अब बकरियां रोकेंगी जंगल की आग

goat in jungle

पुर्तगाल : जंगल की आग बहुत सारे देशों के लिए बड़ी चिंता की विषय बन गयी है। पिछले कुछ समय से पुर्तगाल में लग रहे आग की समस्या से परेशान होकर इससे मुक्ति पाने के लिए सरकार ने कई उच्चस्तरीय तरीके जैसे कि ड्रोन तकनीक, सैटलाइट्स और एयरक्राफ्ट का प्रयोग किया था पर कोई हल नहीं निकाल पाए। आखिरकार अब सरकार को जंगल की आग रोकने के लिए बकरियों का सहारा लेना पड़ेगा। मालूम हो कि काफी लंबे समय से जमीन प्रबंधन की मांग बढ़ रही थी और जंगलों में बढ़ती आग ने इस बहुप्रतीक्षित व्यवस्था को भी शुरु कर दिया। अंत में हर तकनीकी प्रयोग और जमीन प्रबंधन व्यवस्था के नाकामयाब होने के बाद सरकार ने बकरियों का सहारा लेने का फैसला किया है।

बकरियां इस प्रकार करेगी सहायता

जंगलो में अगर बकरियों की संख्या बढ़ा दी जाएगी तो वे बड़ी सरलता से सारे पत्ते खा जाएगी जिससे कुछ हद तक आग लगने की घटनाओं पर काबू पाया जा सकता है। बता दें कि पुर्तगाल में स्ट्रॉबेरी के पेड़ भारी मात्रा में हैं जो काफी जल्दी आग पकड़ लेती है। इस प्रोजेक्ट को सरकार ने पिछले ही साल शुरु किया था और 10,800 भेड़ों और बकरियों के रहने का इंतजाम भी किया था। इसके सा‌‌थ ही यूकेलिप्टस की खेती में धीरे-धीरे कमी की जा रही है।

गांवो की घटती आबादी हैं बढ़ती आग का कारण

मालूम हो कि जंगल में आग लगने का सबसे बड़ा कारण गांवो की घटती आबादी है। पुर्तगाल सहित कई दक्षिणी यूरोपीय देशों में यह समस्या आग की तरह फैलती जा रही है। गांवो में भेड़ और बकरियों के चरने की संख्या बढ़ती जा रही है। पर इधर कुछ वर्षो में वे जंगल छोड़कर जा रहे हैं जिससे जंगलो का आकार गांवो की ओर बढ़ता जा रहा है।जिसके कारण जंगलो में आग लगने की समस्या बढ़ती जा रही है। वैज्ञानिकों से मिली जानकारी के मुताबिक पुर्तगाल को पाइन और नीलगिरी के बजाय ओक, चेस्टनट और अन्य अग्नि प्रतिरोधी पेड़ लगाने की अधिक जरुरत है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

momota

बंगाल सरकार प्रयोग में नहीं आने वाले हवाईअड्डों का करेगी नवीकरण: ममता

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को कहा कि राज्य प्रयोग में नहीं आने वाले हवाईअड्डों का नवीकरण कर छोटे विमानों आगे पढ़ें »

काॅरिडोर के निर्माण के लिए हावड़ा से जाने वाली इन ट्रेनों को किया जाएगा नियंत्रित

कोलकाता : पूर्व मध्य रेलवे के झाझा प्वाइंट पर अप दिशा में 8 दिसम्बर को सुबह 6:45 बजे से 10:45 बजे तक ट्रेन सेवा नियंत्रित आगे पढ़ें »

ऊपर