बच्चे को जन्म देने के एक सप्ताह बाद महिला की डेंगू से मौत

शेयर करे

कोलकाता: राजधानी में बढ़ रहे डेंगू की वजह से लोगों की मुश्किलें बढ़ गई है। इसी बीच कोलकाता में 33 साल की महिला बच्चे को जन्म देने के एक सप्ताह बाद डेंगू की वजह से मौत हो गई। पति ने 3 अस्पतालों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। पश्चिम बंगाल में आए दिन डेंगू के मामलों की संख्या में तेजी से वृद्धि देखी जा रही है। डेंगू के कारण होने वाली मौतों की संख्या भी उतनी ही चिंताजनक है। डेंगू की चपेट में एक 33 वर्षीय महिला भी आ गई। महिला ने बच्चे को जन्म दिया। बच्चे के जन्म के एक सप्ताह बाद ही महिला की मृत्यु हो गई। इसके बाद महिला के पति ने कोलकाता के तीन अस्पतालों पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

क्या है पूरा मामला ?

दरअसल, पायल नंदी ने 26 अगस्त को मातृ भवन अस्पताल में एक बच्चे को जन्म दिया था। उनके पति राकेश बसु के मुताबिक, डिलीवरी के बाद वह ठीक थीं, लेकिन अगले दिन उन्हें बुखार हो गया। कथित तौर पर डॉक्टरों ने दंपति को बताया कि प्रसव के बाद इस तरह का बुखार सामान्य है। लेकिन उसके अगले दिन दंपति को झटका लगा जब डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि पायल को डेंगू बुखार हो गया है। उनके पति राकेश ने मीडियो को बताया कि अस्पताल अधिकारियों ने कहा कि वे पायल को वहां नहीं रख सकते। उन्होंने कहा कि उसे जबरदस्ती छुट्टी दे दी गई। इसके बाद राकेश पायल को कोलकाता के निजी आइरिस अस्पताल ले गए। उन्होंने आरोप लगाया कि वहां भी उनकी पत्नी को उचित इलाज नहीं किया गया। जिसके बाद उन्होंने उन्हें 31 अगस्त को पियरलेस अस्पताल में ट्रांसफर कर दिया।

हालत बिगड़ने के बाद हुई मौत

2 सितंबर को हालत बिगड़ने के बाद पायल की अस्पताल में मौत हो गई। वह अपने सात दिन के बेटे को पीछे छोड़ गई। जब महिला की हालत ज्यादा बिगड़ गई तब उन्हें आईसीयू में भर्ती किया गया, लेकिन इलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया। महिला के पति ने मीडिया से कहा कि उसकी नसें फेल हो गई थी, लेकिन मुझे यकीन है कि डॉक्टरों ने लापरवाही की है। मैं खून या कुछ और दे सकता था, लेकिन उन्होंने बहुत देर से कदम उठाया। जब मैंने उसे यहां भर्ती कराया तो उन्होंने कहा कि वह ठीक हो जाएगी। लेकिन उचित ध्यान नहीं दिया गया। मुझे न्याय चाहिए। मां की मौत के बाद नवजात बच्चे की देखभाल फिलहाल पायल के माता-पिता कर रहे हैं। घटना को लेकर पीयरलेस अस्पताल के डॉ. सुदीप्तो मित्रा ने कहा कि महिला की मौत बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है, खासकर तब जब उन्होंने बच्चे को जन्म दिया था। हमने अपने स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया। उसे एनीमिया और डेंगू था। अस्पताल में भर्ती करने के दौरान उसकी स्थिति बहुत खराब थी। अगर परिवार शिकायत करना चाहता है, तो वे राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग में जाकर भी कर सकते हैं।

Visited 93 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : देवों के देव शिव शंभू, शिव शंकर साल का सबसे प्रिय माह श्रावण मास माना जाता है। इस
तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा सितंबर और चौथे सेमेस्टर की परीक्षा मार्च में कोलकाता : 12 साल बाद उच्च माध्यमिक के
हावड़ा : तीन युवकों पर शनिवार को 12 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म कर उसे दफनाने का आरोप लगा
कल मुहर्रम पर महानगर में सुरक्षा चाक-चौबंद, ट्रैफिक होगी प्रभावित करीब 4 हजार पुलिस कर्मी रहेंगे तैनात कल शहर में
कोलकाता : 6 दोस्त मंदारमणि की यात्रा पर गए थे। सभी लोग समुद्र में स्नान करने गये। तभी 2 लोगों
रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया हुई शुरू कोलकाता : माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कक्षा 9 की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है। इसे
एक नजर प्याज : 50 रु. प्रति किलो टमाटर : 100 रु. प्रति किलो कोलकाता : पश्चिम बंगाल टास्क फोर्स
संजय मुखर्जी को बनाया गया डीजी दमकल कोलकाता : लोकसभा चुनाव और विधानसभा के उपचुनाव खत्म होते ही एक बार
कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश के बाद ईबी व टास्क फोर्स द्वारा मिलकर महानगर के विभिन्न बाजारों में
कोलकाता : कोलकाता में सोमवार को भगवान जगन्नाथ के 53वां उल्टा रथयात्रा का आयोजन किया गया। इस्कॉन कोलकाता के सौजन्य
कोलकाता : महानगर व आसपास क्षेत्रों के 19 अहम ब्रिज और फ्लाईओवर की मरम्मत की जायेगी। केएमडीए ने इसकी तालिका
कोलकाता : राज्य के मोटर ट्रेनिंग स्कूलों पर परिवहन विभाग द्वारा नकेल कसी जाने के लिये कई अहम कदम उठाये
ऊपर