महागठबंधन को लेकर विपक्षी दल की बैठक : शामिल नहीं हुये अखिलेश और मायावती

विपक्षी दलों का मंथन: अखिलेश और मायावती के बगैर विपक्षी कुनबा कितना मजबूत हो पाएगा?आन्ध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और टीडीपी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू की पहल पर दिल्ली में विपक्षी दलों की बैठक हुई.
नयी दिल्ली : दिल्ली में आन्ध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और टीडीपी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू की पहल पर और उनके नेतृत्व में विपक्षी दलों की बैठक हुई। संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने से ठीक एक दिन पहले पार्लियामेंट एनेक्सी में हुई बैठक में विपक्षी दलों के नेताओं के जमावड़े में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी तक इस बैठक में पहुंचे। इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस कोषाध्यक्ष और कांग्रेस के बड़े रणनीतिकार अहमद पटेल, एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार और प्रफुल्ल पटेल, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई महासचिव सुधाकर रेड्डी, डीएमके सुप्रीमो एम के स्टालिन और कनिमोझी, जडीएस से पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा, मुस्लिम लीग से पीके कुन्नाहलिकट्टी, एआईयूडीएफ के बदरुद्दीन अजमल, नेशनल कांफ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला, एलजेडी से शरद यादव, आरजेडी से तेजस्वी यादव, हम के नेता और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी, जेएमएम के हेमंत सोरेन, जेवीएम के बाबूलाल मरांडी और आरएलडी अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह भी पहुंचे। इन सभी नेताओं के अलावा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी बैठक में शामिल हुये। बता दें कि ममता तो पहले से ही सरकार के खिलाफ विपक्षी कुनबे की एकता की वकालत करती रही हैं। लेकिन, पहली बार ऐसा लगा कि केजरीवाल के नेतृत्व में आप को भी अब कांग्रेस के साथ मंच साझा कराने में विपक्षी धड़े को सफलता मिली है। दिल्ली में डेरा डाले चंद्रबाबू नायडू ने इससे पहले अहमद पटेल, फारूक अब्दुल्ला और ममता बनर्जी से अलग से बात कर 2019 के चुनाव को लेकर रणनीति बनाने पर चर्चा की।

इस बैठक में ना ही अखिलेश शामिल हुये, ना ही मायावती ही शामिल हुई

संसद परिसर में हो रहे इस मंथन का मकसद सभी विपक्षी दलों को एक नाव पर सवार कर मोदी को मात देना है। एक्जिट पोल के नतीजों को लेकर विपक्षी खेमे में उत्साह दिख रहा है। राजस्थान में कांग्रेस को जीत और मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस को बढ़त की संभावना ने कांग्रेस समेत सभी विपक्षी खेमे के भीतर एक उर्जा का संचार कर दिया है। लेकिन, यूपी की दो बड़ी पार्टियों एसपी और बीएसपी के बगैर विपक्षी खेमे की रणनीति कितनी कारगर होगी? सवाल इसलिए उठ रहा है कि विपक्षी दलों की इस बैठक में न एसपी प्रमुख अखिलेश यादव ही आए और न ही बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने ही शिरकत की। यहां तक कि इनकी तरफ से अपनी पार्टी के किसी दूसरे नेता को भी नहीं भेजा गया।
विपक्षी दलों के साथ आने को अच्छा बताया, लेकिन साथ देने के नाम चुप्पी साध गये

वहीं एक सवाल पर अखिलेश यादव ने विपक्षी दलों के साथ आने को एक अच्छी शुरूआत तो बताया लेकिन, जब उनसे यूपी में महागठबंधन में कांग्रेस के शामिल होने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह निश्चित है कि यूपी में अच्छा गठबंधन होगा जो बीजेपी को हराएगा। लेकिन, एसपी सुप्रीमो की तरफ से कांग्रेस को साथ लेने को लेकर कुछ भी भरोसा नहीं दिया गया। अखिलेश यादव का यही रुख कांग्रेस के लिए परेशानी का सबब बन रहा है। अखिलेश ने यह भी कहकर पूरे मामले को और उलझा दिया कि विपक्ष की और भी बैठकें होनी चाहिए, लेकिन, विपक्षी कुनबे की एकता का सवाल 2019 के चुनाव के बाद ही आएगा। उनके बयान से साफ है कि अभी लोकसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव कांग्रेस के साथ किसी तरह के गठबंधन के मूड में नहीं हैं। हालांकि उनकी तरफ से अच्छे गठबंधन की बात कहकर बीएसपी और आरएलडी के साथ चुनावी संभावना के दरवाजे को खोला रखा जा रहा है। कुछ इसी तरह का अंदाज बीएसपी का भी है। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने भी इस बैठक में न ही शिरकत की और न ही किसी को शामिल होने के लिए भेजा। मायावती भी कांग्रेस से दूरी बनाकर चल रही हैं। हालांकि, जब जेडीएस-कांग्रेस की सरकार बनी थी तो उस वक्त बेंगलुरु में विपक्षी दलों की एकता का प्रदर्शन किया गया था, जिसमें मायावती की सोनिया गांधी के साथ काफी नजदीकी दिखी थी। लेकिन, बाद में मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में मायावती ने कांग्रेस के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया।
अखिलेश यादव कांग्रेस को साथ लेने से कतरा रहे हैं
मायावती ने मध्यप्रदेश में अपने दम पर जबकि छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी के साथ मिलकर बीजेपी और कांग्रेस दोनों के खिलाफ चुनाव लड़ने का फैसला कर लिया। मायावती के इस कदम से कांग्रेस को बड़ा झटका लगा और अब मायावती भी यूपी में कांग्रेस के साथ गठबंधन करने को लेकर उत्साहित नहीं दिख रही हैं। दरअसल, हकीकत भी यही है। यूपी के भीतर 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ने से अखिलेश यादव को कोई फायदा नहीं दिखा। दूसरी तरफ, जब गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा के उपचुनाव में बगैर कांग्रेस के सहयोग के केवल एसपी-बीएसपी ने साथ चुनाव लड़ा तो बीजेपी को पटखनी दे दी। आरएलडी के साथ समझौता कर पश्चिमी यूपी के कैराना में कुछ ऐसा ही हुआ। मायावती और अखिलेश दोनों को लग रहा है कि यूपी में कांग्रेस का जनाधार काफी कमजोर है, लिहाजा, कांग्रेस के बगैर भी अगर वे दोनों एकसाथ चुनाव मैदान में उतरते हैं तो इसका सीधा फायदा उन्हें होगा। लेकिन, कांग्रेस को साथ लेने पर फायदा केवल कांग्रेस का ही रहेगा। यही वजह है कि लोकसभा चुनाव बाद विपक्षी एकता और गठबंधन की बात कर अखिलेश यादव कांग्रेस को साथ लेने से कतरा रहे हैं। अगर कांग्रेस का एसपी-बीएसपी के साथ यूपी में गठबंधन नहीं हुआ तो फिर विपक्षी एकता की पूरी कवायद धरी की धरी रह जाएगी। अखिलेश और मायावती की रणनीति ने फिलहाल विपक्षी नेताओं को एकजुट करने की नायडू की कवायद को थोड़ा झटका जरूर दिया है, बावजूद इसके कि अरविंद केजरीवाल करीब आने लगे हैं।

मुख्य समाचार

राहुल ने पकड़ी जिद, नहीं रहूंगा अध्यक्ष

नई दिल्ली : राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने की जिद पकड़ ली है। लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार के बाद वे अध्यक्ष आगे पढ़ें »

स्थिति बिगड़ी तो संभव है मध्यावधि चुनाव

भाजपा का लक्ष्य 100 नगरपालिका, 50 विधायक के हाथों में कमल केंद्र व राज्य के बीच में भाजपा हस्तक्षेप नहीं करती नई दिल्ली -  पश्चिम बंगाल में आगे पढ़ें »

एयर इंडिया को बेचने की तैयारी में वित्त मंत्रालय

नयी दिल्ली : राष्ट्रीय विमानन कंपनी को बेचने की तैयारियों में वित्त मंत्रालय जुट गया है। इसकी बिक्री के लिए मंत्रालय नए सिरे से प्रस्ताव आगे पढ़ें »

चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर 149 हुई

पटना/मुजफ्फरपुर : बिहार में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर अब 149 हो गयी है। मुजफ्फरपुर श्रीकृष्ण मेडिकल कालेज अस्पताल आगे पढ़ें »

आतंकी जंग हार गए हैं, इसलिए हमले कर रहे हैं : राज्यपाल मलिक

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बुधवार को कहा कि आतंकवादी सीमा पार बैठे अपने आकाओं को खुश करने के लिए सुरक्षा बलों आगे पढ़ें »

पिछले दरवाजे से हो रही है राष्ट्रपति शासन की लाने की कोशिश : येचुरी

नयी दिल्ली : मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी नेता सीताराम येचुरी ने कहा है कि केंद्र सरकार पिछले दरवाजे से राष्ट्रपति शासन लाने की कोशिश कर रही आगे पढ़ें »

न्यूयॉर्क के बाद अब लंदन पहुंची देसी गर्ल, लगा नया वैक्स स्‍टैच्यू

लंदनः बॉलीवुड के साथ-साथ हॉलीवुड में भी भारत का नाम रौशन करने वाली देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा जोनस न्यूयॉर्क के बाद अब लंदन के 'मैदम आगे पढ़ें »

तमिलनाडु में बढ़ रहा है जल संकट, लोग टोकन से ले रहे हैं पानी

चेन्नई: देशभर के लोग गर्मी की मार से बेहाल है और ऊपर से जल संकट भी बढ़ता जा रहा है। इसी जल संकट से जूझ आगे पढ़ें »

पाक सीमा पर बनेंगे नए वॉर ग्रुप्स, गेम चेंजर साबित होगा आईबीजी

नई दिल्ली : भारत लगातार सरहद पर अपनी ताकत बढ़ा रहा है। इसी कड़ी में अब भारतीय सेना पाकिस्तान से लगने वाली सीमाओं पर नए आगे पढ़ें »

युवराज ने विदेशी टी20 लीग में खेलने के लिए बीसीसीआई से अनुमति मांगी

नई दिल्लीः हाल ही में क्रिकेट से संन्यास लेने वाले भारतीय हरफनमौला युवराज सिंह ने बीसीसीआई से दुनिया भर की टी20 लीग में खेलने की आगे पढ़ें »

ऊपर