गोगोई ने की थी एनआरसी अद्यतन करने की पहल

गुवाहाटीः असम के 3 बार मुख्यमंत्री (वर्ष 2001 से 2016 तक) रहने वाले तरूण गोगोई ने दावा किया कि एनआरसी की परिकल्पना उन्हीं की थी लेकिन भाजपा इसे ठीक तरह से संभालने में विफल रही जिसके कारण एक दोषपूर्ण मसौदा प्रकाशित किया गया जिसमें 40 लाख से अधिक लोगों का नाम छूट गया।
पूर्व मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से साथ एक साक्षात्कार में आरोप लगाया कि भाजपा की दिलचस्पी घुसपैठ की समस्या हल करने में नहीं बल्कि अगले लोकसभा और राज्य विधानसभा के चुनावों में एक चुनावी एजेंडा के रूप में इसका इस्तेमाल करना है। भाजपा ने विदेशियों के मुद्दे पर हमेशा सांप्रदायिक आधार पर राजनीति की है। चुनावों से पहले हमेशा घुसपैठ का मुद्दा उठाया जाता है और एक बार फिर यह अगले चुनाव में भी उठाया जाएगा।
उन्होंने कहा कि एक सही और अद्यतन एनआरसी की महत्ता से इंकार नहीं किया जा सकता क्योंकि भविष्य में विदेशी के रूप में पहचान किये जाने वाले व्यक्तियों को राज्यविहीन या दूसरे दर्जे का नागरिक घोषित किया जाएगा जिन्हें भूमि का अधिकार देने से इनकार किया जाएगा और उनके लिए कराधान का दर बहुत अधिक हो जाएगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

martyr wife home entry

शहीद के परिवार को 27 साल बाद मिली छत,हथेली पर कराया गृह प्रवेश

इंदौर : स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर इंदौर के युवाओं ने शहीद के परिवार को 27 साल बाद पक्का घर बनवाकर उपहार आगे पढ़ें »

kapil sharma joining bjp 2

दिल्लीःआप के बागी नेता कपिल मिश्रा भाजपा में शामिल

नई दिल्ली : दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के बागी नेता कपिल मिश्रा और आप की महिला इकाई की प्रमुख आगे पढ़ें »

ऊपर