एसवाईएल पर पंजाब को झटका

नयी दिल्ली : पंजाब में अकाली दल सरकार को बड़ा झटका देते हुए उच्चतम न्यायालय ने सतलज-यमुना संपर्क नहर जल बंटवारा समझौते से बचने के उसके प्रयासों को गुरुवार को विफल कर दिया। अदालत ने कहा कि वह एकपक्षीय तरीके से इसे निरस्त नहीं कर सकता और उच्चतम न्यायालय के फैसले को निष्प्रभावी करने के लिए कानून नहीं लागू कर सकता।

शीर्ष अदालत ने अदालत के फैसलों को निष्प्रभावी करने और करीब तीन दशक पुराने एसवाईएल जल बंटवारे समझौते को एकपक्षीय तरीके से समाप्त करने के लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह की तत्कालीन पंजाब सरकार द्वारा पारित कानून की संवैधानिक वैधता पर तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की ओर से उच्चतम न्यायालय की राय के लिए उसे भेजे गये सभी चार प्रश्नों का उत्तर ‘नहीं’ में दिया।

न्यायमूर्ति ए आर दवे की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने अपने परामर्श वाले फैसले में कहा, ‘‘जब इस निष्कर्ष पर पहुंचा जाता है कि समझौते या वाद में शामिल पक्ष कोई राज्य एकपक्षीय तरीके से समझौते को निरस्त नहीं कर सकता या देश की सर्वोच्च अदालत के आदेश को निष्प्रभावी नहीं कर सकता तो इसका अर्थ है कि पंजाब राज्य शीर्ष अदालत के 15 जनवरी, 2002 के फैसले और आदेश तथा चार जनवरी, 2004 के आदेश के प्रति उसकी बाध्यता से खुद को अलग नहीं कर सकता।’’

शीर्ष अदालत ने पहले 2002 में हरियाणा के वाद में आदेश जारी किया था कि पंजाब मामले में जल हिस्सेदारी के प्रति अपनी प्रतिबद्धता का सम्मान करे।

पंजाब ने एक मूल मुकदमा दाखिल करके फैसले को चुनौती दी जिसे उच्चतम न्यायालय ने 2004 में खारिज कर दिया था और केंद, से एसवाईएल नहर परियोजना के बाकी बुनियादी संरचना कार्य को अपने हाथ में लेने को कहा था।

संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति पी सी घोष, न्यायमूर्ति शिव कीर्ति सिंह, न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल और न्यायमूर्ति अमिताभ राय भी शामिल हैं। संविधान पीठ ने मामले में अपने दो फैसलों का अनुपालन नहीं किये जाने पर एतराज जताते हुए कहा कि 31 दिसंबर, 1981 को पंजाब और हरियाणा के बीच जल समझौते को कानूनी मंजूरी दी गयी थी। इससे पहले 1966 में पंजाब से अलग राज्य हरियाणा बनाया गया था।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

विंग कमांडर अभिनंदन का कश्मीर से किया गया ट्रांसफर, सुरक्षा के मद्देनजर लिया गया फैसला

नई दिल्ली : भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को सुरक्षा के मद्देनजर कश्मीर से ट्रांसफर कर दिया गया है। आपको बता दें कि वह श्रीनगर स्थित एयरबेस पर तैनात थे लेकिन सुरक्षा कारणों से उनका स्थानांतरण कर [Read more...]

मतदान केंद्र पर चुनाव अधिकारी को आया हार्ट अटैक, सीआरपीएफ जवान ने सूझबूझ से बचाई जान

श्रीनगरः लोकसभा चुनाव के दौरान जहां प्रत्याशी एक दूसरे पर हमलावर हो रहे है। सुरक्षाबलों का लगातार इस्तेमाल चुनावी प्रचार करने में लगे है। वहीं दूसरी तरफ सीआरपीएफ का एक जवान चुनाव ड्यूटी पर तैनात एक कश्‍मीरी मतदान अधिकारी के [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

विंग कमांडर अभिनंदन का कश्मीर से किया गया ट्रांसफर, सुरक्षा के मद्देनजर लिया गया फैसला

मतदान केंद्र पर चुनाव अधिकारी को आया हार्ट अटैक, सीआरपीएफ जवान ने सूझबूझ से बचाई जान

एक फोन के बदले गूगल ने क्यों ऑफर किए 10 नए स्मार्टफोन

साध्वी प्रज्ञा सिंह को चुनाव आयोग का नोटिस

कसाब जैसा आतंकी था वैसी ही आतंकी हैं साध्वी प्रज्ञा: प्रकाश आंबेडकर

दिग्विजय सिंह ने कहा- हिन्दुत्व शब्द मेरी डिक्शनरी में नहीं

रहाणे से छीन गई रॉयल्स की अगुवाई

स्पाइसजेट ने जेट एयरवेज के 500 कर्मचारियों को दिया रोजगार

प्रधानमंत्री मोदी पर आधारित वेब सीरीज पर चुनाव आयोग की रोक

अब राहुल की नागरिकता पर ही उठे सवाल

ऊपर