पीरियड्स में महिला की आंख से निकले खून के आंसू

चंडीगढ़ : मेडिकल साइंटिस्ट्स के सामने कभी-कभी ऐसे केस आते हैं जो किसी को भी हैरान कर देते हैं। चंडीगढ़ की एक महिला की आंखों से खून के आंसू निकलने लगे लेकिन इसके पीछे कारण कोई चोट नहीं थी। दो महीने में दूसरी बार जब आंखों से खून के आंसू निकले तो महिला इमर्जेंसी रूम पहुंची। इस कंडीशन को हीमोलैक्रिया कहते हैं जिसके अलग-अलग कारण हो सकते हैं। इस महिला के केस में पीरियड्स के दौरान ऐसा हो रहा था जिससे यह केस और भी दुर्लभ हो गया। पीरियड्स के दौरान कभी-कभी यूटरस के बाहर भी खून निकल सकता है जिसे विकेरियस मेंस्ट्रुएशन कहते हैं। केस की रिपोर्ट में रिसर्चर्स ने बताया है कि इस महिला का केस दो दुर्लभ कंडीशन्स के साथ आने पर बना है। दरअसल, जब डॉक्टरों ने महिला की आंखों की जांच की तो उन्हें कोई चोट या दर्द नहीं मिला। किसी और बीमारी का लक्षण भी नहीं मिला।
दूसरे अंगों से निकल सकता है खून
नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नॉलजी इन्फर्मेशन की रिपोर्ट में कहा गया है कि सभी संभावनाओं को खारिज करने के बाद पाया गया कि महिला को पीरियड्स की वजह से खून के आंसू निकल रहे थे। इस कंडीशन में आंख-कान से लेकर फेफड़े और आंतों तक से खून निकल सकता है। महिला ने यह भी बताया कि उसकी नाक से खून भी निकल चुका है। दरअसल, आंखों के कुछ टिशूज में हॉर्मोन्स के कारण बदलाव भी हो सकते हैं। महिला को दवा दी गई और तीन महीने हॉर्मोनल थेरेपी की गई। इसके बाद उसकी आंख से खून निकलना बंद हो गया। डॉक्टरों ने अपनी रिपोर्ट में लिखा, ‘यह एक दुर्लभ और असामान्य क्लिनिकल केस है।’ उनके मुताबिक हाल के समय में ऐसा केस नहीं देखा गया है। हालांकि, इस बारे में और ज्यादा स्टडी की जरूरत बताई गई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वोटों का ध्रुवीकरण बिगाड़ सकता है श्रीरामपुर-चांपदानी का समीकरण

वोटरों की शांति बयां कर रही है परिवर्तन की कहानी ! सन्मार्ग संवाददाता हुगली : चौथे चरण के चुनाव में हुगली की दो सीटें श्रीरामपुर और चांपदानी आगे पढ़ें »

प्रतिवाद, सत्ता और अस्तित्व की लड़ाई का अखाड़ा बना सिंगुर

सिंगुर के महासंग्राम में 'साइलेंट' वोटर्स ने दिया त्रिमुखी लड़ाई को अंजाम हर किसी को है अपनी जीत का भरोसा सन्मार्ग संवाददाता सिंगुर : बंगाल की सियासत का आगे पढ़ें »

ऊपर