गुजरात के बाद कर्नाटक के स्‍कूलों में पढ़ाई जाएगी गीता?

नई दिल्ली : कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा है कि ‘भगवद्गीता’ नैतिक मूल्य प्रदान करती है और इसे स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रम में शामिल करने का फैसला चर्चा के बाद किया जाएगा। सरकार द्वारा स्कूली पाठ्यक्रम में भगवद गीता को शामिल करने से जुड़े सवाल पर बोम्मई ने कहा, ”यह गुजरात में किया गया है और हमारे मंत्री का कहना है कि वह इस पर चर्चा करेंगे। देखते हैं कि शिक्षा विभाग क्या विवरण लेकर सामने आता है।” दरअसल, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित गुजरात ने घोषणा की थी कि शैक्षणिक वर्ष 2022-23 से राज्य में कक्षा छठी से 12वीं के लिए भगवद् गीता स्कूली पाठ्यक्रम का हिस्सा होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शिक्षक नियुक्ति में दुर्नीति को लेकर राज्य भर में विपक्ष का प्रदर्शन

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शिक्षक नियुक्ति में दुर्नीति के विरोध में राज्य भर में माकपा की ओर से विक्षोभ दिखाया गया। इसके अलावा एकाधिक वाम छात्र आगे पढ़ें »

ऊपर