हर दिन 9 घंटे से अधिक समय तक बैठने से हो सकती है जल्द मौत : अध्ययन

Sitting for more than 9 hours ev

लंदन : ब्रिटिश मेडिकल जर्नल (बीएमजे) में प्रकाशित हुए एक शोध से यह सामने आया है कि 9.5 घंटे या उससे अधिक समय तक बैठे रहने से जल्द मौत का खतरा बढ़ जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के दिशानिर्देशों में 18 से 64 वर्ष की आयु के लोगों के लिए हर हफ्ते कम से कम 150 मिनट तक मध्यम या 75 मिनट तक अत्यंत कड़ा शारीरिक परिश्रम करने की सलाह दी गई है। हालांकि, ये सलाह मुख्य तौर पर खुद अपनाई गई गतिविधियों पर आधारित है। इसलिए किस उम्र में कितनी ज्यादा शारीरिक गतिविधियां जरूरी हैं या उनकी तीव्रता क्या होनी चाहिए इसका कोई स्पष्ट मानदंड नहीं है।

प्रोफेसर उल्फ एकेलुंड के नेतृत्व में इस प्रकार हुआ शोध

नार्वे के ओस्लो में स्थित नॉर्वेजियन स्कूल ऑफ स्पोर्ट साइंसेज के प्रोफेसर उल्फ एकेलुंड के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने शारीरिक गतिविधियों और मृत्यु के साथ गतिहीन समय के संबंधों का आकलन करते हुए अवलोकन संबंधी अध्ययनों का विश्लेषण किया।

अध्ययन में एक्सेलेरोमीटर (त्वरणमापी) का उपयोग किया गया है।यह पहनने योग्य उपकरण है जो जागने के घंटों के दौरान गतिविधि की मात्रा और तीव्रता को ट्रैक करता है, जिसका मकसद दैनिक गतिविधि के स्तर को मापना है। शारीरिक गतिविधियों के स्तर के उदाहरणों में धीरे-धीरे चलना या खाना पकाने या बर्तन धोने जैसे हल्के कार्य कम तीव्रता वाली गतिविधियों में आते हैं। मध्यम तीव्रता वाली गतिविधि में ऐसी कोई भी गतिविधि शामिल है जिससे आपकी सांसे तेज हो जाती हैं, जैसे तेज चलना इत्यादि।

गतिहीन होना मृत्यु के जोखिम को बढ़ाना

शोध में कहा गया है कि दिन भर में नींद के समय को छोड़कर 9.5 घंटे या उससे अधिक समय तक बैठे रहना समय से पहले मृत्यु के जोखिम को बढ़ाता है। 8 उच्च गुणवत्ता वाले शोध में कम से कम 40 वर्ष या उससे अधिक की आयु वाले 36,383 वयस्कों को शामिल किया गया, जिनकी औसत आयु 62 वर्ष थी।

प्रतिभागियों पर 5.8 वर्ष हुआ शोध

गतिविधि के स्तर को खंडों में वर्गीकृत किया गया है, जिसमें कम सक्रियता से लेकर सबसे अधिक सक्रियता के स्तर का उल्लेख किया गया है। प्रतिभागियों पर औसतन 5.8 वर्ष तक नजर रखी गई। शोध के दौरान 2,149 (5.9 फीसदी) प्रतिभागियों की मौत हो गई। वहीं संभावित प्रभावशाली कारकों के समायोजन के बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि किसी भी स्तर की शारीरिक गतिविधि, चाहे वह किसी भी तीव्रता की हो, मृत्यु के जोखिम को काफी कम करती है।

गतिविधि के बढ़ने के कारण मौतें हुईं कम

शारीरिक गतिविधि की कुल मात्रा में से लगभग 300 मिनट (5 घंटे) प्रति दिन हल्की तीव्रता वाली शारीरिक गतिविधि या प्रति दिन लगभग 24 मिनट मध्यम तीव्रता वाली शारीरिक गतिविधि के बढ़ने के कारण मौतें बहुत कम हो गईं। इन स्तरों पर मेहनत करने वाले लोगों में कम या बिल्कुल भी शारीरिक परिश्रम नहीं करने वाले लोगों की तुलना में मृत्यु का जोखिम आधा हो गया था।

इसका परिणाम शानदार हैं : टॉम येट्स

ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ लीसेस्टर के एक प्रोफेसर टॉम येट्स ने कहा, ‘‘इसका परिणाम शानदार हैं। यह पहले से व्यापक रूप से माना गया है कि स्वास्थ्य के लिए अधिक शारीरिक गतिविधि करना कितना बेहतर होता है।’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

Dhanush Howitzer

स्वदेशी होवित्जर तोप ‘धनुष’ सेना में शामिल, 50 किमी तक के लक्ष्य को भेदने में सक्षम

नई दिल्ली : भारतीय सेना ने अपनी शक्ति को और बढ़ाने के लिए स्वदेशी होवित्जर तोप 'धनुष' को सेना में शामिल किया है। इसके लिए आगे पढ़ें »

भारतीय बैंकों का क्रेडिट ग्रोथ घटकर दो साल के निचले स्तर पर आया : आरबीआई

नई दिल्ली : आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक भारतीय बैंकों का क्रेडिट ग्रोथ घटकर लगभग दो साल के निचले स्तर पर आ गया है, क्योंकि आगे पढ़ें »

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

ऊपर