विपक्ष ने अयोध्या फैसले का स्वागत किया

नयी दिल्ली (हमारे संवाददाता व एजेंसियां) : भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि वह विवादास्पद बाबरी मस्जिद मामले में अपने कुछ शीर्ष नेताओं पर आपराधिक साजिश का मामला चलाये जाने के उच्चतम न्यायालय के फैसले के ब्यौरे का अध्ययन कर रही है जबकि विपक्षी दलों का कहना है इस मामले में कानून का शासन कायम होना चाहिए तथा दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए। विपक्ष ने साथ ही कहा है कि फैसले के मद्देनजर उमा भारती को केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे देना चाहिए तथा राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह को नैतिकता के आधार पर अपने पद से इस्ती़फा दे देना चाहिए और लालकृष्ण आडवाणी तथा मुरली मनोहर जोशी को भी राजनीति से संन्यास ले लेना चाहिए।
वरिष्ठ नेता एवं विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को जोर देकर कहा कि पार्टी लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती जैसे वरिष्ठ नेताओं का सम्मान करती है। इस बारे में हम अदालत के फैसले के ब्यौरे का अध्ययन करेंगे। उच्चतम न्यायालय ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के शीर्ष नेताओं आडवाणी, जोशी, भारती आदि पर लगे आपराधिक साजिश के आरोपों को बहाल करने की केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की याचिका को बुधवार को स्वीकार कर लिया जिससे 1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में इन्हें अदालती कार्यवाही का सामना करना पड़ेगा। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने उमा भारती के इस्तीफे की मांग को खारिज कर  दिया, साथ ही इसका राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवारों के  चयन पर किसी तरह का प्रभाव पड़ने की संभावना को ‘काल्पनिक’ विषय बताया जबकि उमा भारती ने कहा कि इसमें कोई साजिश नहीं है और पूरा मामला स्पष्ट है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर मेरा सपना है। भारत और राम मंदिर के लिए जेल जाने या फांसी के लिए भी तैयार हूं।   मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने कहा कि इस मामले में कानून का शासन कायम होना चाहिए तथा दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने कह दिया है। कानून को बिना किसी भय या पक्षपात के अपना काम करने देना चाहिए। न्याय होने दीजिए तथा दोषी को दंडित किया जाना चाहिए। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने कहा कि फैसले के मद्देनजर उमा भारती को इस्तीफा दे देना चाहिए तथा राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह को नैतिकता के आधार पर अपने पद से इस्ती़फा दे देना चाहिए और लालकृष्ण आडवाणी तथा मुरली मनोहर जोशी को भी राजनीति से संन्यास ले लेना चाहिए। पार्टी के वरिष्ठ नेता अतुल कुमार अंजान ने कहा कि न्यायालय ने बहुत अच्छा फैसला दिया है, न्यायालय को त्वरित सुनवाई कर दोषियों को सजा देनी चाहिए।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

इमरान खान की भाषा बोल रही है कांग्रेस : रविशंकर प्रसाद

नयी दिल्ली : पिछले हफ्‍ते हुए पुलवामा आतंकी हमले को लेकर जहां पूरा देश गम में डूबा हुआ है, लोग इस कायराना हरकत करने वाले को सब्‍ाक सिखाने की मांग कर रहे है। वही राजनीतिक दलों ने एक दूसरे पर [Read more...]

कार्रवाईः बांध बनाकर रोकी जाएगी पाकिस्तान को जाने वाली तीन नदियों का पानी

लखनऊः केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने गुरुवार को मुजफ्फरनगर में 4700 करोड़ रुपए की राष्ट्रीय राज मार्ग परियोजना का शिलान्यास किया। कार्यक्रम के शुरुआत में गडकरी ने मुजफ्फरनगर के गवर्नमेंट इंटर कॉलेज में पुलवामा में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि [Read more...]

मुख्य समाचार

दीघा के होटल में युवक का फंदे से लटका शव बरामद

दीघा : दीघा स्थित एक होटल में कोलकाता के एक युवक का फंदे से लटकता शव बरामद किया गया। पुलिस का अनुमान है कि उसने फांसी लगाकर आत्महत्या की है। मृतक की पहचान शुभंकर बनर्जी (25) के रूप [Read more...]

रघुनाथगंज में अवैध हथियारों के साथ आर्म्स कारोबारी गिरफ्तार

दो वन शटर पिस्टल समेत दो जिंदा कारतूस बरामदमुर्शिदाबादः खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के बाद रघुनाथगंज थाना पुलिस ने अवैध हथियारों के साथ आर्म्स कारोबारी को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार कारोबारी का नाम गुलाब शेख(28) है। बुधवार [Read more...]

ऊपर