दूषित मानसिकता से देखी जा रही है बसपा कार्यकर्ताओं की नारेबाजी-मायावती

लखनऊ : अपने खिलाफ भाजपा के निष्कासित नेता दयाशंकर सिंह द्वारा की कथित आपत्तिजनक टिप्पणी के विरोध में पिछले दिनों लखनऊ में प्रदर्शन के दौरान अपने कार्यकर्ताओं की कथित आपत्तिजनक नारेबाजी पर सफाई देते हुए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने इसे लेकर उठे प्रतिवाद को ‘दूषित मानसिकता’ की निशानी बताया। सिंह के खिलाफ बसपा कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन में उनके परिवार की महिलाओं के प्रति कथित आपत्तिजनक नारेबाजी किये जाने को लेकर उठे विवाद के बीच मायावती ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि धरना प्रदर्शन में ‘दयाशंकर सिंह, अपनी मां, बहन बेटी को पेश करो’ के नारे लगाये गये थे जिन्हें दूषित मानसिकता से देखकर मीडिया में प्रचारित कराया गया है। उन्होंने पार्टी महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी का हवाला देते हुए कहा कि जिस अशोभनीय भाषा का इस्तेमाल दयाशंकर ने किया, क्या उनकी मां, बहन और बेटी उसे सही ठहरायेंगी। हमारे कार्यकर्ताओं ने इसका जवाब लेने के लिये ही उनकी मां, बहन और बेटी को पेश करने को कहा था। नसीमुद्दीन का कहना है कि धरना प्रदर्शन में दयाशंकर की मां, पत्नी और बेटी के लिये कोई अपशब्द नहीं कहे गये। मायावती ने सिंह की मां को ‘सलाह’ देते हुए कहा रि अच्छा होता अगर दयाशंकर की मां ने अपनी पोती और बहू के आत्मसम्मान को लेकर शिकायत दर्ज कराने के साथ यह भी कहा होता कि एक दलित की बेटी के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने वाले दयाशंकर के खिलाफ भी सख्त कानूनी कार्रवाई हो। उन्होंने ऐसा नहीं किया जिससे आम माताओं बहनों के प्रति उनकी दोहरी मानसिकता जाहिर होती है।
मायावती ने ने इस प्रकरण में अपने खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई को ‘संसद की अवमानना’ करार देते हुए कहा कि मुकदमे में मुझ पर संसद में गलत बातें कहने का आरोप लगाया गया है। देश के हर पुलिस अधिकारी को यह मालूम होना चाहिए कि संविधान के अनुच्छेद 105 में यह प्रावधान है कि हर सांसद को संसद में अपनी हर बात रखने का अधिकार है। अनुच्छेद 105 (2)में यह भी स्पष्ट कहा गया है कि संसद में कही गयी बात पर सम्बन्धित सांसद के खिलाफ किसी भी अदालत में कोई कार्रवाई नहीं हो सकती, मगर इसके बावजूद हजरतगंज कोतवाली में मेरे खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ, यह संसद की अवमानना भी है। भाजपा ने सपा पर दबाव डालकर यह गलत काम करवाया है
मायावती ने कहा कि दयाशंकर सिंह का मामला को भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी की मिलीभगत है। अब इसका फैसला जनता की अदालत में होगा और इसीलिए वे अगले महीने दो महारैलियां करने जा रही हैं। भााजपा, सपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमलावर मायावती ने यहां पत्रकारों से कहा कि मामले का पर्दाफाश करने के लिए वे 25 अगस्त को आगरा और 28 अगस्त को आजमगढ़ में ‘सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय विशाल महारैली’ करेंगी।

Leave a Comment

अन्य समाचार

इमरान खान की भाषा बोल रही है कांग्रेस : रविशंकर प्रसाद

नयी दिल्ली : पिछले हफ्‍ते हुए पुलवामा आतंकी हमले को लेकर जहां पूरा देश गम में डूबा हुआ है, लोग इस कायराना हरकत करने वाले को सब्‍ाक सिखाने की मांग कर रहे है। वही राजनीतिक दलों ने एक दूसरे पर [Read more...]

कार्रवाईः बांध बनाकर रोकी जाएगी पाकिस्तान को जाने वाली तीन नदियों का पानी

लखनऊः केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने गुरुवार को मुजफ्फरनगर में 4700 करोड़ रुपए की राष्ट्रीय राज मार्ग परियोजना का शिलान्यास किया। कार्यक्रम के शुरुआत में गडकरी ने मुजफ्फरनगर के गवर्नमेंट इंटर कॉलेज में पुलवामा में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि [Read more...]

मुख्य समाचार

दीघा के होटल में युवक का फंदे से लटका शव बरामद

दीघा : दीघा स्थित एक होटल में कोलकाता के एक युवक का फंदे से लटकता शव बरामद किया गया। पुलिस का अनुमान है कि उसने फांसी लगाकर आत्महत्या की है। मृतक की पहचान शुभंकर बनर्जी (25) के रूप [Read more...]

रघुनाथगंज में अवैध हथियारों के साथ आर्म्स कारोबारी गिरफ्तार

दो वन शटर पिस्टल समेत दो जिंदा कारतूस बरामदमुर्शिदाबादः खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के बाद रघुनाथगंज थाना पुलिस ने अवैध हथियारों के साथ आर्म्स कारोबारी को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार कारोबारी का नाम गुलाब शेख(28) है। बुधवार [Read more...]

ऊपर