400 जान गंवाने के बाद अब केरलवासियों को बारिश से राहत की उम्‍मीद

तिरुवनंतपुरमः केरल के लोगों को लगातार 12 दिनों से चल रहे बाढ़ के प्रकोप से हल्की राहत मिलने लगी है। दरअसल, मौसम विभाग ने अगले पांच दिन बारिश नहीं होने का अनुमान जताया है। रविवार को 13 और शव मिलने के बाद आठ अगस्त से बारिश, बाढ़ और भूस्खलन में अब तक 210 लोगों की मौत हो गई। वहीं, इस मानसून में करीब 400 से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। उधर, कोच्चि के आईएनएस गरुड़ नेवल एयर स्टेशन पर सोमवार को पैसेंजर फ्लाइट उतारी गई। 14 अगस्त को पेरियार नदी में आई बाढ़ का पानी कोच्चि इंटरनेशनल एयरपोर्ट के परिसर में भर जाने की वजह से इसे 26 अगस्त तक बंद करने का फैसला किया गया था।
हजारों इलेक्ट्रीशियन, प्लम्बर, कारपेंटर की जरूरत
कोच्चि में एक घर की छत से नौसेना के कमांडर विजय वर्मा ने हेलिकॉप्टर के जरिए दो महिलाओं को एयरलिफ्ट किया था। स्थानीय लोगों ने इस घर की छत पर ‘थैंक्स’ लिखकर नेवी का शुक्रिया अदा किया है। उधर, केंद्रीय मंत्री केजे अल्फोंस ने सोमवार को कहा कि केरल के ज्यादातर इलाकों में बिजली नहीं है। बिजली आपूर्ति को नियमित करने के लिए हजारों इलेक्ट्रीशियन, प्लम्बर, कारपेंटर की जरूरत है। हमें कपड़ों और खाने की आवश्यकता नहीं है। केरल में करीब 7.5 लाख लोग बेघर हो चुके हैं। इनके लिए 5,645 राहत शिविर बनाए गए हैं। राज्य के 14 में से 11 जिले बारिश और बाढ़ से प्रभावित हैं, लेकिन सबसे ज्यादा असर अलाप्पुझा, एर्नाकुलम और त्रिशूर में देखा जा रहा है।
अभी भी हजारों की तादाद में लोग फंसे
चेंगन्नूर, पांडलम, तिरुवल्ला और पथानामथिट्टा जिलों में ऐसे कई इलाके हैं, जहां अभी भी हजारों लोग फंसे हैं। इनके पास भोजन और पानी तक नहीं है। मछुआरों के एक ग्रुप ने अधिकारियों के बीच समन्वय की कमी होने की शिकायत की। इन्होंने न्यूज एजेंसी को बताया कि ‘हमने कई लोगों को बचाया, लेकिन अब हम जहां से अपनी नाव से आए थे, वहां लौटने में हमारी मदद करने के लिए कोई नहीं है। अभी भी हजारों की संख्या में लोग फंसे हैं।’
20 हजार करोड़ का नुकसान
मुख्यमंत्री पी विजयन ने रविवार को बताया कि केरल को बाढ़ से 20 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। राज्य में करीब 40,000 एकड़ में फसलें नष्ट हो चुकी हैं।
– राज्य के 134 ब्रिज और 96 हजार किमी लंबी रोड पूरी तरह बर्बाद हुईं।
– करीब 1000 मकान पूरी तरह और 26,000 मकान आंशिक रूप से टूटे।
– सेना की 16, नौसेना की 28 और एनडीआरएफ की 58 टीम राहत-बचाव कार्य में जुटीं।
– लोगों को राहत शिविरों में पहुंचाने और खाने के अलावा राहत सामग्री के वितरण के लिए 67 हेलिकॉप्टर, 24 एयरक्राफ्ट और 548 मोटरबोट्स को तैनात किया गया है।
– सेना इसरो के ओशियन सेट-2, कार्टोसेट-2 समेत पांच सैटेलाइट से मिलने वाली रियल टाइम तस्वीरों की मदद ले रही है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

पसंद करें या ना, चीन में बने सामानों का इस्तेमाल करना ही होगा : चीनी मीडिया

नयी दिल्ली : पुलवामा अटैक के बाद भारत व पाकिस्‍तान के संबंधो में आई तनाव तथा पाकिस्‍तान के मित्र चीन द्वारा आतंकी मसूद अजहर के मसले पर अड़चन लगाये जाने के बाद भारत में चीन के प्रति बढ़ती नाराजगी तथा [Read more...]

दलाई लामा का बड़ा बयान, कहा – मेरी मृत्यु के बाद भारत से ही हो सकता है मेरा उत्तराधिकारी

धर्मशाला : नोबेल पुरस्‍कार से सम्‍मानित तथा निर्वासन में रह रहे तिब्बती र्धमगुरु दलाई लामा का कहना है कि उनका उत्तराधिकारी भारत से हो सकता है। तिब्बती र्धमगुरु ने सोमवार को कहा कि उन्होंने अपनी आयु के 60 साल भारत [Read more...]

मुख्य समाचार

मारुती सुजुकी ने घटाई उत्पादन, जानिए क्या है वजह…

नई दिल्ली : देश की बड़ी कार विनिर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने मांग में कमी आने के कारण पिछले महीने फरवरी में अपना उत्पादन आठ प्रतिशत घटाया है. कंपनी ने शेयर बाजार में सुचना भेजी है, जिसमें कहा [Read more...]

चीन के खिलाफ देशभर में व्यापारियों का प्रदर्शन, जलाई चीनी सामान की होली

नई दिल्ली : हाल ही मैं चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में चौथी बार मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने पर वीटो का उपयोग करने और एक लंबे अर्से से पाकिस्तान की हर प्रकार की मदद करने पर [Read more...]

ऊपर