वाराणसी से मोदी को सांसद बनाने के खिलाफ अदालत पहुंचा यह शख्स

Tej Bahadur and Modi

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वाराणसी से सांसद बनाने के खिलाफ एक शख्स ने इलाहाबाद हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उसकी याचिका पर हाईकोर्ट ने प्रधानमंत्री मोदी को नोटिस भी जारी कर दिया है। इस चुनाव को चुनौती देने वाला और कोई नहीं बल्कि बीएसएफ से बर्खास्त वही जवान है, जिसे समाजवादी पार्टी ने मोदी के खिलाफ अपना प्रत्याशी बनाया था, लेकिन उसका नामांकन ही खारिज हो गया था। बर्खास्त जवान का नाम है तेज बहादुर यादव। यादव के वकील की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने मोदी से जवाब मांगा है। मामले में अगली सुनवाई 21 अगस्‍त को होगी।

गलत तरीके से रद्द किया गया नामांकन

नामांकन खारिज किये जाने पर तेज बहादुर यादव ने कहा था कि ‘मेरा नामांकन गलत तरीके से रद्द किया गया। इस मामले में मैंने सबूत दिए भी। इसके बावजूद मेरा नामांकन रद्द कर दिया गया। हम इसके खिलाफ शीर्ष न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे।’ हालांकि, बाद में समाजवादी पार्टी के उम्‍मीदवार तेज बहादुर की या​​चिका उच्चतम न्यायालय ने भी खारिज कर दी थी।

बीएसएफ से एनओसी लाने के मिले थे निर्देश

मोदी के सामने संसदीय सीट वाराणसी से तेज बहादुर चुनाव लड़ने की तैयारी में थे। तेज बहादुर के नामांकन पत्र की जांच के बाद बीएसएफ से बर्खास्तगी की दो अलग-अलग जानकारी सामने आई थी। इसके बाद उन्हें 24 घंटे के अंदर बीएसएफ से अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) लेकर जवाब देने को कहा गया था। तेज बहादुर से नोटिस में कहा गया था कि वह बीएसएफ से एनओसी लेकर आएं, जिसमें यह साफ किया गया हो कि उन्हें किस वजह से नौकरी से बर्खास्त किया गया था।

बता दें तेज बहादुर के नामांकन रद्द होने के बाद एसपी से शालिनी यादव ने माेदी के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ा, जिसमें उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा था और वे तीसरे नंबर पर रही थीं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

bhool bhoolaiya

‘भूल भूलैया 2’ की पहली झलक में बिलकुल अक्षय की तरह नजर आये ये अभिनेता

मुंबई : बॉलीवुड अभिनेता कार्तिक आर्यन ने फिल्‍म 'सोनू के टीटू की स्वीटी' के बाद बहुत ही कम समय में अपनी एक खास पहचान बना आगे पढ़ें »

jaitly

अरुण जेटली की हालत नाजुक, आडवाणी सहित कई नेता पहुंचे एम्स

नई दिल्ली : पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली की हालत काफी नाजुक बताई जा रही है। उनकी सेहत की जानकारी लेने के लिए भाजपा के आगे पढ़ें »

ऊपर