुड़ाना चाहती है। जब कांग्रेस के नेतृत्व से ही ऐसी आत्मघाती बयानबाजी, आत्मघाती चेहरे से कोई लगाम की उम्मीद नहीं बनती है तो फिर यह सुनिश्चित कैसे होगा कि कांग्रेस के बयानबाज और आत्मघाती चेहरे अपनी बयानबाजी और राजनीति में नैतिकता और शुचिता को स्थापित कर देश की राजनीति में रचनात्मक विरोध का रास्ता अपनायेंगे? कांग्रेस के अंदर पहले चमचागीरी करने वाले चेहरे तो हुआ करते थे पर आत्मघाती चेहरे नहीं होते थे। नेहरू से लेकर राजीव गांधी तक ऐसी स्थिति थी। इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के पक्ष में एक के बाद एक चमचागीरी करने वाले कई चेहरे जरूर थे पर वे ऐसी कोई बयानबाजी नहीं करते थे, जिससे कांग्रेस का ही नुकसान हो और कांग्रेस की जगहंसाई हो तथा जनांकाक्षा कांग्रेस के खिलाफ हो जाये। लेकिन जैसे ही कांग्रेस में सोनिया गांधी-राहुल गांधी का नेतृत्व आया, वैसे ही कांग्रेसी बेलगाम हो गये, अहंकारी हो गये। खुद राहुल गांधी अमरीका में स्वीकार कर चुके हैं कि कांग्रेस अहंकारी हो गयी थी। कांग्र्रेस के नेताओं को यह अहंकार हो गया था कि वे जो कहेंगे, चाहे वह बात राजनीतिक तौर पर अस्वीकार करने वाली ही होगी, जनता स्वीकार कर ही लेगी और उसका कोई दुष्परिणाम नहीं निकलेगा। जाहिर तौर पर कांग्रेस सत्ता से दूर हो गयी। सत्ता से दूर होने के बावजूद कांग्रेस अहंकार से मुक्त नहीं हुई है। कांग्रेसी नेताओं की गाली-गलौज वाली भाषा बंद नहीं हुई है। अतिवादिता उन पर हावी है। यही कारण है कि कांग्रेस हार पर हार झेल रही है, फिर भी उसका जगहंसाई और आत्मघात करने वाले प्रश्नों से पीछा नहीं छूट रहा है।
अभी-अभी दो गाली-गलौज वाली कांग्रेस की राजनीतिक प्रवृत्तियां जनचर्चा में हैं और ये दोनों गाली-गलौज वाली कांग्रेसी राजनीतिक प्रवृत्तियों ने कांग्रेस की जड़ों को न केवल कमजोर किया है बल्कि कांग्रेस की जमकर जगहंसाई करायी है। जब ये कांग्रेसी राजनीतिक प्रवृत्तियां जन कसौटी पर परख कर कांग्रेस के लिए नुकसानजनक रूप में सामने आयीं तो फिर माफी जैसे शब्द से नुकसान की भरपाई करने की चाल भी सामने आयी। पर नुकसान तो कांग्रेस का हो चुका था। सबसे पहले मनीष तिवारी की गाली-गलौज वाली ट्वीट की चर्चा आपके सामने है। मनीष तिवारी की ट्वीट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ गाली-गलौज की भाषा में एक टिप्पणी आयी। टिप्पणी लिखने के समय मनीष तिवारी को यह अहसास नहीं होगा कि उसका प्रतिफल इतना कठोर और नुकसानदेह होगा और कांग्रेस की मजबूत जड़ों पर प्रश्नचिह्न लग जायेगा। मनीष तिवारी की गाली-गलौज वाली टिप्पणी जैसे ही ट्वीट पर वायरल हुई, वैसे ही आभासी दुनिया में तूफान आ गया। भाजपा और नरेंद्र मोदी की टीम से जवाब आने के पूर्व आभासी दुनिया ने कांग्रेस की जड़ों की खुदाई करनी शुरू कर दी, ऐसे-ऐसे जवाब दिये गये, जिससे कांग्रेस की खूब जगहंसाई हुई, कांग्रेस के खिलाफ जनाक्रोश भी पनपा। बात यह स्थापित हुई कि क्या यह कांग्रेस गांधी-नेहरू और तिलक जैसे महापुरुषों की है, जो अपने विरोधियों से भी प्यार करते थे और उन्हें सम्मान देते थे, क्या मनीष तिवारी जैसे लोगों की कांग्रेस में जगह होनी चाहिए? बात सिर्फ इतनी भर नहीं है बल्कि कम्युनिस्टों को भी मनीष तिवारी की गाली-गलौज की भाषा स्वीकार नहीं हुई। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता डी. राजा ने विरोध जताते हुए कहा कि हमारी विचारधारा अलग है पर नरेंद्र मोदी इस देश के प्रघानमंत्री हैं, इसलिए मनीष तिवारी और कांग्रेस को विरोध के लिए संयमित भाषा का प्रयोग करना चाहिए।
प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ गाली-गलौज का दूसरा प्रकरण दिग्विजय सिंह के साथ जुड़ा हुआ है। दिग्विजय सिंह ने एक ऐसे झूठे ट्वीट को आधार बनाकर प्रधानमंत्री मोदी को गाली देने का काम किया था। दिग्विजय की राजनीतिक भाषा कैसी है और दिग्विजय लगातार नाकामयाबियां झेलते-झेलते कितने गुस्सैल हो गये हैं, उनका गुस्सा भाजपा और नरेंद्र मोदी के खिलाफ किस प्रकार से फूटा था, यह भी जगजाहिर है। अपनी गाली गलौज वाली टिप्पणी का मोहरा दिग्विजय सिंह ने रवीश कुमार को बनाया था। जब मीडिया और आभासी दुनिया में तूफान उठा तब रवीश कुमार को जवाब देने के लिए बाध्य होना पड़ा कि जिस ट्वीट पर दिग्विजय सिंह ने गाली-गलौज की भाषा लिखी है, वह ट्वीट उनका है ही नहीं। रवीश कुमार के स्पष्टीकरण के बाद दिग्विजय सिंह की असलियत खुल चुकी थी। दिग्विजय सिंह की गाली-गलौज वाली भाषा ने कांग्रेस के खिलाफ जनमत तैयार कर दिया था।
कांग्रेस के नेता और पूर्व मंत्री मणिशंकर अय्यर ने पाकिस्तान में नरेंद्र मोदी की तुलना संहारक और नकारात्मक राजनीति से की थी, सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि अय्यर ने नरेंद्र मोदी को हटाने के लिए पाकिस्तान से सहयोग भी मांगा था। यही अय्यर हैं, जिन्होंने कहा था कि क्या एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री बनेगा, नरेंद्र मोदी कभी भी प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे? अय्यर के जवाब में यह कहा गया था कि जब हवाई जहाज का ड्राइवर राजीव गांधी प्रधानमंत्री बन सकता है तो फिर एक चाय बेचने वाले मोदी क्यों नहीं प्रधानमंत्री बनेंगे? परिणाम भी अय्यर के खिलाफ आया। मोदी प्रधानमंत्री बन गये। अय्यर आज भी मोदी के खिलाफ कोई न कोई अस्वीकार्य योग्य बयानबाजी करते ही रहे हैं। कांग्रेस के अंदर अभी दो नेता अति सक्रिय हैं। एक पी चिदंबरम और दूसरा सुशील कुमार शिंदे। जब कांग्रेस नेतृत्व वाली संप्रग सरकार थी, तब इन दोनों नेताओं ने दुष्परिणामों की चिंता किये बिना हिंदू आतंकवाद की थ्योरी दी थी। इन लोगों ने सोचा था कि हिंदू आतंकवाद को प्रत्यारोपित करने से भाजपा और संघ जमींदोज हो जायेंगे। हुआ उल्टा। हिंदू आतंकवाद के प्रत्यारोपण के खिलाफ सक्रिय होकर भाजपा और संघ ने कांग्रेस को सत्ता से बाहर कर दिया। कांग्रेस यह स्वीकार कर चुकी है कि हिंदुओं के विरोध के कारण ही उनकी सत्ता गयी और मोदी प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे हैं।
वंशवाद की थ्योरी भी कांग्रेस के लिए असहज और नुकसानदेह है। राहुल गांधी ने अमरीका में कहा कि वंशवाद देश को पीछे धकेल रहा है। हर जगह वंशवाद पनपा हुआ है। आधुनिक भारतीय राजनीति में वंशवाद का जन्मदाता कौन है? वंशवाद के जन्मदाता तो राहुल गांधी के खानदान के पुरोधा पंडित जवाहर लाल नेहरू ही हैं। खुद राहुल गांधी वंशवाद की उपज हैं। अगर वे नेहरू खानदान के नहीं होते तो फिर उनको देश में कौन पूछता? राहुल गांधी ने भी हिंदुओं को अपमानित करने वाली भाषा बोलकर अमरीकी प्रतिनिधि से कहा था कि हमारे देश को हिंदू आतंकवाद से खतरा है। अभी चीन के साथ जब तनातनी चल रही थी और युद्ध जैसी स्थिति थी तब राहुल गांधी चीन के राजदूत से मिलने चले गये थे। राहुल गांधी के इस कदम को देश की जनता ने अस्वीकार कर दिया था। अतिवाद और अति विरोध से बचना चाहिए, पर कांग्रेस नरेंद्र मोदी के खिलाफ अतिवाद और अति विरोध की शिकार हो जाती है, जैसे बुलेट ट्रेन का विषय। जापानी सहयोग से आने वाली बुलेट ट्रेन की परियोजना को कांग्रेस ने अति विरोध की परिधि में खड़ा कर दिया। कांग्रेस का कहना था कि बुलेट ट्रेन की परियोजना गरीब विरोधी है। पहले देश की रेलगाड़ियों को सुधारो और जर्जर रेल पटरियों को बदलो। जनता का प्रश्न यह है कि कांग्रेस ने 70 सालों में रेल पटरियां क्यों नहीं बदली और अब कांग्रेस के विरोध की जरूरत क्या है? कई ऐसे प्रश्न हैं, जिसमें कांग्रेस मोदी के विरोध में अतिवाद का शिकार हो गयी है। कांग्रेस को ऐसे प्रश्नों से बचना होगा और नुकसानदेह आत्मघाती चेहरों का अस्वीकार करना होगा तभी कांग्रेस को अपनी विश्वनीयता वापस लेने का अधिकार हासिल होगा। वरिष्ठ पत्रकार

एसे अन्य लेख

मुख्य समाचार

यहा पढ़े अप्रैल माह में क्या कहते..

नई दिल्लीः अप्रैल का महीना ज्योतिषशास्त्र की दृष्टि से बहुत ही खास होने वाला है। महीने के पहले हफ्ते में ही नवरात्र शुरू हो रहे आगे पढ़े »

पाक सेना की आलोचना करने वाली महिला..

अपहरण के पीछे था पाक की खुफिया विभाग व सेना का हाथ, डर के चलते महिला ने पुलिस को नहीं दिया बयान लाहौरः पाकिस्तान में पाक आगे पढ़े »

लाइलाज नहीं है कैंसर, समय पर जानकारी..

नारायणा हैल्थ द्वारा संचालित धर्मशिला नारायणा सुपरस्पेशलिटी अस्पताल ने विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर ‘चेतना - एक पहल विजेताओं द्वारा’ नाम से कार्यक्रम का आगे पढ़े »

आंतरिक सुरक्षा पर बड़ा निर्णय, 25 हजार..

नयी दिल्ली : केंद्र ने आंतरिक सुरक्षा की चुनौतियों तथा राज्यों में कानून व्यवस्था की स्थिति से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए बड़ा निर्णय आगे पढ़े »

कांग्रेस के आत्मघाती चेहरे

कांग्रेस में इन दिनों एक के बाद एक कई आत्मघाती चेहरे सामने आ रहे हैं, जो समय-समय पर कांग्रेस की साख, विश्वसनीयता और उसके अस्तित्व आगे पढ़े »

सम्पादकीय : खतरनाक दोपहरी और लापरवाह ड्राइवर

हिंदू लोकाचार में कहा गया है कि सूरज जब मध्य आकाश से नीचे की ओर ढलने लगे तो यात्राएं रोक देनी चाहिए। न जाने समय आगे पढ़े »

खाते वक्त पानी न पीयें,नहीं तो……

क्या आपको भी खाना खाते वक्त पानी पीने की आदत हैं.....?? अगर आपका जवाब 'हाँ' है तो अब सावधान हो जायें। आपकी ये आदत आपके आगे पढ़े »

भाजपा महिला मोर्चा ने बसपा नेताओं की..

लखनऊ : भाजपा महिला मोर्चा ने भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) से निष्कासित दयाशंकर सिंह के परिजनों के खिलाफ कथित अभद्र टिप्पणी के अभियुक्त बहुजन समाज पार्टी(बसपा) आगे पढ़े »

लालू ने की बिहारवासियों को राज्य की..

पटना : देश के कई अन्य राज्यों की तरह बिहार के वासियों को अपने प्रदेश की नौकरियों में 80 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने की मांग आगे पढ़े »

पार्टी से अलग होकर सहयोगी दे रहे..

लखनऊः विधानसभा में विरोधी दल के नेता रहे स्वामी प्रसाद मौर्य और वरिष्ठ नेता आर. के. चौधरी के बाद बुधवार को 2 विधायकों ने बगावत आगे पढ़े »

आज और अभी के समाचार

मतगणना 2019 : एनडीए 349 पर आगे,..

यह खबर लगातार अपडेट हो रही है..... बने रहें सन्‍मार्ग के साथ.... कोलकाता: लोकसभा चुनाव 2019  के लिए लगातार रुझान आ रहे हैं। राहुल ने कहा- अमेठी आगे पढ़े »

कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे पीएम मोदी, संसदीय..

नई दिल्लीः सात चरणों में हुए लोकसभा चुनाव 2019 में मोदी लहर जारी है। मतणना की प्रक्रिया अभी भी सुचारू रूप से चल रही है। आगे पढ़े »

अमेरिका के लोग सिनेमा हॉल में देख..

वाशिंगटन : लोकसभा चुनावों के परिणामों की घोषणा अब कुछ ही देर में होने वाली है। अब तक जो नतीजे सामने आए हैं, उसमें भारत में आगे पढ़े »

प्रज्ञा ने तोड़ा मौन व्रत, कहा-बढ़त से..

भोपाल: भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने 63 घंटे का मौन व्रत तोड़ने के तुरंत बाद गुरुवार को कहा कि आगे पढ़े »

लोकसभा चुनाव परिणाम 2019ः जानें किसने क्या..

चौकीदार नरेंद्र मोदी@ narendramodi पीएम मोदी ने लिखा, 'सबका साथ + सबका विकास + सबका विश्वास = विजयी भारत' उन्होंने कहा,‘ हम साथ मिलकर बढ़ेंगे, साथ आगे पढ़े »

बहुमत की ओर बढ़ती भाजपा, उत्तर प्रदेश..

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) मतगणना में लगातार बढ़त बनाए हुए है। इस बार के चुनाव में आगे पढ़े »

चंद्रबाबू नायडू की सियासत पर सवालिया निशान

नयी दिल्ली: ईवीएम को लेकर लगातार सवाल उठाने वाले और लोकसभा चुनाव के बाद विपक्षी दलों को एकजुट करने की कवायद में लगे रहे आंध्र आगे पढ़े »

बंगाल : विधानसभा उपचुनाव में भी भाजपा..

कोलकाता : राज्य के 8 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में भाजपा को भारी बढ़त हासिल हुई हैं। चुनाव आयोग से प्राप्त रूझानों की मानें आगे पढ़े »

पहली बार 40,000 के पार सेंसेक्स

नयी दिल्ली: बंबई शेयर बाजार में जोरदार तेजी बनी हुई है। सेंसेक्स 481.56 अंक की बढ़त के साथ 39,591.77 पर खुला। कारोबार के दौरान 1015 अंक आगे पढ़े »

अमेठी में राहुल और स्‍मृति में कांटे..

नयी दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 का मतदान सात चरण में पूरा होने के बाद आज (23 मई) लोकसभा चुनाव परिणाम 2019 आ रहे हैं। निर्वाचन आगे पढ़े »

स्पोर्ट्स

भारत ने कोरिया को 2-1 से हराकर..

जिनचियोन (कोरिया) : भारत और दक्षिण कोरिया के बीच खेले जा रहे हॉकी मैच में बुधवार ‌दिलचस्प खेल देखने को मिला। यहां चल रहे तीन आगे पढ़े »

विश्व कप के लिये इंग्लैंड रवाना हुई..

मुंबई: आईसीसी विश्व कप 2019 के लिए विराट कोहली की अगुवाई वाली भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड के लिए रवाना हो गई। 30 मई से शुरू होने आगे पढ़े »

‘गॉड फादर’ धोनी

300 से अधिक मैच खेलने वाले एकमात्र खिलाड़ी धोनी का चौथा विश्व कप नई दिल्लीः भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी 30 मई से होने आगे पढ़े »

मैं लड़की के साथ ही घर बसाऊंगी..

'मेरा खेल मेरी प्राथमिकता, भविष्य में अपनी पार्टनर के साथ घर बसाना है' धारा 377 पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से मिली ताकत हैदराबादः भारत की स्टार आगे पढ़े »

इंग्लैंड की वर्ल्ड कप टीम में तीन..

नई दिल्लीः विश्व कप शुरू होने में अब कुछ ही ‌दिन बचे हैं पर कई सारी टीमें अब भी अपनी 15 खिलाड़ियों की अंतिम सूची आगे पढ़े »

विश्व कप में परिस्थितियां नहीं, दबाव को..

मुंबईः भारतीय क्रिकेट टीम विश्व कप के लिए बुधवार यानी 22 मई को इंग्लैंड रवाना होगी। उससे पहले भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली आगे पढ़े »

ऑलराउंडर होंगे ‘तुरूप का इक्का’

लगभग हर टीम में दो से चार बेहतरीन ऑलराउंडर टीम इंडिया में हार्दिक पांड्या, विजय शंकर, केदार जाधव और रविंद्र जडेजा के रूप में  4 ऑलराउंडर आगे पढ़े »

धोनी संन्यास लेने के बाद चित्रकार बनना..

नयी दिल्लीः भारत की टी20 और वनडे विश्व कप विजेता टीमों के कप्तान रहे 37 वर्षीय महेंद्र सिंह धोनी ने बचपन के अपने सपने को आगे पढ़े »

विश्वकप के बाद अफगानिस्तान कोच पद से..

नई दिल्लीः आईसीसी विश्व कप के बाद विंडीज के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी फिल सिमंस अफगानिसतान क्रिकेट टीम के कोच का पदभार छोड़ देंगे। दिसंबर 2017 आगे पढ़े »

हमारे गेंदबाज कहीं भी विकेट लेने में..

एक साल में भारतीय गेंदबाजों ने सबसे ज्यादा 202 विकेट लिए अफगानिस्तान दूसरी बार वर्ल्ड कप खेल रहा नई दिल्लीः भारतीय टीम के महान बल्लेबाजों में से आगे पढ़े »

विदेश

अमेरिका के लोग सिनेमा हॉल में देख..

वाशिंगटन : लोकसभा चुनावों के परिणामों की घोषणा अब कुछ ही देर में होने वाली है। अब तक जो नतीजे सामने आए हैं, उसमें भारत में आगे पढ़े »

पर्यटन मंत्रालय की वेबसाइट पर रूसी भाषा..

बिश्केक : शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के पर्यटकों की सुविधा के लिए भारत के पर्यटन मंत्रालय की वेबसाइट पर अगले महीने के अंत से रूसी आगे पढ़े »

फिर से घिरी फास्ट फूड कंपनी मैकडॉनल्ड्स,..

वाशिंगटनः अमेरिका की फास्ट फूड कंपनी मैकडोनाल्ड्स एक बार फिर से विवादों में आ गया है। दरअसल, इसके अलग-अलग कार्यलयों से 25 नए उत्पीड़न के आगे पढ़े »

अब दिमाग से नियंत्रित हो सकेंगे कई..

वाशिंगटन : भारतीय मूल का एक वैज्ञानिक और उसकी टीम अमेरिकी सेना के लिए मस्तिष्क से नियंत्रत होने वाली प्रणाली का विकास करेंगे। उन्होंने इसके आगे पढ़े »

मानव शव से खाद बनाने की मंजूरी,..

वॉशिंगटन: पहली बार ऐसा हो रहा है जब किसी देश ने मानव खाद बनाने की मंजूरी दी हो। अमेरिका का वॉशिंगटन पहला ऐसा राज्य बन आगे पढ़े »

एससीओ विदेश मंत्रियों की बैठक के लिए..

बिश्केक : शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की दो दिवसीय बैठक में शामिल होने के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज मंगलवार को किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक आगे पढ़े »

ईरान का अमेरिका को करारा जवाब, कहा-..

तेहरानः ईरान और यूएस के बीच विवाद काफी बढ़ गया है। दोनों देश एक-दूसरे के खिलाफ खूब आक्रमक बयान दे रहे हैं। ईरान के विदेश आगे पढ़े »

पाक ने मुइनुल हक को भारत में..

इस्लामाबादः पाकिस्तान ने भारत में राजनयिक मुईनुल हक को सोमवार को अपना नया उच्चायुक्त बनाया है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को भारत, चीन और आगे पढ़े »

सऊदी हवाई अड्डे के हथियार डिपो पर..

सना : यमन में चल रहे युद्ध को लेकर हूती विद्रोहियों ने हमले तेज कर दिए हैं। विद्रोहियों ने सऊदी अरब के सीमावर्ती शहर नजरान आगे पढ़े »

एफिल टॉवर पर चढ़ने वाला व्यक्ति गिरफ्तार

पेरिस: फ्रांस की राजधानी पेरिस में एफिल टॉवर पर चढ़ने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है। एफिल टॉवर पर एक व्यक्ति चढ़ता हुआ आगे पढ़े »

ऊपर