डेक्सटर सीरीज में ऐसा क्या था? जिसे देख आफताब को मिला खौफनाक आइडिया

नई दिल्लीः दिल्ली के श्रद्धा मर्डर केस ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है। 27 साल की श्रद्धा वॉकर को उसके लिव-इन पार्टनर आफताब पूनावाला ने बेहद क्रूरता से मार डाला। बॉडी को ठिकाने लगाने के लिए आफताब ने उसके 35 टुकड़े किए और अगले कई हफ्तों तक इन टुकड़ों को पॉलिथीन बैग्स में भरकर, थोड़ा थोड़ा कर जंगल में डंप करता रहा।

पुलिस की जांच में मामले की जो डिटेल्स सामने आई हैं उससे किसी की भी रूह कांप जायेगी। पूरा मामला जानने के बाद हर कोई यही सोच रहा है कि इस किस्म की हत्या करने के लिए आफताब के अंदर कितनी हिंसा भरी रही होगी। एक लाजमी सा सवाल है कि अपनी लिव-इन पार्टनर की हत्या करने के बाद, इस वीभत्स तरीके से डेड बॉडी से छुटकारा पाने का आईडिया आफताब को कहां से मिला? रिपोर्ट्स के अनुसार, आफताब ने पुलिस को बताया है कि ये आईडिया उसे एक मशहूर अमेरिकन क्राइम सीरीज ‘डेक्सटर’ से आया।

विजिलांते जस्टिस करने वाला फॉरेंसिक एक्सपर्ट- डेक्सटर
शो का लीड किरदार डेक्सटर मॉर्गन एक काल्पनिक जांच एजेंसी, मियामी मेट्रो पुलिस डिपार्टमेंट का फॉरेंसिक टेक्नीशियन था। वो दिन में तो अपने डिपार्टमेंट के लिए अपराधों की गुत्थियां सुलझाता था, लेकिन रात में एक विजिलांते सीरियल किलर की जिंदगी जीता था। रात के अंधेरे में डेक्सटर उन अपराधियों को खोजकर हत्या करता था जिन्हें उसके अनुसार, न्याय व्यवस्था पर्याप्त सजा नहीं दे पाती थी।

शो के पहले सीजन में उसका हत्या करने का तरीका ये था कि वो अपने विक्टिम की बॉडी को टुकड़ों में काट देता था और टुकड़ों को काले गार्बेज बैग्स में भरकर गाड़ी से अपनी बोट तक लाता था। इसके बाद वो इन बैग्स का वजन बढ़ाने के लिए इनमें पत्थर भरकर डक्ट टेप से सील कर देता था और गहरे समंदर में फेंक देता था।

आफताब ने शो किया फॉलो 
आफताब ने पुलिस को बताया कि वो श्रद्धा को ‘चुप कराना’ चाहता था, लेकिन हाथापाई में उसका गला घोंट बैठा। उसने ये भी कहा कि श्रद्धा की डेड बॉडी को स्टोर करने के लिए उसने एक नया फ्रिज भी खरीदा था और अगले दो-तीन महीने टुकड़ों को ठिकाने लगाने के लिए उसने महरौली के जंगल में कई चक्कर लगाए। रिपोर्ट के अनुसार पुलिस सूत्रों ने बताया कि उसने पहले श्रद्धा की आंतें निकाल कर ठिकाने लगाईं ताकि वो जल्दी डिकम्पोज हो जाए।

‘डेक्सटर’ से पहले भी इंस्पायर हो चुके हैं अपराधी 
अप्रैल 2011 में कनाडा के एक फिल्ममेकर मार्क एंड्रू ट्विचेल को 38 साल के एक व्यक्ति के ‘फर्स्ट डिग्री मर्डर’ का दोषी पाया गया था। मार्क ने अपने विक्टिम की हत्या इसी तरह की थी और उसके बॉडी पार्ट्स को सीवर में ठिकाने लगाया था। मार्क के ट्रायल में कोर्ट ने नोट किया कि वो डेक्सटर मॉर्गन से बहुत रिलेट करता था, जिसके बाद कई मीडिया रिपोर्ट्स में उसे ‘द डेक्सटर किलर’ भी कहा गया। मार्क ने ‘डेक्सटर’ शो की तरह अपना एक ‘किल रूम’ भी बनाया था।

इसी तरह 2014 में, डेक्सटर के किरदार से ऑब्सेस्ड, अमेरिका के एक टीनेजर का क्राइम भी सामने आया था। इस लड़के ने अपनी 17 साल की गर्लफ्रेंड की हत्या इसी भयानक तरीके से की थी, जिसके लिए उसे 25 साल जेल की सजा हुई।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएए लागू होने से कोई नहीं रोक सकता : शुभेंदु

कहा, साबित करें ​कि मैंने सीएम के पैर छूए सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा में सौजन्यता की राजनीति को भूलते हुए शनिवार को विपक्ष के नेता शुभेंदु आगे पढ़ें »

हाई कोर्ट ने खड़े किए हाथ, कहा : सुप्रीम कोर्ट जाएं

हीरा की रद्दगी और रेरा की बहाली से जुड़ा एक उलझा हुआ सवाल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल चार मई को पश्चिम बंगाल आगे पढ़ें »

ऊपर