बच्ची के साथ उसकी गुड़िया को भी लगा प्लास्टर

small-girl-plaster

नई दिल्ली : दिल्ली के लोकनायक अस्पताल में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिससे आपको ताज्जुब भी होगा और अफसोस भी। 11 महीने की बच्ची के दोनों पैरों के फैक्चर का इलाज करने के लिए डाॅक्टरों को बच्ची की गुड़िया (डाॅल) को भी अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। डाॅक्टरों ने बच्ची की तरह ही गुड़िया के पैरों का भी प्लास्टर किया। जैसी मुद्रा में बच्ची को रखा गया था ठीक वैसी ही मुद्रा में उसकी गुड़िया को रखा गया।

बिस्तर से गिर गई थी बच्ची
दरअसल, 17 अगस्त को 11 महीने की जिक्रा मलिक अपने घर में सो रही थी। उसी दौरान वह अपने बिस्तर से गिर गयी। बिस्तर से गिरने के कारण जिक्रा के दोनों पैर फैक्चर हो गये। आनन-फानन में जिक्रा के माता-पिता उसे अस्पताल लेकर पहुंचे। डाॅक्टरों ने बच्ची की जांच करने के बाद बताया कि बच्ची की हड्डियों में कुछ फ्रेक्चर आया हुआ है। डाॅक्टरों ने बताया कि बच्ची के दोनों पैरों को रॉड से जोड़कर ऊपर की ओर लटकाकर रखना होगा। इसके लिए बच्ची को दो हफ्ते अस्पताल में रहना पड़ेगा।
इलाज करने में हाे रही थी परेशानी
जिक्रा के माता-पिता ने इलाज की मंजूरी दे दी। लेकिन जिक्रा उनसे घर जाने की जिद करने लगी और रोने लगी। जिक्रा के रोने के कारण डॅाक्टरों को इलाज करने में काफी दिकक्त हो रही थी। डाॅक्टरों ने इसके बाद जिक्रा का इलाज करने का एक अनोखा तरीका ढूंढ निकाला और बच्ची के पिता को कहा कि उसका पसंदीदा खिलौना लेकर आइये। इसपर जिक्रा की मां ने बताया कि उसका पसंदीदा खिलौना उसकी गुड़िया है, जिससे वह दिनभर खेलती है।

जिक्रा और गुड़िया दोनों ने एक ही बेड पर कराया प्लास्टर

डाॅक्टरों ने फैसला किया कि बच्ची को प्लास्टर करने से पहले उसकी गुड़िया को प्लास्टर किया जाएगा। इसे देखकर बच्ची के अंदर से डर निकल जाएगा और काफी सूझ-बूझ के साथ ऐसा करने से बच्‍ची के मन से डर निकल गया।

इस प्रकार काम करते हुए डॉक्टरों ने जिक्रा के बेड पर ही गुड़िया को गैलन ट्रैक्शन की पाॅजीशन में उसके पैर को बांध दिया। गुड़िया को इलाज की स्थिति में देखने के बाद जिक्रा ने भी पैरों पर प्लास्टर चढ़वा लिया। जिक्रा को दवा देने से पहले उसकी गुड़िया को दवा देने का दिखावा करना पड़ा। इसके बाद जिक्रा ने दवा लिया।

बच्‍ची की मां ने आइडिया दिया
लोकनायक अस्पताल के हड्‌डी रोग विशेषज्ञ प्रोफेसर डॉ अजय गुप्ता ने बताया कि 11 महीने की बच्ची के पैरों में फ्रैक्चर का प्लास्टर करना काफी कठिन था। क्योंकि वह इलाज कराने से इनकार कर रही थी। लेकिन बच्‍ची की मां ने आइडिया दिया कि बच्ची के इलाज से पहले उसकी गुडिया का इलाज करने का दिखावा करना होगा क्योंकि बच्ची सबसे ज्यादा अपनी गुड़िया परी के साथ खेलती है। यह आइडिया कारगर रहा और अब बच्ची आराम से इलाज करा रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

modi

नागरिकता कानून पर हिंसा दुर्भाग्यपूर्ण, अफवाहों से दूर रहें और शांति बनाए रखें : पीएम मोदी

नई दिल्ली : नागरिकता संशोधन कानून पर देश के कई शहरों में हो रहे हिंसक प्रदर्शनों पर सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बयान आया। आगे पढ़ें »

bangladesh

भारत में अवैध ढंग से रह रहे अपने नागरिकों को वापस लाने के लिए तैयार है बांग्लादेश

ढाका : बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए के अबदुल मोमेन ने भारत से अपील करते हुए कहा कि यदि उनके यहां अवैध रूप से रह आगे पढ़ें »

rahul

स्मृति की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने मांगा राहुल के बयान पर जवाब

momota

महिलाओं के खिलाफ हिंसा को ‘न’ कहें : ममता बनर्जी

नवंबर में थोक महंगाई दर में 0.58% की बढ़ोत्तरी, प्याज की कीमतों में सबसे ज्यादा वृद्धि

अपने पुराने यूएएन नंबर को इस तरह करें नए में ट्रांसफर

dhankhad

ममता की रैली पर धनखड़ ने कहा, असंवैधानिक और भड़काऊ कार्य करने से बचें

court

जामिया हिंसा पर मंगलवार को होगी सुनवाई, पहले रोके जाएं हिंसक प्रदर्शन- सुप्रीम कोर्ट

aligadh

नागरिकता कानून : अलीगढ़ यूनिवर्सिटी के छात्रों का प्रदर्शन, 6 जिलों में धारा 144 लागू, 500 के खिलाफ केस दर्ज

ordoan

ट्रम्प ने तुर्की पर प्रतिबंध बढ़ाए, तो देश में मौजूद अमे‌‌रिकी बेस बंद होंगे : राष्ट्रपति अर्दोआन

ऊपर