सर्जिकल स्ट्राइक का वह सच जो अभी तक सामने नहीं आया था, कमांडो क्यों ले गए तेंदुए का मल और पेशाब

नईदिल्‍ली : सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर बिल्कुल नई चीज सामने आई है। पाकिस्तान में की गई सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर सेना के पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल ने बड़ा खुलासा किया है। स्‍ट्राइक को लेकर अब नगरोटा के पूर्व कॉर्प कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल राजेंद्र निंबोरकर ने बड़ा खुलासा किया है। उन्‍होंने इससे जुड़ी जिन चीजों को सामने रखा है वह आज तक सामने नहीं आई थी। आपको बता दें कि इस सर्जिकल स्‍ट्राइक पर डिस्‍कवरी चैनल ने एक डॉक्‍यूमेंटरी भी तैयार की थी जिसको टीवी चैनल पर दिखाया गया था। आपको यहां यह भी बता दें कि निंबोरकर को बाजीराव पेशवा प्रतिष्‍ठान की तरफ से मंगलवार को सम्‍मानित किया गया था। इस दौरान उन्‍होंने बताया कि इस सर्जिकल स्‍ट्राइक के दौरान कमांडो ने तेंदुए के पेशाब और मल का उपयोग किस तरह से किया था।

कैसे उपयोग में लाया गया पेशाब और मल
उन्‍होंने बताया कि जिस इलाके से होकर यह कमांडो पाकिस्‍तान के अंदर जाने वाले थे वह इलाका घने जंगल के अलावा आबादी वाला भी था। कॉर्प कमांडर को डर था कि यहां पर मौजूद कुत्‍ते इस सर्जिकल स्‍ट्राइक को नाकाम कर सकते हैं। इसकी वजह ये भी थी कि कुत्‍तों के भौंकने की वजह से कमांडो की जानकारी वहां के स्‍थानीय लोगों को हो सकती थी। ऐसे में यदि कुत्‍ते कमांडोज को काट भी सकते थे। इतना ही नहीं कमांडो बिना मकसद कुत्‍तो को न तो मार सकते थे न ही कुछ और सकते थे। लिहाजा इन कुत्‍तों को कमांडो से दूर रखना था। इनको दूर रखने में सबसे बड़ा सहायक था तेंदुए का पेशाब और मल।

कुत्ते डरते है तेंदुए से
दरअसल, यह एक ऐसा इलाका भी था जहां अक्‍सर तेंदुए कुत्‍तों का शिकार करते थे। लिहाजा कमांडोज को बचाने के लिए इसको ही एक जरिया बनाया गया। आपको यहां पर ये भी बता दें कि जनरल निंबोरकर इस पूरे इलाके से बखूबी वाकिफ थे। उन्‍होंने बताया कि नगरोटा सेक्‍टर में कमांडर के पद पर रहते हुए उन्‍हें इस बात की जानकारी थी कि तेंदुए के हमले के डर से कुत्‍ते रात में घरों में ही बंद रहना ज्‍यादा पसंद करते हैं। इस स्‍ट्राइक की प्‍लानिंग करते समय सभी बातों पर गौर किया गया था। इसमें कुत्‍तों की वजह से इस स्‍ट्राइक पर पड़ने वाले प्रभाव पर भी बात हुई थी। इससे बचने के लिए इस सर्जिकल स्‍ट्राइक को अंजाम देने वाले कमांडोज को खासतौर पर तेंदुए का मल और पेशाब दिया गया। कमांडोज ने इसका इस्‍तेमाल पाकिस्‍तान की सीमा के अंदर किया। जिस रास्‍ते को कमांडोज ने चुना वहां पर वह इसकी कुछ बूंदे गिराते चले गए। वही इसके पीछे एक बड़ी वजह ये थी कि तेंदुए के मल और पेशाब की गंध कुत्‍तों को कमांडोज से दूर रखने में सहायक थी। दूसरा इस मल और पेशाब की गंध से कुत्‍तों को तेंदुए की इलाके में मौजूदगी का अंदाजा हो जाता था।

सर्जिकल स्ट्राइक में जवानों ने पाकिस्तान के तीन लॉजिंग पैड ध्वस्त किए
उन्‍होंने बताया कि यह एक सीक्रेट मिशन था, लिहाजा इसको अंजाम देने तक इससे जुड़ी कोई भी जानकारी का बाहर आना पाकिस्‍तान की सीमा में जाने वाले कमांडोज के लिए जानलेवा साबित हो सकता था। निंबोरकर ने बताया कि तत्‍कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने उन्‍हें एक सप्‍ताह के अंदर अंजाम देने के लिए कहा। इसके बाद उन्‍होंने इस स्‍ट्राइक में शामिल होने वाले कमांडोज को तैयार रहने के लिए बताया, लेकिन उन्‍हें इसकी जगह के बारे में कुछ नहीं बताया गया था। इसकी जानकारी उन्‍हें केवल इस स्‍ट्राइक से एक दिन पहले ही दी गई। इस स्‍ट्राइक से पहले आतंकियों के लॉन्चिंग पैड की पहचान की गई। इसके अलावा उनकी तमाम गतिविधियों को बारीकी से देखा गया। इस स्‍ट्राइक के लिए सुबह 3:30 बजे का वक्‍त निर्धारित किया गया था। सेना की एक यूनिट का काम इन कमांडोज को उस सीमा तक ले जाना था जहां के बाद इन्‍हें पैदल सफर तय करना था। वर्ष 2016 में उरी स्थित सेना के कैंप पर किए गए आतंकी हमले के बाद पाकिस्‍तान में जिस सर्जिकल स्‍ट्राइक को अंजाम दिया गया था उसको अब लगभग दो वर्ष पूरे होने वाले हैं। इस सर्जिकल स्‍ट्राइल को 29 सितंबर को अंजाम दिया गया था। इस दौरान सेना के कमांडो ने पाकिस्‍तान की सीमा में करीब 15 किमी अंदर जाकर आतंकियों के तीन लॉन्चिंग पैड ध्‍वस्‍त किये थे। इस सर्जिकल स्‍ट्राइक में 30 आतंकी भी मारे गए। इसके बाद पाकिस्‍तान ने कुछ समय के लिए आतिंकियों के कैंप भी यहां से हटा दिये थे। इसके लिए सर्जिकल स्‍ट्राइक में शामिल जवानों को वर्ष 2017 में सम्‍मानित भी किया गया था।
पाकिस्‍तान में हुई सर्जिकल स्‍ट्राइक ने पूरी दुनिया को चौंका कर रख दिया था। पाकिस्‍तान में इस सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद बड़ी हलचल देखी गई। पाकिस्‍तान की तत्‍कालीन सरकार हालांकि इस स्‍ट्राइक को हमेशा से ही झूठा बताती रही है लेकिन पूरी दुनिया को भारत ने इसका सच दिखाया है।



एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

14 साल तक पुलिस की नौकरी की, अब बने डेप्युटी कलेक्टर

प्रयागराज : उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को पीसीएस 2016 परीक्षा का परिणाम घोषित हुआ। परिणाम घोषित होने के साथ इंतजार में बैठे छात्रों के साथ उनके अभिभावकों का सीना गर्व से फूल गया। घोषित परिणाम में बलिया जिले की बैरिया [Read more...]

हमारी लड़ाई कश्मीरियों के खिलाफ नहीं, कश्मीर के लिए है : मोदी

टोंक : पुलवामा हमले के बाद पाकिस्‍तान तथा वहां स्‍थित आतंकी संग्‍ाठन जैश व उसके मुखिया मसूद पर विश्‍व भर से भारी दबाव बनाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को राजस्थान में लोकसभा चुनाव प्रचार की शुरुआत की। [Read more...]

देवबंद के आतंकी पहले पकड़े जाते तो रोका जा सकता था पुलवामा हमले कोः सुरक्षा एजेंसी

दूसरा हादसाः बेंगलुरू में एयरो इंडिया शो के दौरान पार्किंग एरिया में खड़ी 100 कारों में आग लगी

जो बीसीसीआई और सरकार बोलेगी, हम वहीं करेंगे : कोहली

ग्रेटर नोएडा यमुना प्राधिकरण घोटाला मामलाः दारोगा की गिरफ्तारी के लिए आई सीबीआई टीम पर हमला, दो अधिकारी घायल

पुलवामा अटैक : कश्मीर में 10 हजार अतिरिक्त जवान तैनात होंगे

पुलवामा आतंकी हमले के विरोध में भारत कुछ बड़ा करने की सोच रहा हैः ट्रंप

असम मे जहरीली शराब के सेवन से 80 लोगों की मौत, जांच शुरू

निशानेबाजी विश्व कपः रिकार्ड स्कोर के साथ अपूर्वी ने भारत को दिलाया पहला स्वर्ण

मुख्य समाचार

प्रेमी को जमकर पीटा फिर पेट्रोल छिड़क कर जला दिया

पूर्व मिदनापुर: पूर्व मिदनापुर जिले के भूपतिनगर में एक प्रेमी युवक की पहले पिटाई की कई, बाद में शरीर पर पेट्रोल छिड़ककर फूंक दिया गया। आरोप उसकी प्रेमिका के घरवालों पर लगा है। मृतक की प्रेमिका, उसके घर के 4 [Read more...]

रेल रोको आंदोलन से चार घंटे तक ठहरी ट्रेनें

मालदहः माकपा कार्यकर्ताओं के रेल रोको आंदोलन के कारण कई स्टेशनों पर ट्रेनें घंटों खड़ी रह गईं। इससे यात्रियों को व्यापक परेशानी का सामना करना पड़ा। दरअसल 10 सूत्री मांगों के समर्थन में जिला माकपा ने शनिवार को हरिश्चंद्रपुर स्टेशन [Read more...]

ऊपर