अंडमान निकोबार द्वीप समूह का नाम बदलने की तैयारी, सरकार ने दिया संकेत


नयी दिल्लीः केंद्र सरकार ने अंडमान निकोबार द्वीप समूह के तीन आइलैंड के नामों में बदलाव करने का फैसला ल‍िया है। इनमें जहां रोस आइलैंड का नाम बदलकर नेताजी सुभाषचंद्र बोस होगा तो वहीं, नील आइलैंड का नाम शहीद द्वीप और हैवलॉक आइलैंड का नाम स्वराज द्वीप होगा।
बता दें कि 21 अक्टूबर 1943 को सिंगापुर में पहली आजाद हिंद सरकार की स्थापना करने के साथ ही नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने आजाद हिंद फौज की मदद से अंग्रेजों की सेना के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया था और लड़ते हुए अंडमान निकोबार दीप समूह पर कब्जा जमा लिया था। 30 दिसंबर को नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने तिरंगा फहराया था। अंडमान निकोबार दीप समूह का नाम शहीद और स्वराज रखा था।



अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आजाद हिंद फौज की 75वीं बरसी पर लाल किला से झंडा फहराकर नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि देने के साथ-साथ वो अंडमान निकोबार द्वीप समूह भी जाएंगे जहां पर 75 साल पहले नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने फहराया था। इस दौरान आजाद हिंद फौज और नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवार से जुड़े लोगों को आमंत्रित किया गया है। चंद्र बोस ने कहा मैंने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर आवेदन किया है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि देने का इससे अच्छा तरीका नहीं हो सकता कि जिस द्वीप समूह का नाम नेताजी ने बदला था उसका नाम बदलकर फिर से शहीद और स्वराज किया जाए।
गौरतलब है कि कुछ समय पहले ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संगम नगरी इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया था। इसके बाद उत्तर प्रदेश में कुछ और भी शहरों के नाम बदले गए। इसे लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को काफी विवादों का सामना करना पड़ा था।




शेयर करें

मुख्य समाचार

अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार !

बजट कार्यालय ने व्यक्त किया अनुमान वाशिंगटनः अगले वित्त वर्ष में अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार जाने की आशंका है। यह आगे पढ़ें »

new zealand speaker

न्यूजीलैंड : संसद में रो रहे बच्चे को स्पीकर ने पियाला दूध, लोगों ने की सराहना

वेलिंगटन : न्यूजीलैंड के संसद भवन में स्पीकर ट्रेवर मलार्ड ने एक सांसद के बेटे को दूध पिलाया। मालूम हो कि संसद भवन में आमतौर आगे पढ़ें »

ऊपर