कारगिल युद्ध की 20वीं वर्षगांठः भारतीय सेना का निशाना अगर सही लगा होता तो मुशर्रफ और नवाज शरीफ का नामो निशान मिट चुका होता

नईदिल्लीः शुक्रवार को कारगिल युद्ध की 20वीं वर्षगांठ हैं। कारगिल युद्ध का जिक्र होने पर सेना के हर जवान को वह याद ताजा हो जाती है, और उन यादों में परवेज मुशर्रफ और नवाज शरीफ का जिक्र जरुर आता है। मतलब कारगिल युद्ध में दुश्मनों को धूल चटाने वाली भारतीय सेना और वायु सेना का सही निशाना लगा होता तो इन दोनों की लोगों के जीवन का सफर खत्म हो चुका होता। कारगिल युद्ध पर 2016 में आई एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि भारतीय वायुसेना के युद्धक विमान का निशाना सही लगते, तो परवेज मुशर्रफ और नवाज शरीफ नहीं बचते। यह घटना 24 जून, 1999 को सुबह करीब 8.45 बजे घटी थी। दरअसल, ये वो दिन था जब कारगिल की लड़ाई में भारतीय सेना विजय का झंडा लहराने के लिए आगे बढ़ रही थी। थल सेना के साथ ही वायुसेना भी पाकिस्तान पर बम बरसाने का काम करने में लगी हुई थी। प्लानिंग के तहत की गई कार्रवाई के दौरान भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के अग्रिम मोर्चे को धाराशाही करने का फैसला किया और जुगआर लड़ाकू विमान से निशाना साधने की कोशिश की। भारतीय सेना के एक जगुआर ने लेजर गाइडेड सिस्टम को तबाह करने के लिए निशाना था। इसके पीछे ही एक और जगुआर को भेजा गया जो शिकार के बाद सरजमीं को पूरी तरह से तबाह कर दें।
नवाज और मुशर्रफ की मौजूदगी से सेना अनजान थी
जगुआर एसीएलडीएस ने प्वाइंट 4388 पर निशाना साधा, पायलट ने एलओसी के पार गुलटेरी को लेजर बॉस्केट में चिह्नित किया, लेकिन बम लेजर बॉस्केट से बाहर गिरा दिया, जिससे पाकिस्तानी ठिकाना बच गया। खबर के मुताबिक, अगर निशाना सही होता, तो उसमें पाकिस्तान के पूर्व जनरल परवेज मुशर्रफ और नवाज शरीफ भी मारे जा सकते थे। हालांकि भारतीय वायुसेना इस बात से अनजान थी कि नवाज और मुशर्रफ वहां पर मौजूद थे।
हमला नियम विरुद्ध होता इसलिए बम नहीं गिराने का मिला निर्देश
भारत सरकार के इस दस्तावेज में मोटे अक्षरों में लिखा है, बाद में इस बात की पुष्टि हुई कि हमले के समय पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ उस समय गुलटेरी ठिकाने पर मौजूद थे। दस्तावेज के अनुसार जब पहले जगुआर ने निशाना साधा तब तक ये खबर नहीं थी कि वहां पाकिस्तानी पीएम शरीफ और मुशर्रफ मौजूद हैं। हालांकि एक एयर कमाडोर जो उस समय एक उड़ान में थे, उन्होंने पायलट को बम नहीं गिराने का निर्देश दिया, जिसके बाद बम को एलओसी के निकट भारतीय इलाके में गिरा दिया गया। ऐसा इसलिए क्योंकि यह पाक सीमा के भीतर था और हमला नियम विरुद्ध होता।
गुलटेरी पाक सेना सैन्य ठिकाना था
गौरतलब है कि कारगिल युद्ध के समय गुलटेरी पाक सेना का अग्रिम सैन्य ठिकाना था, जहां से सैन्य साजो-सामान पहुंचाया जा रहा था. गुलटेरी पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में एलओसी से नौ किलोमीटर अंदर है, जो भारत के द्रास सेक्टर के दूसरी तरफ स्थित है. पाकिस्तान मीडिया में छपी खबरों के मुताबिक 24 जून को नवाज शरीफ परवेज मुशर्रफ के साथ इस सैन्य ठिकाने पर गए थे.

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

राहुल लाएंगे ऐसी मशीन, आदमी डालो तो औरत निकलेगी: नंदकुमार चौहान

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव से पहले नेताओं में बयानबाजी का दौर तेजी से चल रहा है। नेता बयान देने से पहले मर्यादा का भी ध्यान नही रख रहे हैं। ताजा मामला खंडवा से सामने आया है, जहां भारतीय [Read more...]

एशियाई चैम्पियनशिप : कविंदर बिष्ट ने विश्व चैम्पियन को हराया, पंघल भी सेमीफाइनल में

बैंकाक : एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप मुकाबले में 56 किलो भार वर्ग में भारत के कविंदर सिंह बिष्ट ने मौजूदा विश्व चैम्पियन कैराट येरालियेव को हराकर पहला पदक पक्का कर लिया है। वहीं ओलंपिक चैम्पियन हसनबोय दुस्मातोव को शिकस्त [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

आईपीएल फाइनल में बड़ा बदलाव, अब चेन्नई में नहीं बल्कि हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम में होगा मुकाबला

बीएसएन के इस प्रीपेड प्लान से 6 महीने तक जितनी मर्जी बात करें

उपराष्ट्रपति ने आतंकवाद के खात्मे के लिये विश्व समुदाय से एकजुट होने की अपील की

राहुल लाएंगे ऐसी मशीन, आदमी डालो तो औरत निकलेगी: नंदकुमार चौहान

शुभ मुहूर्त के चलते साध्वी प्रज्ञा ने किया एक दिन पहले किया नामांकन

दो चीनी इंजीनियरों को 72 घंटे के अंदर भारत छोड़ने का मिला नोटिस

एशियाई चैम्पियनशिप : कविंदर बिष्ट ने विश्व चैम्पियन को हराया, पंघल भी सेमीफाइनल में

कंगाल होते पाकिस्तान को एफडीआई में सुधार से कुछ राहत

महबूबा मुफ्ती का पाकिस्तान प्रेमः कहा-हमारे न्यूक्लियर बम दिवाली के लिए नहीं तो, पाक के भी…

श्रीनगर: एलओसी पार से व्यापार पर रोक के खिलाफ व्यापारियों का प्रदर्शन

ऊपर