बरकतउल्ला विश्वविद्यालय में शुरू होगा नया कोर्स

‘आदर्श बहू’ को लेकर राजनीति शुरू 

भोपालः मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित बरकतउल्ला विश्वविद्यालय, परिवारों को टूटने से बचाने के लिए अगले सत्र से 3 महीने का एक नया सर्टिफिकेट पाठक्रम शुरू करने जा रहा है, ताकि शादी होने के बाद लड़कियां ‘आदर्श पत्नी’ एवं लड़के ‘आदर्श पति’ बन कर आदर्श समाज की संरचना कर सकें।
हालांकि, सामाजिक एवं नैतिक मूल्यों पर कराये जाने वाले इस कोर्स का नाम अभी तय नहीं हुआ है।
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर डीसी गुप्ता ने शनिवार को बताया कि यह कोर्स लड़के-लड़कियों दोनों के लिए होगा। हालांकि, लड़कियों के लिए यह अधिक फायदेमंद होगा, क्योंकि उन्हें शादी के बाद अपने आप को दूसरे परिवार (अपने ससुराल) में ढालना पड़ता है। यह कोर्स सिर्फ बहुओं (दुल्हनों) के लिए नहीं है। इससे लड़कों को भी सशक्त परिवार बनाने में मदद मिलेगी। पहले बैच में 30 छात्र-छात्राओं को दाखिला मिलेगा। यह समय की मांग है क्योंकि परिवार आज छोटी-छोटी बातों को लेकर टूट रहे हैं। यह कोर्स परिवारों को टूटने से बचाने की दिशा में एक बड़ा कदम होगा।
विश्वविद्यालय द्वारा लड़कियों के लिए ‘आदर्श बहू’ संबंधित प्रशिक्षण पर राज्य में राजनीति का दौर शुरू हो गया है।
कांग्रेस का आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी शासन काल में इस विश्वविद्यालय की साख गिरी है और उसे पहले प्रदेश में शिक्षा का स्तर सुधारना चाहिए, वहीं सत्तारूढ भाजपा ने इसका स्वागत किया है।
कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने कहा कि विश्वविद्यालय की गिरती साख बचाने के लिए प्रबंधन को पहले ‘आदर्श विश्वविद्यालय’ बनाने की दिशा में काम करना चाहिए।
वहीं भाजपा प्रवक्ता राजो मालवीय ने कहा कि वर्तमान में टूटते परिवारों के दौर में ये प्रशिक्षण निश्चित ही लड़कियों के लिए फायदेमंद साबित होगा। भारत उन गिने-चुने देशों में शामिल है, जहां परिवार नाम की संस्था का अब भी अस्तित्व है, जिसकी धुरी स्त्री है। ऐसे कार्यक्रम संस्कारित होने के चलते परिवार नाम की संस्था को और मजबूत करेंगे।
सामाजिक कार्यकर्ता ब्रीज त्रिपाठी ने कहा कि एक स्त्री के संस्कारित होने से पूरा परिवार मजबूत होता है, इस दृष्टिकोण से इस प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रम मौजूदा समय में लड़कियों को बेहतर इंसान बनने में निश्चित ही मददगार साबित होंगे।

मुख्य समाचार

भाटपाड़ा में बमबारी जारी, 1 मरा

सर्च अभियान चलाकर पुलिस ने किये 6 बम बरामद भाटपाड़ा : भाटपाड़ा थानांतर्गत 10 नं. गली के रामनगर कॉलोनी में बम विस्फोट होने से एक व्यक्ति आगे पढ़ें »

नए कोच के चयन में नहीं चलेगी विराट की मनमानी

नयी दिल्ली : टीम इंडिया का नया मुख्‍य कोच कौन होगा इस पर फैसला कुछ समय बाद लिया जाएगा। पर बीसीसीआई के एक अधिकारी ने आगे पढ़ें »

कृषि क्षेत्र में विकास के लिए केंद्र और राज्यों को मिलकर करना होगा काम

नई दिल्ली: केंद्र सरकार को कृषि क्षेत्र में सुधार के साथ राज्यों को वित्त आयोग द्वारा किए गए अनुदान और आवंटन को जोड़ना चाहिए। यह आगे पढ़ें »

2018-19 में डिजिटल ट्रांजेक्शन 51 फीसदी बढ़ी, कुल डिजिटल ट्रांजेक्शन 3,133.58 करोड़ के पार पहुंचा

नई दिल्ली : देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन तेजी से बढ़ रहा है। वर्ष 2018-19 में डिजिटल ट्रांजेक्शन पिछले साल की तुलना में 51 फीसदी बढ़ी आगे पढ़ें »

निजी क्षेत्र और उपक्रमों को बढ़ावा देकर आर्थिक वृद्धि की रफ्तार तेज करना चाहती है सरकार

नई दिल्ली : केंद्र सरकार निजी क्षेत्र और निजी उपक्रमों को बढ़ावा देकर आर्थिक वृद्धि की रफ्तार बढ़ाने पर जोर दे रही है। इस बारे आगे पढ़ें »

सिंधू का दमदार प्रदर्शन, इंडोनेशिया ओपन के क्वार्टर फाइनल में पहुंची

जकार्ता : भारत की चोटी की शटलर पीवी सिंधू ने डेनमार्क की मिया बिलिचफेल्ट के खिलाफ तीन गेम तक चले संघर्षपूर्ण मैच में जीत दर्ज आगे पढ़ें »

fire in an animation studio in japan, 24 dead

एनिमेशन स्टूडियो में लगायी आग, 24 जिंदा जले

टोक्यो : जापान के क्योटो शहर में गुरुवार सुबह एक एनिमेशन स्टूडियो में आग लगने से 24 लोग जिंदा जल गए जबकि 35 से अधिक आगे पढ़ें »

ऐसे उठा सकते हैं एनपीएस में छुट का लाभ

नई दिल्ली : नेशनल पेंशन योजना (एनपीएस) ने ईपीएफओ से कहीं ज्यादा रिटर्न दिया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक बीते 10 साल में केंद्रीय और आगे पढ़ें »

teachers enclosing legislative assembly lathi charged by the police

विधानसभा का घेराव करने पहुंचे शिक्षकों पर पुलिस ने किया लाठीजार्च

पटना : वेतनमान समेत सात सूत्रीय मांगों को लेकर गुरुवार को राजधानी पटना में विधानसभा का घेराव करने पहुंचे नियोजित शिक्षकों पर पुलिस ने जमकर आगे पढ़ें »

Government told - cases of rape are increasing in trains

सरकार ने बताया – ट्रेनों मे लगातार बढ़ रहे है दुष्कर्म के मामले

नई दिल्ली : देश की सड़कों-गलियों में तो बहू-बेटियां सुरक्षित थी ही नहीं, अब यात्रा के लिए सबसे सुरक्षित मानी जाने वाली ट्रेनों में भी आगे पढ़ें »

ऊपर