जायडस की विराफिन को DCGI की मंजूरी

नई दिल्ली कोरोना मरीजों के इलाज में तेजी लाने के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने शुक्रवार को जाइडस कैडिला की दवा विराफिन (Virafin) के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। इस दवा का इस्तेमाल 18 साल से ज्यादा उम्र के मरीजों के इलाज के लिए किया जा सकता है। 

कंपनी ने दावा किया है कि दवाई खाने के बाद 7 दिन में 91.15 फीसदी कोरोना पीड़ितों का RT-PCR टेस्ट पॉजिटिव से निगेटिव हो गया। इसके इस्तेमाल से कोरोना मरीजों को जल्दी ठीक होने में मदद मिलती है और बीमारी के एडवांस स्टेज में होने वाली जटिलताओं से बचा जा सकता है।

इस दवा को भारत के 25 केंद्रों में करीब 250 मरीजों पर टेस्ट किया गया। इस दौरान यह देखा गया है कि Pegylated Interferon Alpha 2b के इस्तेमाल पर मरीजों को सप्लीमेंट ऑक्सीजन की कम आवश्यकता महसूस हुई। इसका मतलब है कि ये दवा रेसपिरेटरी डिस्ट्रेस और विफलता को कंट्रोल करने में सक्षम रही है, जो अभी तक कोविड-19 मरीजों के इलाज में सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक रहा है।

गौरतलब है कि देश में अभी तक कोरोना मरीजों के इलाज के लिए रेमेडिसिविर दवा का इस्तेमाल किया जा रहा है। ये एक एंटी-वायरल दवा है, जिसे इबोला महामारी के दौरान पहचान मिली थी। कथित तौर पर ये दवा शरीर में वायरस को बढ़ने से रोकती है। हालांकि सरकार के मुताबिक, रेमडेसिविर लाइफ सेविंग दवा नहीं है। रेमडेसिविर पर WHO का कहना है कि ये गंभीर परिस्थितियों में असर नहीं करती। दवा के कई सारे साइड इफेक्ट हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अक्षय तृतीया पर इन चीजों का करें दान, खुल जायेगी बंद किस्मत

कोलकाता : हिंदू धर्म में तप, व्रत, दान और तीर्थ का विशेष महत्त्व है l जो व्यक्ति विधि-विधान से व्रत रखकर तप और दान-पुण्य करता है आगे पढ़ें »

शुक्रवार के दिन करें मां लक्ष्मी की पूजा, घर की दरिद्रता होगी दूर

कोलकाता : हर कोई घर में सुख-समृद्धि और धन की वृद्धि के लिए मां लक्ष्मी की उपासना करते हैं l धन की देवी को प्रसन्न आगे पढ़ें »

ऊपर