50 वर्षों की लड़ाई के बाद पहली बार बने विधायक मधुसूदन घोष

‘हिंदी भाषियों के प्रति नीतियां बनाकर ही उनका विकास संभव’ 1964 से बंगाल में कांग्रेस से जुड़़करindex-1 अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले मधुसूदन घोष 50 वर्षों के लड़ाई के बाद पहली बार विधायक बने हैं। इस दौरान वे कभी पंचायत सदस्य बनें तो कभी उन्होंने गारुलिया नगरपालिका में अपने वार्ड के लोगों का दिल जीतकर पार्षद पद पर उनके हित के लिए काम किया। एक बार वे गारुलिया नगरपालिका के चेयरमैन भी नियुक्त हुए। 65 की उम्र पार कर चुके कांग्रेस नेता ने जहां इस बार चुनाव लड़ने के प्रति पहले तो उदासीनता बनायी रखी थी वहीं गठबंधन के तहत कांग्रेस से चुनाव लड़ने की जिम्मेदारी दिये जाने पर वे इस बार भी अपनी जिम्मेदारियों से चूके नहीं और उन्होंने अपनी ओर से ऐड़ी चोटी का बल लगा दिया। उनके परिश्रम का फल भी उन्हें मिला और नोआपाड़ा के लोगों ने उन्हें अपना विधायक चुना। कांग्रेस विधायक मधुसुदन घोष से सन्मार्ग ने कई विषयों पर बातचीत की, पेश है उनसे बातचीत के अंश-
सन्मार्ग : जीतने की कितनी उम्मीद थी ?
मधुसूदन घोष : उम्मीद तो थी, क्योंकि लोग यहां पूर्व तृणमूल विधायक के कार्य न करने से नाखुश थे। उन्हें काम की उम्मीद थी और लोगों ने यहां मुझे पहले काम करते हुए देखा है। यही कारण है कि मेरी जीत हुई।
सन्मार्ग : सरकार तृणमूल की, कितना मुश्किल है काम करना ?
मधुसूदन घोष : विधायक को बराबर ही फंड मिलेंगे चाहे वह विधायक तृणमूल का हो या किसी और दल का। अब रही बात काम करने की तो मैं अपने फंड से ग्रामीण इलाकों में काम करने पर विशेष जोर दूंगा क्योंकि वहां के लोग अभी भी बहुत तकलीफ में हैं। रास्ता-घाट, स्वास्थ्य केंद्र, पेय जल की समस्याएं तुलनात्मक तरीके से वहां अधिक है। मैं मिलने वाले विधायक फंड का अपनी स्तर पर उपयोग कर काम करूंगा और उम्मीद करता हूं कि जनहित में राज्य सरकार मेरी मदद करेगी।
सन्मार्ग : आपके विचार से गठबंधन का यहां क्या भविष्य है ?
मधुसूदन घोष : यह गठबंधन ही दोनों दलों को भविष्य तय करेगी अतः जरूरी है कि जनता की यह जोट बना रहे और दोनों दल के नेता व कर्मी एकजुट होकर काम करे। मेरा विचार है कि अभी न तो माकपा और ना ही कांग्रेस ही बंगाल में अकेले दम भरने के काबिल है। दोनों को नीतियां बनाकर संगठन को मजबूत बनाना है ताकि आगे मुकाबला टक्कर का हो।
सन्मार्ग : गारुलिया में हिंदीभाषियों की संख्या अधिक है उनके विकास की क्या योजना है?
मधुसूदन घोष : मुझे लगता है कि जिन नगरपालिकाओं में हिंदीभाषी आबादी 40 प्रतिशत तक व उससे अधिक है वहां उनके प्रति अलग से नीतियों पर काम किया जाना चाहिए। गारुलिया में ज्यादातर हिंदीभाषी बस्ती इलाकों में निवास करते हैं। उन्हें रहने और शौचालयों की भारी समस्या झेलनी पड़ती है अतः उनके विकास के लिए नगरपालिका को अलग से सोचना होगा। मैं अपने स्तर पर बस्तियों में होने वाली इन समस्याओं को दूर करने पर प्राथमिकता रखूंगा।
सन्मार्ग : नोआपाड़ा में गंगा किनारे धंसान की समस्या के लिए क्या कदम उठाएंगे?
मधुसूदन घोष : यह एक बड़ी समस्या है जिसके निदान के लिए काफी फंड की जरूरत है। मेरी कोशिश है कि मैं केंद्र से इसके लिए फंड का जुगाड़ करूं, इसके लिए अस्थायी उपाय करना पैसों की बरबादी है अतः स्थायी कदम ही उठाना पड़ेगा।

मुख्य समाचार

जेट एयरवेज कर्मियों की सरकार करेगी मदद, उनके लिए बनाएगी वेबसाइट

नई दिल्ली : जेट एयरवेज के पूर्व कर्मचारियों की मोदी सरकार मदद करेगी। यह बात सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने कही। सरकार जेट आगे पढ़ें »

6 year old girl raped

दिल्ली में 6 साल की बच्ची के साथ हुई हैवानियत, हालत ऐसी की चिल्ला भी नहीं पाती

नई दिल्लीः आए दिन बच्चों से होने वाली दुष्कर्म की घटना को देखते हुए गत दिनों सुप्रीम कोर्ट ने इसपर स्वत: संज्ञान लेने के बाद आगे पढ़ें »

खत्म होने वाला था विमान का ईंधन, लखनऊ में न उतारते तो 153 मरते

मुंबई : मुंबई से दिल्ली जा रही विस्तारा एयरलाइंस के ए-320 विमान की लखनऊ में लैंडिंग कराई गई। इस विमान में 153 यात्री सवार थे। आगे पढ़ें »

kumaraswamy-yeddyurappa

कर्नाटक मामला : घूम-फिरकर फिर वहीं…

बेंगलुरु : कर्नाटक में चल रही राजनीतिक उठापटक के बीच बागी विधायकों द्वारा दायर याचिका पर बुधवार को शीर्ष न्यायालय ने सुनवाई करते हुए अपना आगे पढ़ें »

अब रेलयात्रियों के टिकट होंगे कनफर्म, रेलवे ने उठाया यह खास कदम

नई दिल्ली : रेल यात्रियों की मांग को देखते हुए पूर्वोत्तर रेलवे ने कई ट्रेनों में अतिरिक्त डिब्बे बढ़ाने की घोषणा की है, जिसके बाद आगे पढ़ें »

तेज आंधी के साथ बारिश ने पहुंचायी राहत, महानगर में पांच जगहों पर गिरे पेड़

कोलकाता : पिछले कई दिनों से भीषण गर्मी से परेशान महानगरवासियों को मंगलवार की दोपहर हुई बारिश से राहत मिली। बारिश के कारण शहर के आगे पढ़ें »

रणक्षेत्र बना बनगांव, बमबाजी से दहला इलाका

कोलकाता : बनगांव नगरपालिका में अविश्वास प्रस्ताव के दौरान पूरा क्षेत्र रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। तोड़फोड़, लाठीचार्ज और बमबाजी से पूरा इलाका दहल गया। आगे पढ़ें »

tied the son to chains

पंजाब : नशे की लत छुड़ाने के लिए बेटे को जंजीर से बांधा

पटियाला : पंजाब में नाभा तहसील के एक परिवार ने अपने बेटे को 10 दिन से जंजीर से बांध रखा है। दरअसल, 22वर्षीय संदीप को आगे पढ़ें »

G Kishan Reddy

गृह मंत्रालय ने कहा- 5 सालों में 963 आतंकी ढेर,413 जवान शहीद

नई दिल्ली : केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्‌डी ने मंगलवार को लोकसभा में जानकारी दी की 2014 से अबतक घाटी में 963 आतंकी मारे आगे पढ़ें »

भारत में बीमा को लेकर बदल रही है सोच : रिपोर्ट

नई दिल्ली : भारत में लंबे समय से बीमाधारकों की संख्या बेहद कम रही है और बीमा को लेकर जागरुकता तो उससे भी कम रही आगे पढ़ें »

ऊपर