कौन है अंकित कुमार, जिसका पता पुलिस भी नहीं लगा पायी, जीएसटी में 37 करोड़ किया फर्जीवाड़ा

जमशेदपुरः झारखंड पूर्वी सिंघभूम जिले में 37 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद राज्य कर विभाग में हड़कंप मच गया है। सोमवार को विभाग ने शहर के बिष्टुपुर थाने में अंकित शर्मा नामक एक व्यक्ति पर प्राथमिकी दर्ज कराई है, जिसमें फर्जी दस्तावेज के आधार पर सरकारी राजस्व को 37 करोड़ रुपये के नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया गया है। देशभर में अलर्ट भी जारी कर दिया गया है। जमशेदपुर सिटी एसपी प्रभात कुमार ने बताया कि इस संबंध में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। जल्द ही परिणाम सामने आ जाएंगे।
पांच राज्यों को लगाया है चूना 
अंकित ने पांच राज्यों को चूना लगाया है। उसने झारखंड के अलावा बिहार, उत्तर प्रदेश, राजस्थान व पंजाब तक कारोबार किया। बैंक ऑफ इंडिया की टेल्को शाखा में बिना इंट्रोड्यूसर के ही उसका खाता खोला गया था। इस फर्जीवाड़े में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। जिस तरह से पूरे कारनामे को अंजाम दिया गया, उससे कर विभाग के वरीय अधिकारी हैरान हैं।
सिर्फ बिल जेनरेट किया, टैक्स का भुगतान नहीं
जमशेदपुर अंचल में पदस्थापित कर पदाधिकारी सुनील कुमार द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत में कहा गया है बिना इंट्रोड्यूसर के ही बैंक ऑफ इंडिया की टेल्को टाउन शाखा में खाता भी खोल लिया। इस खाते से उसने करोड़ों रुपये का कारोबार किया। अंकित शर्मा ने श्रीकृष्णा इंटरप्राइजेज के नाम से जो भी इन्वाइस जारी किए, उसमें ज्यादातर लोहे के सरिया, चैनल, एंगल और तार से लेकर स्क्रैप तक शामिल हैं। खास बात यह है कि इसमें सिर्फ इन्वायस जारी हुआ, बैंक के जरिये भुगतान हुआ, लेकिन वास्तव में माल की आवाजाही नहीं हुई। इससे माल बेचने वाले ने सिर्फ बिल जेनरेट किया, सरकार को टैक्स का भुगतान नहीं किया।
पता करने अधिकारी तो सब कुछ मिला फर्जी
अधिकारी जब जांच करने के लिए अंकित शर्मा के पता बिरसानगर, जोन 1-बी स्थित मकान संख्या 789 में गए तो वहां एक महिला मिली, उसने बताया कि वह इस नाम के किसी व्यक्ति को नहीं जानती। इसके बाद जब उसका आधार कार्ड और पैन कार्ड खंगाला गया तो वह भी फर्जी मिला, यही नहीं, वस्तु एवं सेवा कर निबंधन (जीएसटीएन) में दर्शाया गया बैंक खाता भी फर्जी निकला। इससे विभाग को अभी तक पता नहीं चला है कि अंकित शर्मा नाम का यह शख्स है कौन? फ़िलहाल कर विभाग ने यह मामला पुलिस के हाथ में दे दिया है, पुलिस अपने हिसाब से मामले की जांच कर रही है।
कौन है अंकित कुमार, पुलिस नहीं लगा पा रही पता
विभाग के संयुक्त आयुक्त (प्रशासन) संजय कुमार प्रसाद बताते हैं कि अंकित शर्मा कौन है, यह अबतक रहस्य बना हुआ है। जो भी है, उसने बड़ी चालाकी और योजनाबद्ध तरीके से सारा खेल किया, यह तय है। उसने फर्जी पते से न केवल आधार कार्ड बनाया, बल्कि उसके आधार पर ही पैन कार्ड बनाया। अंकित कौन है? यह पता लगाने में पुलिस और विभाग अबतक विफल है।

Leave a Comment

अन्य समाचार

रामपाल को झटका, हाईकोर्ट ने खारिज की जेल बदलने की मांग

चंडीगढ़ः हरियाणा के हिसार सेंट्रर जेल में बंद कथित संत रामपाल की जेल बदलने की मांग को पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है। कोर्ट ने हरियाणा सरकार का पक्ष सुनने के बाद रामपाल की याचिका को खारिज कर [Read more...]

मैदान पर हुई एक और क्रिकेटर की मौत

कोलकाताः एक बार फिर क्रिकेट के मैदान पर बड़ा हादसा हुआ जिसमें एक खिलाड़ी की मौत हो गई। ये घटना कोलकाता में घटी जहां बालीगंज स्पोर्टिंग क्लब की तरफ से बल्लेबाजी करते हुए सेकेंड डीविजन क्रिकेटर सोनू यादव की मौत [Read more...]

मुख्य समाचार

नाका चेकिंग के दौरान विस्फोटक बरामद

कोतुलपुर इलाके में बम से भरे बैग के साथ 1 गिरफ्तार [Read more...]

देव उतरे मैदान में, शुरू किया जोरदार चुनावी प्रचार

सन्मार्ग संवाददाता खड़गपुर : पश्चिम मिदनापुर जिले के घाटाल लोकसभा केंद्र से दोबारा खड़े तृणमूल प्रार्थी दीपक अधिकारी उर्फ देव चुनावी मैदान में पूरे जोश के साथ उतर गये हैं। बुधवार को डेबरा इलाके में उनकी उपस्थिति [Read more...]

ऊपर