मलिक से बोले राहुल- हमें विमान नहीं घूमने की आजादी चाहिए

श्रीनगर : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के राज्य की यात्रा करने के न्यौते को स्वीकार कर लिया है। उन्होंने कहा है कि मैं आपके इस न्यौते को स्वीकार करता हूं। साथ ही कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की यात्रा के पर मेरे साथ कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल वहां जरूर जाएगा, लेकिन इसके लिए हमें विमान की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरा आपसे निवेदन है कि हमें यात्रा करने के साथ साथ और लोगों से मिलने की भी आजादी दी जाए। उन्होंने यह भी कहा कि बस वो इतना करें कि राज्य में हमें मुख्यधारा में शामिल नेताओं, स्‍थानीय लोगों और घाटी में तैनात सुरक्षाकर्मियों से स्वतंत्र रूप से मिलने की इजाजत दें।

राज्यपाल ने जताई नाराजगी

मालूम हो कि राहुल ने कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में शामिल पत्रकारों से कहा था कि जम्मू-कश्मीर के हालात बेहद खराब हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राज्य की वास्तव‌िक स्थिति देश को बतानी चाहिए। इसी बात पर नाराजगी जताते हुए मलिक ने कहा कि एक नेता के तौर पर संसद में मूर्खों की तरह बात करने के व्यवहार पर उन्हें शर्म आनी चाहिए। घाटी के हालात देखने के बाद ही राहुल को ही कुछ बोलना चाहिए। राहुल एक जिम्मेदार आदमी हैं और उन्हें ऐसी बातें नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा राज्य से अनुच्छेद 370 हटाये जाने का सांप्रदायिकता से कोई संबंध नहीं है।

गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 और 35ए को हटाने के बाद से कांग्रेस और विपक्षी दल के नेताओं ने सरकार और गवर्नर पर आरोप लगाया है कि ऐसा करने से राज्य में हाे रही गतिविधियों के बारे में पता लगाना मुश्‍किल हो गया है। राज्य में इंटरनेट और अन्य सेवाएं बंद हाेने से वहां की जानकारी पाना कठिन हो गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार !

बजट कार्यालय ने व्यक्त किया अनुमान वाशिंगटनः अगले वित्त वर्ष में अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार जाने की आशंका है। यह आगे पढ़ें »

new zealand speaker

न्यूजीलैंड : संसद में रो रहे बच्चे को स्पीकर ने पियाला दूध, लोगों ने की सराहना

वेलिंगटन : न्यूजीलैंड के संसद भवन में स्पीकर ट्रेवर मलार्ड ने एक सांसद के बेटे को दूध पिलाया। मालूम हो कि संसद भवन में आमतौर आगे पढ़ें »

ऊपर