सेना के ‘ऑपरेशन ब्रासटैक्स’ से बड़ी थी लोकसभा चुनाव में सुरक्षाबलों की लामबंदी

सात चरणों के मतदान के दौरान भारत में अब तक की सबसे बड़ी तैनाती थी

नयी दिल्ली : देश में सात चरणों के लोकसभा चुनाव के लिए तीन लाख अर्द्धसैन्य बलों के साथ 20 लाख से अधिक राज्य पुलिस अधिकारी और होम गार्ड तैनात किये गये थे। गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि 2019 में इतनी बड़ी संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती भारत में अब तक की सबसे बड़ी तैनाती थी। इसे 80 के दौर में भारत के मशहूर ‘ऑपरेशन ब्रासटैक्स’ से बड़ा जमावड़ा कहा जा रहा है। ‘ऑपरेशन ब्रासटैक्स’ द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद से किसी नाटो अभ्यास से बड़ा अभ्यास था, जो राजस्थान में भारतीय सेना का बड़ा सैन्य अभ्यास था। यह 1986 में शुरू हुआ था और 1987 में जाकर खत्म हुआ, जिसमें करीब छह से आठ लाख सैनिक शामिल थे। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि प्रभावी तौर पर पुलिस और केंद्रीय अर्द्धसैन्य बलों के करीब 20 लाख सैनिक चुनाव में शामिल रहे। दुनिया में कहीं भी इतने बड़े पैमाने पर लामबंदी दुर्लभ है। मौजूदा संसदीय चुनाव के लिए गृह मंत्रालय ने 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में अर्द्धसैन्य बलों की 3,000 टुकड़ियां भेजीं, जिनमें 3,00,000 से अधिक कर्मी थे। यह संख्या राज्य सशस्त्र पुलिस, भारतीय रिजर्व बटालियनों और होम गार्ड के अतिरिक्त है, जो कुल मिलाकर करीब 20 लाख हो सकती है। चुनाव के चरणों के खत्म होने पर सुरक्षाबलों को एक राज्य से दूसरे राज्य में भेजा गया। चुनाव ड्यूटी के लिए तैनात किये गये अर्द्धसैन्य बलों की अहम ड्यूटी में लोगों के बीच बिना किसी डर के वोट डालने के लिए विश्वास और सुरक्षा का माहौल पैदा करना, कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाये रखना, चुनावी हिंसा रोकना और इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की सुरक्षा शामिल हैं। भारत के निर्वाचन आयोग ने गृह मंत्रालय के साथ मिलकर सुरक्षाबलों की तैनाती के लिए एक आकलन तैयार किया। मंत्रालय ने सीआरपीएफ, बीएसएफ, सीआईएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी और असम राइफल्स जैसे विभिन्न बलों की सीमा की रक्षा करने, आतंकवाद रोधी अभियानों और अन्य प्रतिबद्धताओं में उनकी भूमिका को ध्यान में रखते हुए तैनाती की योजना तैयार की। रेल मंत्रालय ने विशेष ट्रेनों के रूप में सहयोग किया। रक्षा मंत्रालय ने दूरदराज के इलाकों में बलों की गतिविधि के लिए हवाई सहयोग मुहैया कराया। गृह मंत्रालय ने चुनाव के विभिन्न चरणों के दौरान अर्द्धसैन्य बलों की अंतर राज्यीय गतिविधि का निरीक्षण करने के लिए एक संयोजक नियुक्त किया। उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव के लिए मतदान 11 अप्रैल से शुरू होकर 19 मई को समाप्त हुआ। मतगणना 23 मई को होगी।

मुख्य समाचार

भारत से मिली हार के बाद शोएब ने पाकिस्तानी कप्तान को फटकार लगाई

इस्लामाबादः पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने विश्व कप में भारत से मिली 89 रन से हार के लिये सरफराज अहमद की ‘बेवकूफाना आगे पढ़ें »

अमित शाह ने अनोखे अंदाज में दी भारतीय टीम को जीत की बधाई

नई दिल्लीः केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भारतीय क्रिकेट टीम को विश्व कप में पाकिस्तान में मिली जीत पर बधाई देते हुए कहा कि आगे पढ़ें »

‘लाइट आफ्टर डार्क’ बैंड ने मचाई धूम, चुनाव आयोग ने भी ली सेवा

शिलॉन्ग : मेघालय में दृष्टिहीन संगीतकारों के एक बैंड ने धूम मचा रखी है। इस बैंड को ‘लाइट आफ्टर डार्क’ का नाम दिया गया है। आगे पढ़ें »

हैमस्ट्रिंग के कारण भुवनेश्वर अगले दो तीन मैच से बाहर

मैनचेस्टरः भारतीय टीम के तेज गेंदबाज स्‍विंगमास्टर भुवनेश्‍वर कुमार चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ विश्व कप मैच में लगी हैमस्‍ट्रिंग चोट के कारण कम से आगे पढ़ें »

एफएमसीजी सेक्टर की बजट से कई उम्मीदें

नई दिल्ली : आम बजट 5 जुलाई को पेश होगा। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में यह पहला बजट होगा,ऐसे में हर सेक्टर को इस आगे पढ़ें »

काले हिरण के शिकार मामले में सलमान को राहत

जोधपुर : जोधपुर में एक फिल्म की शूटिंग के दौरान काले हिरण का शिकार करने के मामले में अभिनेता सलमान खान को फिर से राहत आगे पढ़ें »

काम नहीं आया जादू, गंगा में डूबा जादूगर

कोलकाता : लोगों को अपने जादू से हैरान कर देने वाले एक जादूगर का जादू उसी के काम नहीं आया और वह जान से हाथ आगे पढ़ें »

संसद में गूंजा मोदी-मोदी और वंदे मातरम का नारा

नयी दिल्ली : आम चुनाव के बाद सोमवार को शुरू हुए सत्रहवीं लोकसभा के पहले सत्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, उनके मंत्रिमंडल सदस्यों सहित नए आगे पढ़ें »

देश में पहली बार लू के कारण धारा 144 लागू

औरंगाबाद : बिहार में प्रचंड गर्मी का कहर जारी है। एक तरफ जहां चमकी बुखार से बच्चों की मौत का सिलसिला जारी है वहीं लू आगे पढ़ें »

आयकरदाताओं का भार कम करेगी सरकार, ले सकती है यह बड़ा फैसला

नई दिल्ली : सरकार आयकरदाताओं के पक्ष में बड़ा फैसला ले सकती है। दरअसल मौजूदा कर कानून को दुरुस्त करने का काम पूरा हो चुका आगे पढ़ें »

ऊपर