हंगामे के बीच सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव स्वीकार

नई दिल्लीः संसद का मॉनसून सत्र बुधवार से शुरू हुआ है, और पहले ही दिन सदन में जोरदार हंगामा देखने को मिला। हंगामें के बीच विपक्ष द्वारा सरकार के खिलाफ लोकसभा में रखे गए अविश्वास प्रस्ताव को स्पीकर सुमित्रा महाजन ने स्वीकार कर लिया है। अविश्वास प्रस्ताव पर लोकसभा में शुक्रवार को चर्चा होगी। इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण सदन में लटके महत्वपूर्ण बिल हैं जिसे पास करवाना सरकार के लिए चुनौती बना हुआ है।
मॉब लिंचिंग मुद्दो पर विरोध
बुधवार को समाजवादी पार्टी और तेलुगू देशम पार्टी के सांसदों ने लोकसभा में मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं और आंध्र प्रदेश के लिए स्पेशल स्टेटस की मांग समेत कई मुद्दों पर विरोध किया। इस दौरान कांग्रेस के सांसद ज्योदिरादित्य सिंधिया ने कहा जो सरकार किसानों को आत्महत्या करने के लिए मजबूर कर रही है, जिस सरकार में हर रोज महिलाओं से रेप की वारदातें हो रही हैं। हम उसके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव रखते हैं।
श्रीनिवास ही अविश्वास प्रस्ताव पेश करेंगे
टीडीपी के श्रीनिवास ने एनडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया। स्पीकर ने अविश्वास प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए कहा कि वह अगले दो-तीन दिन में इसपर बहस की तारीख तय करेंगी। स्पीकर ने अविश्वास प्रस्ताव पेश करनेवाले उन सभी सदस्यों का नाम लेते हुए कहा कि टीडीपी के श्रीनिवास ही अविश्वास प्रस्ताव पेश करेंगे क्योंकि लॉटरी से उनका नाम ही निकला है।
बता दें कि टीडीपी आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिलने के विरोध में इसी साल मार्च में एनडीए से अलग हो गई थी। श्रीनिवास ने जीरो ऑवर में प्रस्ताव पेश किया और स्पीकर ने इसे मान लिया। टीडीपी के सदस्यों ने बजट सत्र के दौरान भी अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था लेकिन स्पीकर ने उसे खारिज कर दिया था।

लंबित पड़े हैं अहम बिल
18 जुलाई से शुरु हुआ संसद का मानसून सत्र सरकार के लिए काफी मायने रखता है। क्योंकि ये मानसून सत्र मोदी सरकार के लिए आखिरी सत्र साबित हो सकता है। केंद्र सरकार के कार्यकाल के अब केवल 10 महीने ही शेष हैं। इस सत्र में कई ऐसे बिल लंबित हैं, जिन्हें मोदी सरकार 2014 में सत्ता में आने के तुरंत बाद लेकर आई थी, लेकिन उन्हें पारित नहीं करवा पाई। हालांकि सरकार ने लंबित बिलों में से 12 बिल बहुमत वाले सदन लोकसभा में पारित करा लिए हैं, लेकिन वे राज्यसभा में अटके हुए हैं। कई बिल लोकसभा में अटके हुए हैं। जिनमें तीन तलाक और मासूमों से रेप पर फांसी के लिए आपराधिक कानून संशोधन बिल अत्यधिक महत्वपूर्ण है।
एक नजर अहम बिलों की सूची परः
भगोड़ा आर्थिक अपराध अध्यादेश 2018,
आपराधिक कानून संशोधन अध्यादेश 2018,
उच्च न्यायालयों की कमर्शियल अदालतें, कमर्शियल डिविजन्स और कमर्शियल अपीलीय डिविजन्स (संशोधन) अध्यादेश 2018,
होम्योपैथी सेंट्रल काउंसिल (संशोधन) अध्यादेश 2018,
राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय अध्यादेश 2018
इनसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी संहिता (संशोधन) अध्यादेश, 2018 शामिल हैं।
इन विधेयकों पर भी होगी चर्चा:
सत्र के दौरान चर्चा के लिए नि:शुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार (दूसरा संशोधन) विधेयक, महत्वपूर्ण बंदरगाह प्राधिकार विधेयक 2016,
राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय विधेयक 2017
भ्रष्टाचार रोकथाम संशोधन विधेयक 2013 को भी एजेंडे में रखा गया है।
सार्वजनिक परिसर अनधिकृत कब्जा को हटाने संबंधी संशोधन विधेयक 2017
दंत चिकित्सक संशोधन विधेयक 2017
जन प्रतिनिधि संशोधन विधेयक 2017
भ्रष्टाचार रोकथाम संशोधन विधेयक 19 अगस्त 2013 को राज्यसभा में पेश किया गया था। बाद में इसे प्रवर समिति को भेजा गया जिसने 12 अगस्त 2016 को राज्यसभा में रिपोर्ट पेश की थी। यह विधेयक राज्यसभा में पास होने के बाद लोकसभा में पेश किया जा सकता है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

सुप्रीम काेर्ट में राहुल गांधी ने चौकीदार चोर है’ टिप्पणी पर जताया खेद कहा -आवेश में आकर दिया बयान

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदा मामले में अपने 'चौकीदार चोर है' बयान को लेकर सुप्रीम कोर्ट में खेद जताया है। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सांसद मीनाक्षी लेखी द्वारा दायर अवमानना ​​याचिका पर राहुल गांधी ने अपने [Read more...]

आजम खान के बाद अब उनके बेटे ने की जया प्रदा पर विवादित टिप्पणी, कही ये बड़ी बात

  नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव के दौरान सियासी दल एक दूसरे पर भाषा की मर्यादा भूलकर हमलावर हो रहे है। इसी कड़ी में समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता आजम खान के बाद अब उनके बेटे ने रामपुर से भारतीय जनता [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

सुप्रीम काेर्ट में राहुल गांधी ने चौकीदार चोर है’ टिप्पणी पर जताया खेद कहा -आवेश में आकर दिया बयान

ईरान से तेल खरीदने वाले भारत सहित पांच देशों पर अमेरिका लगा सकता है प्रतिबंध : सूत्र

गोखले ने चीनी विदेश मंत्री के साथ की वार्ता

देशभर के 1.5 लाख डाकघरों को आधुनिक बनाएगी यह कंपनी

आजम खान के बाद अब उनके बेटे ने की जया प्रदा पर विवादित टिप्पणी, कही ये बड़ी बात

श्रीलंका सिलसिलेवार विस्फोट : 2 जेडीएस नेताओं सहित 6 भारतीयों की मौत, मामले में अबतक 24 लोग गिरफ्तार

कचरा प्रबंधन के लिए सलाना 5 अरब डॉलर के निवेश की जरूरत: रिपोर्ट

जेट एयरवेज के विमानों को उड़ाना चाहता है यह एयरलाइंस

इस सप्ताह कई कंपनियां घोषित करेंगी वित्तीय परिणाम, शेयर बाजार में जारी रहेगा उतार चढ़ाव

हरियाणा के एक गांव में अज्ञात बीमारी का खौफ, ग्यारह दिनों में बैठे-बैठे सात लोगों की मौत

ऊपर