मोदी ने शुरू की नई रीत : आजाद हिंद की वर्षगांठ पर लाल किले पर फहराया तिरंगा

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को आजाद हिंद सरकार की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर दिल्ली कि लाल किले पर तिरंगा फहराया। यह इस साल दूसरी बार है जब प्रधानमंत्री ने लाल किले पर तिरंगा फहराया। इस मौके पर लाल किले में बेहद खास कार्यक्रम आयोजित किया गया तथा कार्यक्रम में आजाद हिंद फौज के कई वयोवृद्ध स्वतंत्रता सेनानी, नेताजी के रिश्तेदार चंद्र बोस भी मौजूद रहे। आपको बता दें कि आज से 75 वर्ष पूर्व 21 अक्टूबर 1943 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने आजाद भारत की पहली अस्थाई सरकार बनाई थी। उन्होंने सिंगापुर में प्रातीय आजाद हिंद सरकार की स्थापना की थी। उस समय 11 देशों की सरकारों ने आजाद हिंद को मान्यता दी थी। आजाद हिंद ने कई देशों में अपने दूतावास भी खोले थे। इसके अलावा आजाद हिंद फौज ने बर्मा की सीमा पर अंग्रेजों के खिलाफ जोरदार लड़ाई भी लड़ी थी।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नेताजी ने उस सत्ता के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी जिसके बारे में यह कहा जाता था कि इसका सूरज कभी अस्त नहीं होता। मोदी ने कहा कि भारत की गुलामी को लेकर नेता जी के मन में काफी दुख था और इस दुख से व्यथित होकर उन्होंने मात्र 15-16 साल की उम्र में ही अपनी मां को एक पत्र लिखा था और पूछा था कि क्या भारत मां की स्थिति ऐसी ही जर्जर रहेगी? उन्होंने यह भी कहा कि नेताजी का एक ही उद्देश्य था, एक ही मिशन था भारत की आजादी। यही उनकी विचारधारा थी और यही उनका कर्मक्षेत्र था। भारत अनेक कदम आगे बढ़ा है लेकिन अभी नई ऊंचाइयों पर पहुंचना बाकी है। इसी लक्ष्य को पाने के लिए आज भारत के 130 करोड़ लोग नए भारत के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहे हैं। एक ऐसा नया भारत जिसकी कल्पना सुभाष बाबू ने भी की थी।

मोदी ने इस मौके पर कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि इस देश में एक परिवार को बड़ा बनाने के लिए कइयों के योगदान को भुलाया गया। फिर वो चाहे सरदार पटेल हों, बाबा साहेब आंबेडकर हों, या फिर नेताजी। नेताजी ने लिखा था – हम भारतीयों को ये सिखाया जाता है कि यूरोप, ग्रेट ब्रिटेन का ही बड़ा स्वरूप है। इसलिए हमारी आदत यूरोप को इंग्लैंड के चश्मे से देखने की हो गई है। मोदी ने कहा कि आज वे निश्चित तौर पर कह सकते हैं कि स्वतंत्र भारत के बाद के दशकों में अगर देश को नेताजी और सरदार पटेल जैसे व्यक्तित्व का मार्गदर्शन मिला होता तो स्थितियां बहुत अलग होतीं। पीएम नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर दुनिया की ताकतों को संदेश दिया। उन्होंने कहा भारत की सैन्य ताकत हमेशा से आत्मरक्षा के लिए रही है और आगे भी रहेगी। हमें कभी किसी दूसरे की जमीन का लालच नहीं रहा लेकिन भारत की संप्रभुता के लिए जो भी चुनौती बनेगा उसको दोगुनी ताकत से जवाब मिलेगा।






Leave a Comment

अन्य समाचार

आजम खान के बाद अब उनके बेटे ने की जया प्रदा पर विवादित टिप्पणी, कही ये बड़ी बात

  नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव के दौरान सियासी दल एक दूसरे पर भाषा की मर्यादा भूलकर हमलावर हो रहे है। इसी कड़ी में समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता आजम खान के बाद अब उनके बेटे ने रामपुर से भारतीय जनता [Read more...]

श्रीलंका सिलसिलेवार विस्फोट : 2 जेडीएस नेताओं सहित 6 भारतीयों की मौत, मामले में अबतक 24 लोग गिरफ्तार

कोलंबो : श्रीलंका में रविवार को ईस्टर के मौके पर हुये सिलसिलेवार आठ विस्फोटों में मरने वालों की संख्या 290 तक पहुंच गई है वहीं करीब 500 लोग घायल हैं। इन धमाकों में जनता दल सेक्यूलर (जेडीएस) के दो नेताओं [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

ईरान से तेल खरीदने वाले भारत सहित पांच देशों पर अमेरिका लगा सकता है प्रतिबंध : सूत्र

गोखले ने चीनी विदेश मंत्री के साथ की वार्ता

देशभर के 1.5 लाख डाकघरों को आधुनिक बनाएगी यह कंपनी

आजम खान के बाद अब उनके बेटे ने की जया प्रदा पर विवादित टिप्पणी, कही ये बड़ी बात

श्रीलंका सिलसिलेवार विस्फोट : 2 जेडीएस नेताओं सहित 6 भारतीयों की मौत, मामले में अबतक 24 लोग गिरफ्तार

कचरा प्रबंधन के लिए सलाना 5 अरब डॉलर के निवेश की जरूरत: रिपोर्ट

जेट एयरवेज के विमानों को उड़ाना चाहता है यह एयरलाइंस

इस सप्ताह कई कंपनियां घोषित करेंगी वित्तीय परिणाम, शेयर बाजार में जारी रहेगा उतार चढ़ाव

हरियाणा के एक गांव में अज्ञात बीमारी का खौफ, ग्यारह दिनों में बैठे-बैठे सात लोगों की मौत

हाथी के इलाज के लिए दक्षिण अफ्रीका से बुलाए गए डाॅक्टर

ऊपर