रुपे के बढ़ते प्रयोग से अमेरिकी पेमेंट कंपनियों की चमक हुई फीकी

नई दिल्ली : अमेरिकी कंपनी मास्टर कार्ड ने डोमेस्टिक पेमेंट नेटवर्क के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए पीएम मोदी द्वारा राष्ट्रवाद के उपयोग पर आपत्ति जताई है। कंपनी का कहना है कि इस पाॅलिसी की वजह से विदेशी पेमेंट कंपनी को ठेस पहुंची है। यह शिकायत मास्टर कार्ड द्वारा जून महीने में की गई है। आपको बता दें कि मोदी सरकार ने पिछले कुछ सालों में भारतीय पेमेंट नेटवर्क रुपे को बढ़ावा दिया है। जिसके परिणामस्वरूप अमेरिका की दिग्गज पेमेंट कंपनियां जैसे मास्टर कार्ड और वीजा का दबदबा कम हुआ है। भारत में 1 अरब डेबिट और क्रेडिट कार्ड्स में आधे यानी 50 करोड़ कार्ड्स अब रुपे पेमेंट सिस्टम के तहत काम कर रहे हैं। इससे मास्टर कार्ड को काफी नुकसान हो रहा है। आपको बता दें कि मास्टर कार्ड न्यूयॉर्क स्थित कंपनी है जो पूरी दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी पेमेंट प्रोसेसर है।

मोदी ने किया था रूपे को प्रोत्साहित –
प्रधानमंत्री मोदी ने स्वदेशी कार्ड पेमेंट नेटवर्क को लागू करते हुए कहा था कि रुपे कार्ड देश की सेवा कर रहा है। इसके ट्रांजेक्शन से मिलने वाले शुल्क से देश में सड़क, स्कूल और अस्पताल के निर्माण में सहायता मिलती है। प्रधानमंत्री के द्वारा रुपे कार्ड को बढ़ावा देने के संदर्भ का हवाला देते हुए मास्टर कार्ड ने 21 जून को संयुक्त राज्य व्यापार प्रतिनिधि (यूएसटीआर) को लिखा कि – “प्रधानमंत्री राष्ट्रवाद के साथ रुपे कार्ड के इस्तेमाल को जोड़ रहे हैं और दावा कर रहे हैं कि इस कार्ड का उपयोग एक प्रकार से राष्ट्र सेवा है।”

मोदी सरकार की संरक्षणवादी नीतियों की वजह से जूझ रही हैं अमेरिकी कंपनियां –
मास्टर कार्ड के वाइस-प्रसिडेंट सहारा इंग्लिश ने यूनाइटेड स्टेट ट्रेड रिप्रजेनटेटिव(यूएसटीआर) को भेजे गए नोट के माध्यम से कहा कि “पीएम मोदी द्वारा डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने का किया गया प्रयास सराहनीय था। लेकिन भारत सरकार ने वैश्विक कंपनियों के नुकसान के लिए संरक्षणवादी उपायों की एक श्रृंखला बनाई। अमेरिकी कंपनियां मोदी सरकार की संरक्षणवादी नीतियों की वजह से जूझ रही है।” मास्टर कार्ड ने अपने नोट में कहा है कि “रुपे को बढ़ावा देने के लिए पीएम मोदी और उनकी सरकार द्वारा किए जा रहे उपायों से अमेरिकी पेमेंट टेक्नोलॉजी कंपनियों को बाजार में पहुंच बनाने में समस्या पैदा हो रही है।” कंपनी ने यूएसटीआर नोट पर किसी तरह की टिप्पणी नहीं की तथा कंपनी के एक्सक्यूटिव सहारा इंग्लिश ने भी किसी सवाल का जवाब नहीं दिया। यूएसटीआर ने भी इस पर किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं दी है। साथ ही यह भी साफ नहीं हो पाया है कि अमेरिकी एजेंसी ने मास्टर कार्ड की चिंता को लेकर नई दिल्ली के समक्ष वार्ता की है।



Leave a Comment

अन्य समाचार

जियो ने फिर पेश किया धमाकेदार ऑफर

नई दिल्ली : एक बार फिर जियो ने अपने ग्राहकों के लिए बंपर ऑफर पेश किया है। हालांकि, यह ऑफर उन लोगों के लिए है, जो वीवो के वी-15 और वी-15 प्रो को खरीदेंगे। कंपनी ने वीवो के साथ एक [Read more...]

भारत की आर्थिक वृद्धि तेज, अगली सरकार को निर्यात पर ध्यान देने की जरूरत : विश्व बैंक

वॉशिंगटन : विश्व बैंक के एक अधिकारी ने भारत द्वारा बाजारों को उदार बनाने के प्रयासों की प्रशंसा की है। उन्होंने जोर देते हुये कहा है कि ‌अगली सरकार को निर्यात आधारित वृद्धि पर ध्यान देने की [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

सुप्रीम काेर्ट में राहुल गांधी ने चौकीदार चोर है’ टिप्पणी पर जताया खेद कहा -आवेश में आकर दिया बयान

ईरान से तेल खरीदने वाले भारत सहित पांच देशों पर अमेरिका लगा सकता है प्रतिबंध : सूत्र

गोखले ने चीनी विदेश मंत्री के साथ की वार्ता

देशभर के 1.5 लाख डाकघरों को आधुनिक बनाएगी यह कंपनी

आजम खान के बाद अब उनके बेटे ने की जया प्रदा पर विवादित टिप्पणी, कही ये बड़ी बात

श्रीलंका सिलसिलेवार विस्फोट : 2 जेडीएस नेताओं सहित 6 भारतीयों की मौत, मामले में अबतक 24 लोग गिरफ्तार

कचरा प्रबंधन के लिए सलाना 5 अरब डॉलर के निवेश की जरूरत: रिपोर्ट

जेट एयरवेज के विमानों को उड़ाना चाहता है यह एयरलाइंस

इस सप्ताह कई कंपनियां घोषित करेंगी वित्तीय परिणाम, शेयर बाजार में जारी रहेगा उतार चढ़ाव

हरियाणा के एक गांव में अज्ञात बीमारी का खौफ, ग्यारह दिनों में बैठे-बैठे सात लोगों की मौत

ऊपर