सरकार के लिए रिजर्व बैंक कार की सीट बेल्‍ट की तरह : राजन

नयी दिल्ली : रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार की तनातनी और शुरू हुए विवाद में आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का जिक्र होता रहा है। लेकिन इस विवाद पर राजन ने भी अपना बयान साझा कर एक बार फिर चर्चा में आए हैं। एक इंटरव्यू में मुताबिक रघुराम राजन ने बैंक के बोर्ड को सलाह देते हुए कहा कि बोर्ड को राहुल द्रविड़ की तरह खेलना चाहिए न कि सिद्धू की तरह। पूर्व आरबीआई गवर्नर ने कहा- केंद्र सरकार के लिए आरबीआई कार की सीट बेल्ट की तरह है। सरकार कार की ड्राइवर की तरह है। अगर वह चाहे तो सीट बेल्ट पहने, या फिर नहीं। हालांकि, अगर आप सीट बेल्ट नहीं पहनते हैं तो एक्सीडेंट हो सकते हैं। आरबीआई की स्वायत्तता होनी चाहिए, अगर सरकार उससे उदारता बरतने को कहे तो न कहने की आजादी मिलनी चाहिए। राजन ने कहा- आरबीआई का बोर्ड ऑपरेशनल बोर्ड नहीं है। इसे प्रोफेशनल या केंद्रीय बैंकर निर्देशित नहीं करते हैं। इसमें हर क्षेत्र को लोगों को शामिल किया गया है, जिनका मुख्य काम लोगों को सलाह देना है। राहुल द्रविड़ की तरह खेलना और कुछ मायनों में उनकी तरह कोचिंग देना है। बोर्ड को ऑपरेशनल फैसले नहीं लेने चाहिए और सिद्धू की तरह बयानबाजी नहीं करनी चाहिए।

साथ मिलकर मतभेदों को दूर करने का काम करें
उन्होंने कहा आरबीआई बोर्ड के सदस्यों के व्यवहार में आए परिवर्तन से मैं ज्यादा परेशान हूं। उन्हें समझदार व्यक्ति की तरह दूरियां पाटने का काम करना चाहिए था न कि उन्हें ज्यादा बढ़ाने का। हमारे पास बोर्ड में शानदार लोग थे और अभी भी वहां ऐसे लोग हैं। मैं उम्मीद करता हूं कि ये लोग साथ मिलकर मतभेदों को दूर करने और हाल-फिलहाल उठ रही आवाजों को कम करने का काम करेंगे।
कानून को पूरी ताकत घोटालेबाजों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए
जानबूझकर कर्ज न चुकाने वालों के नाम का खुलासा न किए जाने के मसले पर राजन ने कहा- विलफुल डिफॉल्टरों के मसले को फ्रॉड जैसी समस्या नहीं माना जा सकता। विलफुल डिफॉल्टर कर्ज नहीं चुकाना चाहते हैं, लेकिन वे पैसा लेकर भागते नहीं हैं। कानून को पूरी ताकत घोटालेबाजों के खिलाफ कार्रवाई पर लगानी चाहिए और यह काम जारी है। अगर घोटालों के मामले में सजा नहीं दी गई, तो ये और बढ़ेंगे। अगर घोटाला करने वालों को ये आभास हो कि हिंदुस्तान के कानून के हाथ इतने लंबे है कि उन्हें धरती पर कहीं भी छिपने की जगह नहीं मिलेगी, तो इससे बहुत मजबूत संदेश जाएगा।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

भारत-भूटान सीमांत शहर जयगांव से 55 लाख के साथ 4 गिरफ्तार

अलीपुरद्वार/कोलकाताः अलीपुरद्वार जिले के भारत-भूटान सीमांत शहर जयगांव से सोमवार को चुनाव आयोग के अधिकारियों और पुलिस की संयुक्त छापेमारी में 55 लाख रुपये सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। अलीपुरद्वार जिले के अतिरिक्त पुलिस [Read more...]

पुलिस की नाक के नीचे हो रही थी गांजे की खेती, हुआ पर्दाफाश

झाड़ग्राम : झाड़ग्राम में पुलिस की नाक के नीचे ही पिछले काफी समय से गांजे की खेती की जा रही थी जिसका आखिरकार पर्दाफाश हुआ। गोपीबल्लभपुर इलाके में पुलिस और आबकारी विभाग ने मिलकर गांजे की खेती [Read more...]

मुख्य समाचार

भारत-भूटान सीमांत शहर जयगांव से 55 लाख के साथ 4 गिरफ्तार

अलीपुरद्वार/कोलकाताः अलीपुरद्वार जिले के भारत-भूटान सीमांत शहर जयगांव से सोमवार को चुनाव आयोग के अधिकारियों और पुलिस की संयुक्त छापेमारी में 55 लाख रुपये सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। अलीपुरद्वार जिले के अतिरिक्त पुलिस [Read more...]

पुलिस की नाक के नीचे हो रही थी गांजे की खेती, हुआ पर्दाफाश

झाड़ग्राम : झाड़ग्राम में पुलिस की नाक के नीचे ही पिछले काफी समय से गांजे की खेती की जा रही थी जिसका आखिरकार पर्दाफाश हुआ। गोपीबल्लभपुर इलाके में पुलिस और आबकारी विभाग ने मिलकर गांजे की खेती [Read more...]

ऊपर