एटीएम इस्तेमाल करने से पहले जांच ले मशीन, हैकर एटीएम पैनल में कैमरा व चिप लगाकर निकाल लेते है पैसे

गुड़गांवः हैक करने वाले हैकर कम्‍प्यूटर, इंटरनेट, फेसबुक, मेल, मोबाइल आदि बहुत साफ्टवेयर जैसे हैक लेते है। लेक‌िन क्या आपने कभी सुना है कि पैसा आपके बैंक में है, एटीएम और एटीएम का पिनकोड आपके पास है। उसके बावजूद यदि हैकर एटीएम से पैसा निकाल ले जाए, तो सुनकर एक बारगी विश्वास नहीं होगा, अलबत्ता आश्चर्य होगा। ले‌किन यह सच है। ऐसा ही एक एक मामला गुड़गांव के सेक्टर-45 स्थित एचडीएफसी बैंक की शाखा के एटीएम से छेड़छाड़ कर वहां से कई लोगों के खातों की जानकारी लेकर करीब 15 लाख रुपये निकालने का मामला सामने आया है। जांच में पता चला कि मार्च और अप्रैल के दौरान मशीन में छेड़छाड़ कर करीब 100 लोगों के खाते को हैक किया गया। एक ही बैंक के इतने कस्टमर्स का पैसा निकलने के बाद पुलिस को शिकायत दी गई।
जहां कार्ड लगाते हैं वहीं पैनल में लगा होता कैमरा
साइबर क्राइम मामलों के जानकार का कहना है कि कार्ड पैनल (जहां कार्ड लगाते हैं) से छेड़छाड़ कर पैनल में चिप लगा दिया जाता है। लोग जैसे ही कार्ड डालते हैं, खाते से जुड़ी तमाम जानकारी चिप में सुरक्षित हो जाती है। इसके बाद खाते से रुपये निकालने के अलावा अन्य तरह की धोखाधड़ी की जाती है। पुलिस को दी शिकायत में एचडीएफसी बैंक के अमित साहनी ने बताया कि बैंक के कुछ ग्राहकों के खातों से 1 मई 2018 से रुपये ट्रांसफर होने शुरू हुए। इन ग्राहकों ने बैंक को शिकायत दी। सभी का कहना था कि एटीएम कार्ड इनके पास ही थे जबकि खातों से रुपये निकल गए। दर्जनों शिकायतें आईं तो बैंक ने अपने स्तर पर जांच शुरू की। जांच में सामने आया कि इन सभी ग्राहकों के साथ एक बात सामान्य थी कि इन्होंने मार्च व अप्रैल महीने में सेक्टर-45 स्थित बैंक शाखा के एटीएम से ट्रांजैक्शन की थी।
पहले हुआ ट्रांजैक्‍शन फिर निकला लिए गए पैसे
साइबर क्राइम थाना के निरीक्षक शमशुद्दीन ने बताया बैंक ने जांच में पाया कि मार्च में 12, 23 व अप्रैल महीने में 6, 8, 13, 14, 15, 16, 17, 18, 19, 23, 26 और 29 तारीख को एटीएम से किसी ने छेड़छाड़ कर ग्राहकों का डेटा चुरा लिया। इन दिनों में एटीएम से ट्रांजैक्शन करने वालों के खातों से बाद में रुपये निकाल लिए गए। बैंक ने शिकायत पुलिस को दी। अब बैंक की ओर से इन सभी तारीख की सीसीटीवी फुटेज जुटाई जा रही है। फुटेज की जांच के बाद ही मामले से पर्दा उठ सकेगा। “धोखे से खाते से रुपये चुराने व आईटी एक्ट के आरोप में अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। जांच कर ठग की पहचान के प्रयास चल रहे हैं।”
कैसे करते हैं धोखाधड़ी
साइबर क्राइम मामलों के एक्सपर्ट इंस्पेक्टर सुधीर ने बताया कि एटीएम में कार्ड डालने वाले स्लॉट के ऊपर उसी तरह का एक स्कीमर (एटीएम कार्ड का डेटा चोरी करने वाली मशीन) लगा दिया जाता है। इसमें एक चिप लगी होती है। ऐसे में जब भी कोई कार्ड मशीन में डालेगा तो ठगों द्वारा लगाई गई चिप में एटीएम कार्ड का डेटा सेव हो जाएगा। इसके साथ ही पिन नंबर डालने वाले बटनों के ठीक ऊपर एचडी कैमरा लगा होता है। इससे पिन नंबर भी सेव हो जाता है। एक बार एटीएम में चिप व कैमरा लगाने के बाद कई दिनों तक ठग उसे नहीं हटाते। काफी डेटा एकत्र होने के बाद चिप को हटा लिया जाता है।
क्लोन कार्ड से करते है चोरी
मशीन के जरिए क्लोन कार्ड बनाए जाते हैं। किसी भी एटीएम कार्ड को इस मशीन में डाला जाता है। मशीन से जुड़े सिस्टम में डिलीट व रीड की कमांड होती है। डिलीट की कमांड देते ही कार्ड में मौजूदा डेटा डिलीट कर दिया जाता है। फिर एटीएम मशीन में स्कीमर चिप से चुराए गए एक कार्ड के डेटा को इस खाली एटीएम कार्ड में रीड कर दिया जाता है। इस क्लोन एटीएम में असल एटीएम कार्ड का डेटा आ जाता है। एटीएम में लगे कैमरे में दर्ज हुआ पिनकोड पहले से ठगों के पास होता है। इसके बाद क्लोन कार्ड से रुपये निकाल लिया जाता है।
एटीएम कार्ड पैनल में डालने से पहले करें मशीन की जांच
साइबर क्राइम मामलों के एक्सपर्ट इंस्पेक्टर सुधीर ने बताया कि बदमाश एटीएम के कार्ड पैनल (जहां लोग कार्ड लगाते हैं) से छेड़छाड़ करते हैं। उस पैनल में चिप लगा दिया जाता है। कार्ड डालते ही तमाम जानकारी उस चिप में सुरक्षित हो जाती है। बाद में चिप को एटीएम पैनल से निकाल लिया जाता है। इसके बाद उसमें दर्ज सभी जानकारी का इस्तेमाल कर खाते से पैसे निकाल लिया जाता है। इस तरह की धोखाधड़ी से बचने के लिए एटीएम के कार्ड पैनल को जरूर ध्यान से देखना चाहिए। यदि कहीं कुछ भी संदिग्ध लगे तो मशीन का उपयोग न करें। इसकी सूचना पुलिस और बैंक को दें।
पिन नंबर बदलने से हैक की आशंकाएं होती है कम
खातों को सेफ रखने के लिए समय-समय पर एटीएम का पिन भी बदलते रहना चाहिए। अगर हर 3 से 5 माह में एटीएम का पिन बदलते हैं तो इससे खाते व कार्ड को हैक करने की आशंकाएं काफी कम हो जाती हैं।

Leave a Comment

अन्य समाचार

प्रधानमंत्री मोदी पर आधारित वेब सीरीज पर चुनाव आयोग की रोक

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ी एक वेब सीरिज 'मोदी जर्नी ऑफ अ कॉमन मैन' पर चुनाव आयोग ने रोक लगा दी है। निर्माताओं को ऑनलाइन कंटेंट हटाने का निर्देश दिया गया है। चुनाव आयोग ने शनिवार को [Read more...]

अब राहुल की नागरिकता पर ही उठे सवाल

लखनऊ: अमेठी से चुनाव लड़ रहे एक निर्दलीय उम्मीदवार ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नागरिकता पर सवाल उठाए हैं। इस पर राहुल गांधी के वकील ने चुनाव आयोग से जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा। आयोग ने राहुल [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

विंग कमांडर अभिनंदन का कश्मीर से किया गया ट्रांसफर, सुरक्षा के मद्देनजर लिया गया फैसला

मतदान केंद्र पर चुनाव अधिकारी को आया हार्ट अटैक, सीआरपीएफ जवान ने सूझबूझ से बचाई जान

एक फोन के बदले गूगल ने क्यों ऑफर किए 10 नए स्मार्टफोन

साध्वी प्रज्ञा सिंह को चुनाव आयोग का नोटिस

कसाब जैसा आतंकी था वैसी ही आतंकी हैं साध्वी प्रज्ञा: प्रकाश आंबेडकर

दिग्विजय सिंह ने कहा- हिन्दुत्व शब्द मेरी डिक्शनरी में नहीं

रहाणे से छीन गई रॉयल्स की अगुवाई

स्पाइसजेट ने जेट एयरवेज के 500 कर्मचारियों को दिया रोजगार

प्रधानमंत्री मोदी पर आधारित वेब सीरीज पर चुनाव आयोग की रोक

अब राहुल की नागरिकता पर ही उठे सवाल

ऊपर