सरकारी तंत्र की उदासीनता से खेल का हीरो बना खलनायक

बोकारोः सरकारी तंत्र की उदासीनता की वजह से खेलकूद के हीरो रहे युवराज अब फिल्म में खलनायक बन गए है। युवराज असल जिंदगी में जीने के लिए अलग विकल्प तलाश रहे है। वहीं सरकारी स्तर पर राज्य में खेलकूद का बेहतर माहौल तैयार करने और खिलाड़ियों को सुविधा-संसाधन मुहैया कराने का दावा का पोल भी खुल गया है। बोकारा के पूर्व भारोत्तोलक युवराज सिंह सरकारी अनदेखी के कारण मजबूर होकर वेटलि‌फ्टिंग और पावरलिफ्टिंग से नाता तोड़ कर फिल्मी दुनिया में कदम रखा। वह फिलहाल भोजपुरी सिनेमा में खलनायक की भूमिका अदा कर रहे हैं।
जीने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ रही
युवराज ने बताया कि शुरूआत में इसके लिए काफी संघर्ष करना पड़ा। बताते हैं कि 2016 में ही गोरेगांव, मुंबई गया और एक भोजपुरी फिल्म में खलनायक के लिए ऑडिशन दिया था। लेकिन इसमें सफल नहीं रहा। इसके बाद लौट कर बोकारो आ गया। यहां अभिनय का प्रशिक्षण लिया। बाद में भोजपुरी फिल्मों में छोटी-छोटी भूमिका अदा की। 2017 में भोजपुरी फिल्म में ब्रेक मिला। उन्होंने राउडी एस में खलनायक की भूमिका में सबको प्रभावित किया। उन्हें एक और भोजपुरी फिल्म में खलनायक का रोल मिला।
कई प्रतियोगिता में जीत चुके पदक
युवराज के पिता चास निवासी अटल बिहारी सिंह बीएसएलकर्मी हैं। युवराज बचपन से ही खेलकूद से लगाव था। स्कूली स्तर पर खेलकूद प्रतियोगिता में भाग लेने लगे और इसमें मेडल भी जीता। 2008 में प्रशिक्षक राजेंद्र प्रसाद से वेटलिफ्टिंग व पावरलिफ्टिंग का प्रशिक्षण लिया। 2009-10 में इन्होंने जमशेदपुर में आयोजित राज्यस्तरीय प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक हासिल किया। 2011-12 में दिल्ली में आयोजित स्कूल नेशनल वेटलिफ्टिंग व पावरलिफ्टिंग प्रतियोगिता में भी स्वर्ण पदक जीता। 2012-13 में बोकारो में आयोजित इंटर स्टील प्लांट वेटलिफ्टिंग व पावरलिफ्टिंग प्रतियोगिता में रजत पदक मिला।
पौष्टिक आहार के लिए पैसे नहीं होने से खेल से तोड़ा नाता
युवराज ने 2015 तक लगातार राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में मेडल जीता। इस दौरान नियोजन के लिए काफी प्रयास किया। लेकिन निराशा हाथ लगी। कहते हैं कि भारोत्तोलन व शक्तित्तोलन के लिए प्रत्येक दिन चार लीटर दूध पीता था। भोजन में पौष्टिक आहार लेता था। हर माह 15 से 20 हजार रुपये खर्च होते थे। इसलिए नौकरी की तलाश शुरू की, लेकिन नहीं मिली। झारखंड में अब तक खेल नीति लागू नहीं हुई है। नौकरी की तलाश में हर जगह हताशा हाथ लगी तो फिल्मों में भाग्य आजमाने की कोशिश की। 2016 में वेटलिफ्टिंग व पावरलिफ्टिंग से नाता तोड़ लिया।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

शूटिंग विश्व कप में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद : अपूर्वी चंडेला

58 देशों के 503 खिलाड़ी उतरेंगे नई दिल्ली: 21 से 28 फरवरी के बीच होगा आयोजनराष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता भारतीय निशानेबाज अपूर्वी चंडेला को उम्मीद है कि आगामी विश्व कप में भारतीय निशानेबाज ज्यादा से ज्यादा ओलम्पिक कोटा हासिल [Read more...]

अभ्यास मैच में हारी भारतीय महिला बोर्ड अध्यक्ष एकादश की टीम

मुंबईः बाए हाथ के तेज गेंदबाज कोमल झंझाड के तीन विकेट के बावजूद बोर्ड अध्यक्ष एकादश को महिला एकदिवसीय अभ्यास क्रिकेट मैच में सोमवार को इंग्लैंड एकादश के खिलाफ दो विकेट से हार का सामना करना पड़ा। कोमल ने वानखेड़े [Read more...]

मुख्य समाचार

हस्तशिल्प मेले में पसंद किए जा रहे हैं पूर्वोतर क्षेत्रों के उत्पाद

ग्रेटर नोएडा: आज ग्रेटर नोएडा के एक्सपो सेंटर ऐंड मार्ट में ईपीसीएच अध्यक्ष ओपी प्रह्लादका, मेला अध्यक्ष राजेश कुमार जैन, ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार और प्रशासनिक समिति के अन्य सदस्यों द्वारा पुलवामा के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करने [Read more...]

देश को बड़े आकार के बैंकों की जरूरत: जेटली

नई दिल्ली : बैंक क्षेत्र में मितव्ययिता के साथ काम करने के लिये देश को गिने चुने लेकिन बड़े बैंकों की आवश्यकता है। भारतीय स्टेट बैंक के साथ उसके पांच सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक के 2017 में विलय [Read more...]

ये तीन बेहतरीन स्मार्टफोन होंगे इस महीने लॉन्च

प्रियंका गांधी ने शहीद की बेटी से कहा-‘डॉक्टर बनने का सपना पूरा करने में हर मदद करूंगी’

शूटिंग विश्व कप में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद : अपूर्वी चंडेला

भारत के बाद अब पाकिस्तान ने भी अपने उच्चायुक्त को वापस बुलाया

अभ्यास मैच में हारी भारतीय महिला बोर्ड अध्यक्ष एकादश की टीम

पुलवामा अटैक : मास्‍टरमाइंड गांजी को खात्‍मा करने में शहीद जाबांज के पिता ने कहा, बेटे पर गर्व है

इस तंत्र के आने के बाद भारत के सीमा क्षेत्र में नहीं घुस पाएंगे घुसपैठिए, अभी 6-7 साल का लगेगा और समय

पृथ्वी जल्द ही मैदान पर वापसी कर सकते हैं, आस्ट्रेलिया दौरे पर लगे चोट के बाद पास किया यो-यो टेस्ट

ऊपर