नोटबंदी, नये नोट छापने के पीछे थी साजिश

घाघ बैंकरों, राजनीति के चतुर पंडितों और शातिर व्यवसाइयों ने मिलकर रचा था षड्यंत्र
विदेशों में छिपाये कालेधन का शिगूफा बेकार, सब कुछ सफेद होकर लौट चुका है देश में
कोलकाता : नोटबंदी के घोषित उद्देश्य के पीछे एक गहरी साजिश का पता चला है। मोदी जी जब लोकसभा चुनाव का प्रचार कर रहे थे तो उन्होंने कहा था कि देश के बाहर इतना काला धन है कि अगर वह देश में आ जाय तो सबके खाते में लाखों रुपये जमा हो जाएंगे। इस जुमले को लुटेरे व्यापारियों और बैकरों ने खूब उछाला। बात इतनी फैलाई गयी कि वह सच लगने लगी। यह एक तरह की विषम जंग थी जो चुनावी जंग से अलग थी। दरअसल, जंग कई तरह की होती है। जो युद्ध फौज लड़ती है वह पहली पीढ़ी का युद्ध है और विषम युद्ध दूसरी से पांचवीं पीढ़ी है। मसलन, आंतकवाद दूसरी पीढ़ी का युद्ध है और देश के बाहर दौलत ले जाकर उसे सफेद करना ताकि देश अपने आर्थिक संसाधनों को विनष्ट होने से बचा न सके यह तीसरी पीढ़ी की लड़ाई है। खुलेआम आर्थिक लूट और सूचना प्राविधिकी को अस्त-व्यस्त कर देना पांचवीं पीढ़ी की जंग है। पहली पीढ़ी की लड़ाई फौजें लड़ती हैं और दूसरी से पांचवीं पीढ़ी की जंग खुफिया एजेंसियां, बैंकर और लुटेरे व्यवसायी मिल कर लड़ते हैं। ऐसा अक्सर नहीं होता कि आप सोकर उठें और आपके जेब में पड़ा सबसे बड़ा नोट कागज का टुकड़ा भर रह जाय और डोनाल्ड ट्रम्प अमरीका के राष्ट्रपति हो जाएं। एक नजर में ये दोनों घटनाएं असम्बंधित हैं लेकिन चार महीने की जांच में पाया कि दोनों में गहरा सम्बंध है। जरा गौर करें कि संयोगवश ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे की तीन दिवसीय भारत यात्रा के तुरत बाद नोटबंदी की घोषणा हुई। भारत में 7 नवम्बर को अपने अंतिम भाषण में थेरेसा मे ने मुक्त व्यापार और भूमंडलीकरण की वकालत की थी जबकि पूरी दुनिया में इस पर संदेह जाहिर किया जा रहा है।
घोषणा हठात की गयी है
यह भी संयोग ही था कि नोटबंदी की घोषणा के साथ ही अमरीकी राष्ट्रपति का चुनाव खत्म हुआ। नोटबंदी के ऐलान के 12 घंटे के भीतर डालर के मुकाबले रुपया बुरी तरह पिट गया। राष्ट्रपति चुनाव के बाद रुपया डालर के भाव सुधरने लगे। जो लोग राष्ट्रपति चुनाव और भारतीय आर्थिक नीतियों के बारे में जानते हैं उन्होंने इसी दरम्यान भारी दौलत पैदा कर ली। इधर भारत में पहले से ही दो हजार के नोट की छपाई आरंभ हो चुकी थी, जो कि शुरू में गोपनीय रही। यह साधारण गणित है कि अतिमुद्रास्फीति (हाइपर इन्फ्लेशन) की सूरत में बड़े नोट छापे जाते हैं ताकि खरीदारों को ज्यादा दिक्कतें ना हों। यहां एक परवर्ती प्रश्न है कि क्या हम अतिस्फीति की ओर बढ़ रहे हैं। सरकार को इसका संकेत मिलने के कारण नोट छापने का काम शुरू हुआ और जब कुछ नोट छप गये तो नोटबंदी की घोषणा कर दी गयी। प्रदर्शित यह किया गया कि यह घोषणा हठात की गयी है पहले से कोई तैयारी नहीं है। इस अचानकपने को भी विभिन्न स्रोतों के जरिये खूब फैलाया गया ताकि आम लोग भरोसा कर लें और गड़बड़ ना हो।
 कालाधन कहां गया ?
नोटबंदी के समय सरकार ने घोषणा की थी कि कालेधन पर अंकुश लगाने और आतंकवाद को मिटाने के लिए यह कदम उठाया गया है। जनता को यह समझाया गया था कि कालाधन अपने देश में आलमारियों में या ट्रंकों में या बिस्तरों में या जमीन के भीतर दबा कर रखा जाता है ओर नोटबंदी से सरकार इसे बाहर करना चाहती है। लेकिन ऐसा नहीं हुआ क्योंकि कालेधन का बहुत बड़ा भाग देश से निकल विदेशों में सुरक्षित कर आश्रयों (टैक्स हेवन्स) में पहुंच चुका था और वहां से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफ डी आई) की शक्ल में भारत आ चुका था। प्राप्त आंकड़ों के अनुसार अप्रैल 2012 से मार्च 2015 के बीच मारीशस, सिंगापुर, इंग्लैंड, जापान, नीदरलैंड्स, अमरीका, साइप्रस, जर्मनी, फ्रांस और स्विटजरलैंड से कुल 6890 करोड़ डालर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश हुआ जिसमें केवल मारीशस से 2012-13 में 1000 करोड़ डालर, 2013- 14 में 500 करोड़ और 2014- 15 में 800 करोड़ डालर का प्रत्यक्ष (एफ डी आई ) हुआ जबकि इसी अवधि में सिंगापुर से 200 करोड़ डालर , 600 करोड़ डालर और 800 करोड़ डालर का निवेश हुआ, टैक्स चुराने और कालाधन जमा करने वालों के लिए स्वर्ग के नाम से कुख्यात स्विटजर लैंड से 50 करोड़ डालर भी नहीं आया। काले धन की इस यात्रा को ‘राउंड ट्रिपिंग’ कहते हैं। ‘राउंड ट्रिपिंग’ का अर्थ है कि एक देश से काला धन के निकल कर दूसरे देश में जाना और वहां से फिर किसी नयी शक्ल (जैसे एफ डी आई ) में उसी देश में लौट आना जहां से वह धन गया था। इसलिए एफ डी आई के सबसे बड़े स्रोत वही देश हैं जहां काले धन जमा करने की सबसे ज्यादा छूट है।
 दरअसल क्या हुआ
अमरीका और यूरोप में 2008 में आर्थिक मंदी आयी। कई देश दिवालिया होने के कगार पर आ गये और कई देशों में आंदोलन शुरू हो गये। सबको मालूम था कि अगर मंदी से जीवन शैली प्रभावित हुई तो हो सकता है शीत युद्ध का जमाना लौट आये। बैंकरों, राजनीति के चतुर पंडितों और शातिर व्यवसाइयों ने मिल कर रणनीति बनायी। अमरीका ने खुफिया एजेंसियों की मदद से लीबिया में युद्ध भड़का दिया। दिखाने के लिए इसका उद्देश्य था वहां लोकतंत्र और मानवाधिकार की रक्षा। इसी के परदे में वहां से दो खरब डालर खींच लिये गये। अर्थव्यवस्था को दम मारने की ताकत मिली। इधर भारतीय कालाधन जो विदेशों में जमा था उसे भी खतरा बढ़ने लगा। मनमोहन सिंह इस हकीकत को जानते थे। 2012 में देश के आर्थिक सम्पादकों की एक बैठक में मनमोहन सिंह ने कालेधन का जिक्र करते हुए कहा था कि विदेशों में उसे जमा करने वाले पछतायेंगे, वह धन खुद ब खुद खत्म हो जायेगा। लगभग उसी समय से कालेधन को भारत लाये जाने की बात का प्रचार शुरू हुआ। मोदी जी का आना उसी प्रचार का अंग है।
 फिर नोटबंदी क्यों हुई
नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक के आंकड़े बताते हैं कि देश में कालाधन मामूली था। सच तो यह है कि जिन विदेशी स्रोतों के माध्यम से यह हवा बनायी गयी थी उन्हें लाभ पहुंचाने के लिए यह कदम उठाया गया। अभी भी एक बात छिपायी गयी है कि दो हजार के नोट क्यों छापे गये और कब छापे गये? सरकार के आर्थिक सलाहकार और उसके पक्ष के अर्थशास्त्रियों को यह मालूम है कि अतिमुद्रास्फीति आने वाली है। भयंकर महंगाई होगी। वैसी सूरत में छोटे नोटों से काम नहीं चलेगा।
यही नहीं जो नये नोट छापे गये और जिनके पूरी तरह भारतीय होने का ढोल पीटा गया वे पूरी तरह भारतीय नहीं हैं। रिजर्व बैंक के सूत्रों ने बताया कि इसके लिए 1.6 करोड़ टन कागज इंग्लैंड से आयात किया गया है। नोट में लगने वाल सिक्यूरिटी थ्रेड इंगलैंड, यूक्रेन और इटली से मंगाया गया है। नोट की छपाई के लिए प्रयोग किये जाने वाले इंटैग्लो इंक भी विदेश से मंगाकर राजस्थान, मध्यप्रदेश और सिक्किम की कम्पनियों ने सप्लाई किया है। दिलचस्प बात तो यह है कि ये सारी वस्तुएं अलग-अलग जगहों से इंग्लैंड की एक ही कम्पनी सप्लाई कर रही है और वह कम्पनी पाकिस्तान के करेंसी नोट भी छापती है। यह सब कई हफ्ते से चल रहा था। इतनी बड़ी तैयारी के बाद नोटबंदी की घोषणा की गयी और देश को बताया गया कि सब अचानक हुआ है। देश को अंधेरे में क्यों रखा गया? इसे साजिश नहीं तो और क्या कहा जाय। एक और प्रश्न अनुत्तरित है कि आखिर उसी खास कम्पनी की ही सेवाएं क्यों ली गयीं? इस प्रश्न का उत्तर खोजने की प्रक्रिया जारी है।  एक तरफ ‘हाइपर इन्फ्लेशन’ की ओर बढ़ती अर्थ व्यवस्था और दूसरी तरफ बेईमान व्यवसाइयों की हमारी अर्थ व्यवस्था में सेंध, आने वाले दिन कैसे होंगे इसका सरलता से अंदाजा लगाया जा सकता है।

मुख्य समाचार

39 years old case, 10 years in prison, now the court said - was a minor, release

39 साल चला केस, 10 साल काटे जेल में, अब कोर्ट ने कहा – नाबालिग था, रिहा करो

नई दिल्ली : बिहार के गया का एक ऐसा केस सामने आया है जो भारत में न्यायपालिका की पोल खोलकर रख देता है। यहां के आगे पढ़ें »

Don Dawood Ibrahim's nephew arrested, was leaving the country

डॉन दाऊद इब्राहिम का भतीजा गिरफ्तार, देश छोड़कर भाग रहा था

मुंबईः अंडरवर्ल्‍ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भतीजे रिजवान कास्‍कर को फिरौती मांगने के आरोप में मुंबई पुलिस ने बुधवार रात एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया। आगे पढ़ें »

The intimate scene of the actress, said, "The sick mentality ...

इंटीमेट सीन वायरल होने पर भड़कीं ये अभिनेत्री, कहा- बीमार मानसिकता…

नई दिल्ली: फिल्मों में इंटीमेट सीन्स का होना तो आजकल जैसे आम बात हो गई है पर इंटरनेट पर कई बार इस तरह के सीन्स आगे पढ़ें »

रोजवैली कांड में अभिनेत्री ऋतुपर्णा से ईडी ने की पूछताछ

कोलकाता : इंफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) की टीम ने रोजवैली कांड में अभिनेत्री ऋतुपर्णा सेनगुप्ता से पूछताछ की। वे साल्टलेक स्थित ईडी कार्यालय में गुरुवार की आगे पढ़ें »

Tweeted on the arrest of Hafiz Saeed, US President

हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर ट्वीट कर बुरे फंसे अमेरिकी राष्ट्रपति

नई दिल्लीः पाकिस्तान ने बुधवार को मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को गिरफ्तार कर लिया। इसका श्रेय लेने की कोशिश में अमेरिकी राष्ट्रपति ऐसे आगे पढ़ें »

विधाननगर के मेयर ने दिया इस्तीफा

कोलकाता : सव्यसाची दत्ता ने अपनी पार्टी के साथ पिछले काफी समय से चली आ रही तनातनी के बीच गुरुवार को विधाननगर नगर निगम के आगे पढ़ें »

kumarswami government will no last long

कर्नाटक Live : कुमारस्वामी सरकार चंद पलों की मेहमान !

बेंगलुरु : कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन की सरकार चंद पलों की और मेहमान नजर आ रही है। गठबंधन के 16 विधायकों के इस्तीफा आगे पढ़ें »

देश में कार्यालय स्थलों की मांग बढ़ी

नयी दिल्लीः चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में देश के आठ प्रमुख शहरों में कार्यालय स्थल की मांग में वृद्धि हुई है। संपत्ति सलाहकार आगे पढ़ें »

Chief Minister Raghuvar Das inaugurated the Shravani Mela, explained the importance of cleanliness and humility

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने श्रावणी मेले का किया उद्घाटन, स्वच्छता और विनम्रता का बताया मूल-मंत्र

देवघर : वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मुख्‍यमंत्री रघुवर दास ने देवघर के प्रसिद्ध श्रावणी मेले का उद्घाटन बुधवार को किया। समारोह स्‍थल दुम्मा में पिंकू आगे पढ़ें »

Court takes order back, Richa will not have to distribute kuran

कोर्ट ने आदेश लिया वापस, ऋचा को नहीं बांटनी पड़ेगी कुरान

रांची : सोशल साइट पर धामिक मामले में आप‌त्तिजनक पोस्ट डालने के आरोप में कोर्ट ने कुरान बांटने के अपने आदेश को वापस ले लिया आगे पढ़ें »

ऊपर