कठुआ दुष्कर्म और हत्या मामले में 3 को उम्रकैद

पठानकोट : पिछले साल जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में 8 साल की मासूम बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या मामले में पठानकोट अदालत ने सोमवार को तीन दोषियों ग्राम प्रधान सांझी राम, पुलिस अफसर दीपक खजूरिया, प्रवेश कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई है। साथ ही अदालत ने इन पर 1-1 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। वहीं एसपीओ सुरेंद्र वर्मा, एसआई अनंत दत्त, हेड कॉन्स्टेबल तिलक राज को अदालत ने साक्ष्य मिटाने का दोषी पाते हुए 5-5 साल की सजा सुनाई है।  मालूम हो कि इस मामले में अपराध शाखा की ओर से 8 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई थी। फिलहाल एक नाबालिग आरोपी के खिलाफ जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय में केस चल रहा है। वहीं एक आरोपी को बरी किया जा चुका है।

कठुआ में बढ़ाई गई सुरक्षा

सामूहिक दुष्कर्म के मामले में सुनवाई के बाद आने वाले फैसले पर किसी भी तरह की प्रतिक्रिया से निपटने के लिए कठुआ में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। अदालत दोपहर 2 बजे दोषियों को सजा को सजा का एेलान कर सकती है। मालूम हो कि इस मामले में अपराध शाखा ने पिछले साल अप्रैल में सभी 8 आरोपियों के खिलाफ चार्टशीट दाखिल की थी। आरोपियों में एक नाबालिग भी शामिल है।

घटनाक्रम की साजिश रची थी

घटना को लेकर अपराध शाखा की ओर से दायर चार्जशीट के अनुसार पूरे सांझी राम ने पूरे घटनाक्रम की साजिश रची थी। मासूम बच्ची को अपहरण के बाद उसी मंदिर में रखा गया था जिसकी देख-रेख की जिम्मेदारी वहां के पुजारी सांझी राम की थी। अदालत ने इस वीभत्स मामले में तीन पुलिस अफसर अरविंद दत्ता,दीपक खजूरिया और सुरेंद्र वर्मा के अलावा हेड कॉन्स्टेबल तिलक राज और प्रवेश कुमार (मन्नू) को दोषी ठहराया है जबकि सांझी राम के बेटे विशाल को बरी कर दिया।

उम्रकैद से लेकर फांसी तक
इस मामले को लेकर पुलिस ने भारतीय दंड विधान (आईपीसी) की धारा 120बी (आपराधिक साजिश), 302 (हत्या) और 376डी (सामूहिक दुष्कर्म) के तहत आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया था। कानूनी जानकारों की मानें तो इस जधन्य मामले में आरोपियों पर अपराध  साबित होने पर उन्हें उम्रकैद से लेकर फांसी तक की सजा सुनाई जा सकती है।

गौरतलब है कि पिछले साल 10 जनवरी को जम्मू-कश्मीर के कठुआ से बच्ची लापता हो गई थी, बाद में उसका का शव क्षत-विक्षत हालत में जंगल से बरामद हुआ था। इस मामले में आरोप है कि मासूम बच्ची को न सिर्फ मंदिर में बंधक बना कर रखा गया बल्कि उसके साथ कई दिनों तक दरिंगदी के बाद उसकी हत्या कर दी गई। शीर्ष न्यायालय ने दुष्कर्म के इस मामले को राज्य से बाहर पठानकोट की फास्ट ट्रैक अदालत में स्‍थानांतरित कर दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार !

बजट कार्यालय ने व्यक्त किया अनुमान वाशिंगटनः अगले वित्त वर्ष में अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार जाने की आशंका है। यह आगे पढ़ें »

new zealand speaker

न्यूजीलैंड : संसद में रो रहे बच्चे को स्पीकर ने पियाला दूध, लोगों ने की सराहना

वेलिंगटन : न्यूजीलैंड के संसद भवन में स्पीकर ट्रेवर मलार्ड ने एक सांसद के बेटे को दूध पिलाया। मालूम हो कि संसद भवन में आमतौर आगे पढ़ें »

ऊपर