गिरिराज ने चुनावी सभा में दिया विवादित बयान, प्राथमिकी दर्ज

पटनाः लोकसभा चुनाव के दौरान नेताओं ने भाषा की मर्यादा को ताक पर रख दिया है। कई नेता चुनावी रैलियों के दौरान विवादित बयान देते देखे जा रहे हैं। ताजा मामला बिहार के बेगूसरय का है। बिहार के बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र के राजग प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बुधवार को एक चुनावी सभा के दौरान अल्पसंख्यकों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला बयान दिया था। जिसपर जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिलाधिकारी राहुल कुमार ने संज्ञान लेते हुए गिरीराज के खिलाफ गुरुवार को नगर थाने में आदर्श आचार संहिता उल्लंघन का मामला दर्ज कराया है।

धार्मिक भावनाओं को पहुंचाया ठेस

24 अप्रैल को जीडी कॉलेज में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार गिरिराज सिंह ने अपने चुनावी सभा में संबोधन के क्रम में अल्पसंख्यकों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला वक्तव्य दिया था। दरअसल गिरिराज ने कहा था, ‘जो वंदेमातरम नहीं कह सकता, जो भारत की मातृभूमि को नमन नहीं कर सकता… ‘अरे गिरिराज के तो बाबा-दादा सिमरिया घाट में गंगा के किनारे मरे। उसी भूमि पर कब्र भी नहीं बनाया। तुम्हें तो तीन हाथ की जगह भी चाहिए। अगर तुम नहीं कर पाओगे, तो देश कभी माफ नहीं करेगा।’

बयान पर मामला दर्ज

जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा है कि बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार गिरिराज सिंह का उपरोक्त वक्तव्य अल्पसंख्यकों के धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाता है और यह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। उन्‍होंने गिरिराज सिंह पर आरपी एक्ट 1951 की धारा- 125, 123, आइपीसी एक्ट, 153 ए, 153 बी, 295 ए, 171 सी, 188, 298 तथा 505 दो के तहत गुरुवार को नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर